BREAKING NEWS

आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾आज भारत पहुंचेंगे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, पीएम मोदी के साथ होगी शिखर वार्ता, ये होंगे मुद्दे ◾मथुरा में पुलिस का चप्पे-चप्पे पर पहरा, ड्रोन और सीसीटीवी से रखी जा रही नजर, अयोध्या में भी हाई अलर्ट ◾पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आप नेता के अवैध खनन के आरोप को किया खारिज◾

सुशासन सरकार के सहयोगी विधायक ने लॉकडाउन का किया उल्लंघन : मंजूबाला पाठक

पटना : बिहार महिला कांग्रेस की पूर्व उपाध्यक्ष मंजूबाला पाठक ने कहा कि हिसुआ के भाजपा विधायक अनिल सिंह ने लॉकडाउन का  उल्लंघन किया। ये कैसी विडंबना है कि एक तरफ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा बाहरी छात्रों को बसों से यूपी लाने का विरोध कर रहें हैं और वहीं अपने सूबे के सत्ता के सहायक दल के विधायक को अपनी बेटी को लाने का वाहन पास उन्हीं की सरकार के तंत्र द्वारा निर्गत किया जाता है। क्या लॉकडाउन में इतनी भेदभाव बिहार सरकार द्वारा उचित है?

मंजूबाला  ने कहा कि बिहार के लाखों मजदूर जो देश के अलग- अलग राज्यों में फंसे हैं। उनको भोजन में कठिनाई है। बेचारे भुख से तड़प रहे हैं परन्तु बिहार सरकार सुध नहीं ले रही हैं। और ना ही उन्हें कोई पर्याप्त मदद सरकार द्वारा दी जा रही हैं। देश का मध्यम वर्ग, मजदूर और किसान बहुत परेशान है, पर सरकार उनके कष्टों के निवारण के लिए उचित कदम नहीं उठा रहीं है। बिहार के चंपारण में गन्ना किसानों की स्थिति ठीक नहीं हैं। किसान वितिय संस्थानों से और महाजनों से कर्ज लेकर खेती करते हैं परन्तु गन्ना भुगतान अभी तक नहीं हुआ। 

लोकतंत्र मजबूत तभी होता है जब किसी भी विषय पर निर्णय सर्वसम्मति से हो और साथ ही उसका अनुपालन सभी के लिए बराबर हो। परन्तु बिहार में पक्षपात बिहार सरकार द्वारा बिल्कुल ही लोकतंत्र के लिए भयावह है। गरीब और मजदूर जो बिहार से बाहर इस लॉकडाउन में फंसे हैं वो बेचारे इस आस में बैठे है कि बिहार और केंद्र सरकार कोई सुध लेगी किंतु बिहार सरकार अपने विधायकों की सुध ले रहीं हैं परन्तु अपने मजदूरों कि कोई परवाह नहीं करती। 

मजदूर तो बाहर फंसे ही हैं और उनके परिजन भी परेशान है कि बेचारे इस लॉकडाउन में उनके अपने लोग किस हाल में होंगे। बहुत से मजदूरों के परिवार की चूल्हे नहीं जलते । बहुत से अप्रवासी मजदूर अपना झोला उठाए पैदल ही अपने गंतव्य तक चल दिए हैं। रास्ते में उनकी सुध लेने वाला कोई प्रशासनिक या सरकारी तंत्र नहीं है। कमोबेश यही हाल किसानों का भी हैं। फसलों की बुआई प्रभावित हो रही हैं। सुगमतापूर्वक खाद और बीज उपलब्ध नहीं हैं। किसानों के पास पैसा की भी कमी हैं। जो आर्थिक क्षमता थी वो पूर्व के फसल में लगा दिए परंतु गन्ना भुगतान अभी तक हुआ नहीं। 

देश में महामारी चल रहीं हैं परन्तु रसूखदार और सरकार के नुमाइंदे अपनी मर्जी और सरकार के तंत्रों के मदद से अपनी मनमानी कर रहें हैं, और  बिहार के मुखिया के सरकारी तंत्र के मदद से हो रहा है परन्तु सूबे के मुखिया के कानों पे चूं तक नहीं रेंगती। इसका ताजा उदाहरण भाजपा विधायक अनिल सिंह का लॉकडाउन का उल्लंघन है। मैं  बिहार सरकार मांग करती हूं कि  बाहर फंसे मजदूरों को वापस बुलाए और उनके सहायतार्थ अविलंब फंड की घोषणा करें साथ ही भाजपा विधायक अनिल सिंह मामले पर सूबे के मुख्यमंत्री स्पष्टीकरण जनता के बीच दें।