BREAKING NEWS

त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾BJP प्रवक्ता ने फूलन देवी को कहा 'डकैत', अखिलेश ने बताया 'निषाद समाज' का अपमान ◾तमिलनाडु बारिश : चेन्नई के कई इलाकों में जलभराव, IMD ने तटीय जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट ◾गौतम गंभीर की जान को खतरा, ISIS कश्मीर ने तीसरी बार दी धमकी, कहा- कुछ नहीं कर सकती IPS श्वेता ◾महाराष्ट्र सरकार के 2 साल हुए पूरे, सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा- एमवीए सरकार ने आपदा को अवसर में बदला◾वाट्सऐप पर पेपर लीक के चलते रद्द हुआ UPTET एग्जाम, STF की टीम ने शुरू की धर-पकड़ ◾

NDA की जीत पर बोली BJP-सत्ता विरोधी लहर को झुठलाया, CM बने रहेंगे नीतीश

बीजेपी ने बिहार विधानसभा चुनावों में एनडीए की धमाकेदार जीत का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कल्याणकारी योजनाओं को दिया और कहा कि सत्ताविरोधी लहर को झुठलाकर नीतीश कुमार सरकार को चौथे कार्यकाल के लिए जनादेश मिला है। नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए ने 243 सीटों में से 125 सीटों पर जीत प्राप्त कर बहुमत का जादुई आंकड़ा हासिल कर लिया है।

बिहार बीजेपी के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने स्पष्ट किया कि कुमार बिहार में एनडीए सरकार के मुखिया बने रहेंगे और कहा कि बीजेपी और जेडीयू के बीच सीटों की संख्या में अंतर से राज्य में सत्तारूढ़ गठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। यह पूछने पर कि क्या कुमार मुख्यमंत्री बने रहेंगे तो जायसवाल ने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर, सौ फीसदी।’’ 

दिग्विजय बोले-नीतीश को बड़ा दिल कर तेजस्वी के लिए CM पद की कर देनी चाहिए अनुशंसा

उन्होंने कहा, ‘‘हम सहयोगी हैं और बराबर हैं। हमें मिलकर बिहार चलाना है।’’ जायसवाल ने कहा, ‘‘चौथी बार चुनाव जीतना किसी के लिए भी बड़ा काम है। हमने जीत हासिल की है। यह साबित करता है कि हर चीज ठीक है। लगातार चौथी बार जीत हासिल करना दुर्लभ है। हमने ऐसा किया है।’’ 

यह पूछने पर कि कड़े मुकाबले वाले चुनाव में एनडीए के पक्ष में जनता का रूझान कैसे बना रहा तो उन्होंने कहा कि यह गरीबों के लिए मोदी सरकार के कल्याणकारी कार्यक्रमों की बदौलत हुआ। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री ने गरीबों के लिए जो किया है... उन्होंने उन्हें बिजली, गैस सिलेंडर और शौचालय दिए। कोरोना वायरस फैलने के बाद उन्हें आठ महीने तक मुफ्त राशन दिया गया । ये बड़े कारण रहे।’’ 

चिराग पासवान नीत लोक जनशक्ति पार्टी द्वारा एनडीए को किए गए नुकसान के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि एलजेपी ने कई सीटों पर बीजेपी को भी नुकसान पहुंचाया। जायसवाल ने दावा किया कि अगर एलजेपी नहीं होती तो बीजेपी ने राजद नेता तेजस्वी यादव को राघोपुर विधानसभा क्षेत्र में भी हरा दिया होता। बहरहाल, उन्होंने कहा कि एलजेपी बड़ा कारक नहीं रहा बल्कि बीजेपी और जेडीयू दोनों के बागी कारण रहे जिन्होंने राज्य में कई सीटों पर एनडीए की संभावना को नुकसान पहुंचाया। 

यह पूछने पर कि क्या सत्तारूढ़ गठबंधन में एलजेपी को जगह मिलेगी तो उन्होंने कहा कि यह बीजेपी का संसदीय बोर्ड तय करेगा, जो भगवा दल का शीर्ष निकाय है। बहरहाल, उन्होंने कहा कि बिहार में एनडीए का मतलब है बीजेपी, जेडीयू, विकासशील इंसान पार्टी और जीतन राम मांझी की हम। गौरतलब है कि 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में सत्तारूढ़ गठबंधन को 125 सीटें हासिल हुईं, जबकि विपक्षी महागठबंधन को 110 सीटें मिलीं। सभी दलों में सफलता का प्रतिशत सबसे अच्छा बीजेपी का रहा जिसने 110 सीटों पर चुनाव लड़कर 73 सीटों पर जीत दर्ज की। सहयोगी वीआईपी और हम (एस) ने चार-चार सीटों पर जीत दर्ज की।