BREAKING NEWS

रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने भारत को एक बहुत बड़ी शक्ति, वक्त की कसौटी पर खरा उतरा मित्र बताया◾पंजाब के मुख्यमंत्री ने पाकिस्तान के साथ सीमा व्यापार खोलने की वकालत की◾महाराष्ट्र में आए ओमिक्रॉन के 2 और नए केस, जानिए अब कितनी हैं देश में नए वैरिएंट की कुल संख्या◾देश में 'ओमिक्रॉन' के बढ़ते प्रकोप के बीच राहत की खबर, 85 फीसदी आबादी को लगी वैक्सीन की पहली डोज ◾बिहार में जाति आधारित जनगणना बेहतर तरीके से होगी, जल्द बुलाई जाएगी सर्वदीय बैठक: नीतीश कुमार ◾कांग्रेस ने पंजाब चुनाव को लेकर शुरू की तैयारियां, सुनील जाखड़ और अंबिका सोनी को मिली बड़ी जिम्मेदारी ◾दुनिया बदलीं लेकिल हमारी दोस्ती नही....रूसी राष्ट्रपति पुतिन से मुलाकात में बोले PM मोदी◾UP चुनाव को लेकर प्रियंका ने बताया कैसा होगा कांग्रेस का घोषणापत्र, कहा- सभी लोगों का विशेष ध्यान रखा जाएगा◾'Omicron' के बढ़ते खतरे के बीच MP में 95 विदेशी नागरिक हुए लापता, प्रशासन के हाथ-पांव फूले ◾महबूबा ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- यहां गोडसे का कश्मीर बन रहा◾अखिलेश सरकार में होता था दलितों पर अत्याचार, योगी बोले- जिस गाड़ी में सपा का झंडा, समझो होगा जानामाना गुंडा ◾नागालैंड मामले पर लोकसभा में अमित ने कहा- गलत पहचान के कारण हुई फायरिंग, SIT टीम का किया गया गठन ◾आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾

संगठन मजबूती की कोशिशों के साथ जनता से जुड़ने के प्रयास कर रही JDU, CM नीतीश लगा रहे 'जनता दरबार'

बिहार में पिछले साल विधानसभा चुनाव में राज्य में तीसरे नंबर की पार्टी बनने के बाद जनता दल (युनाइटेड) ना केवल संगठन विस्तार में जुटी है बल्कि लोगों से सीधे तौर पर जुड़ने का प्रयास भी कर रही है। माना जा रहा है कि यही कारण है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर जनता दरबार लगाने लगे। राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (रालोसपा) के विलय के जनता दल (युनाइटेड ) में विलय के बाद जदयू में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा को जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष बनाया गया। इसके बाद से ही वे संगठन को मजबूत करने में लगे हुए हैं। 

पहले इसकी जिम्मेदारी अध्यक्ष आर सी पी सिंह खुद संभालते थे, लेकिन कहा जा रहा है केंद्रीय मंत्री बनने के बाद वे इस कार्य में ज्यादा समय नहीं दे रहे हैं। इधर, कुशवाहा संगठन और आम लोगों से पार्टी को जोड़ने का अभियान लेकर 'बिहार यात्रा' पर निकले हैं। कुशवाहा प्रत्येक जिले में पुहंच रहे हैं और जमीनी कार्यकर्ताओं से मिलकर उनमें उत्साह का संचार कर रहे हैं। जदयू के एक नेता भी नाम नहीं प्रकाशित करने की शर्त पर कहते हैं कि बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम में पार्टी के रणनीतिकारों को पार्टी को मजबूत करने के लिए फिर से रणनीति बनाने को मजबूर कर दिया।

उन्होंने कहा कि पार्टी के बडे नेता भी मानते हैं कि राज्य में भले ही राजग की सरकार बन गई हो, लेकिन 'बडे भाई' की भूमिका में सहयोगी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पहुंच चुकी है। पार्टी के नेता फिर से कार्यकर्ताओं में जोश भरने में जुटे हैं। कुशवाहा अलग-अलग चरणों में बिहार के सभी जिलों में जाकर कार्यकर्ताओं से मिलकर उनकी समस्याओं को भी जान रहे हैं और संगठन की मजबूती को लेकर काम भी कर रहे हैं। इधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी जनता दरबार कार्यक्रम प्रारंभ कर चुके हैं। 

कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री पहले भी विभिन्न यात्राओं के माध्यम से विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत जानने के लिए राज्य का दौरा करते थे तथा जनता दरबार भी लगाते थे, लेकिन बाद में उन्होंने इसे बंद कर दिया। माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद मुख्यमंत्री फिर से जनता दरबार कार्यक्रम में शामिल होकर लोगों की समस्या सुन रहे हैं और उसके निराकरण के लिए निर्देश दे रहे हैं।

इधर, जदयू के प्रवक्ता और विधान पार्षद नीरज कुमार कहते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहचान अलग प्रकार की राजनीति रही है। वे राजनीति के साथ समाज सुधार को भी प्राथमिकता में रखते हैं। उन्होंने कहा कि सभी दल अपने संगठन के विस्तार में लगे रहते हैं। मुख्यमंत्री ने लोगों से सीधे संवाद के लिए कई कार्यक्रम प्रारंभ किए। जनता दरबार के जरिए मुख्यमंत्री एकबार फिर लोगों से सीधे संवाद प्रारंभ कर उनकी समस्याओं को सुन रहे हैं और उसका निराकरण कर रहे हैं।