BREAKING NEWS

हर घर तिरंगा अभियान : शौर्य चक्र से सम्मानित सिपाही औरंगजेब की मां ने अपने घर पर फहराया 'तिरंगा'◾दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾काले कपड़ों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर PM मोदी ने कसा तंज, कहा- जनता भरोसा नहीं करेगी...◾जब नीतीश कुमार ने कहा था - येन केन प्रकारेण सत्ता प्राप्त करूंगा, लेकिन अच्छा काम करूंगा◾न्यायमूर्ति यू यू ललित होंगे सुप्रीमकोर्ट के नए प्रधान न्यायधीश ◾दिग्गज कारोबारी अडानी को जेड प्लस सिक्योरिटी, आईबी ने दिया था इनपुट◾शपथ लेने के बाद नीतीश की गेम पॉलिटिक्स शुरू, मोदी के खिलाफ कर सकते हैं ये बड़ा काम ◾नुपूर को सुप्रीम राहत, जांच पूरी न होने तक नहीं होगी गिरफ्तारी, सभी एफआईआर को एक साथ जोड़ा ◾ ‘‘नीतीश सांप है, सांप आपके घर घुस गया है।’’, भाजपा नेता गिरिराज ने याद की लालू की पुरानी बात ◾ सुनील बंसल का बीजेपी में बढ़ा कद, बनाए गए पार्टी महासचिव◾पिता जेल में तो संभाली पार्टी की कमान, 75 सीट जीतकर किया धमाकेदार प्रदर्शन, जानिए तेजस्वी के संघर्ष की कहानी ◾बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव◾

नीतीश ने गंगा नदी के आसपास के इलाकों का दौरा किया और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति को देखा

बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को सड़क मार्ग से पटना के आसपास के गंगा के कई इलाकों तथा विभिन्न घाटों का जायजा लेने के साथ इस नदी के किनारे अवस्थित अन्य बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया । कुमार ने बुधवार को सड़क मार्ग से पटना के आसपास के गंगा के कई इलाकों तथा विभिन्न घाटों का जायजा लिया।इस दौरान उन्होंने गंगा के दक्षिणी छोर के दीघा घाट, भद्रघाट, कंगन घाट एवं गांधी घाट का जायजा लिया।

उन्होंने जेपी सेतु होते हुये सोनपुर एवं हाजीपुर के क्षेत्रों का भी जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने सड़क मार्ग से निरीक्षण करने के उपरांत गंगा नदी के बढ़ते जलस्तर के कारण दीघा से मोकामा तक, राघोपुर, बख्तियारपुर, पंडारक, बाढ़ से सटे दियारा इलाकों, मोकामा के टाल इलाकों, समस्तीपुर के मोहद्दीनगर, बेगूसराय के बछवाड़ा एवं अन्य बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया। हवाई सर्वेक्षण से लौटने के बाद मुख्यमंत्री ने यहां यहां संकल्प में आपदा प्रबंधन विभाग एवं जल संसाधन विभाग के साथ गंगा नदी के बढ़ते जलस्तर के मद्देनजर बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की।

उस बैठक में संबद्ध 12 जिलों- बक्सर, भोजपुर, सारण, वैशाली, पटना, समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया, लखीसराय, मुंगेर, भागलपुर एवं कटिहार जिले के जिलाधिकारी भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े। बैठक के दौरान जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस ने नदियों के जलस्तर की अद्यतन स्थिति की जानकारी, रोकथाम के उपायों, राहत एवं बचाव के लिये किये जा रहे कार्यों की तथा आपदा प्रबंधन विभाग के अपर मुख्य प्रत्यय अमृत ने आपदा राहत कार्यों की विस्तृत जानकारी दी।

बक्सर, भोजपुर, सारण, वैशाली, पटना, समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया, लखीसराय, मुंगेर, भागलपुर एवं कटिहार जिले के जिलाधिकारियों ने अपने-अपने जिलों में गंगा नदी के जलस्तर की स्थिति, प्रभावित जनसंख्या की स्थिति, कम्युनिटी किचेन, बाढ़ राहत शिविर, पशु राहत शिविर तथा बाढ़ से बचाव एवं किये जा रहे राहत कार्यों की जानकारी दी।

समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा , ‘‘गंगा नदी का जलस्तर बढ़ रहा है और जैसी कि सूचना है, अभी और बढ़ने की संभावना है। 

इसे देखते हुये सभी जिलाधिकारी पूरी तरह सदैव सतर्क रहें। प्रभावित लोगों से सम्पर्क बनाये रखें और पूरी संवेदनशीलता के साथ सभी की सहायता करें। जल संसाधन विभाग लगातार तटबंधों एवं नदियों के जलस्तर की निगरानी करते रहें एवं इसमें स्थानीय लोगों की भी सहायता लें।’’ उन्होंने निर्देश दिया, ‘‘ पशु राहत शिविर में पशुओं के चारे की पूरी व्यवस्था रखें। विस्थापित लोगों को राहत शिविरों में मानक संचालन प्रक्रिया के अनुसार सारी सुविधायें उपलब्ध करायें। 

बाढ़ राहत शिविर में जन्म लेने वाली बच्ची को 15 हजार रूपये तथा बच्चे को 10 हजार रूपये की राशि देने का पूर्व से ही जो प्रावधान किया गया है इसे लाभार्थियों को तत्काल उपलब्ध करायें।’’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ बाढ़ के दौरान जो सड़कें क्षतिग्रस्त हुयी हैं, जलनिकासी के बाद तुरंत उसकी मरम्मति कार्य करायें। पथ निर्माण विभाग एवं ग्रामीण कार्य विभाग अपने अभियंताओं से बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के पथों की स्थिति का प्रतिदिन अपडेट लें। कृषि विभाग तथा पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जिलाधिकारियों से निरंतर सम्पर्क में रहें।’’

बैठक में जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार एवं चंचल कुमार, आपदा प्रबंधन विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत, जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस, आपदा प्रबंधन विभाग के विशेष कार्य पदाधिकारी संजय कुमार अग्रवाल, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार एवं मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह उपस्थित थे जबकि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण, पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा, पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग की प्रधान सचिव एन0 विजयलक्ष्मी, कृषि विभाग के सचिव एन0 सरवन कुमार, ग्रामीण कार्य विभाग के सचिव पंकज कुमार पाल सहित अन्य वरीय अधिकारीगण एवं 12 जिलों के जिलाधिकारी, वरीय पुलिस अधीक्षक एवं पुलिस अधीक्षक जुड़े हुये थे। 

इससे पूर्व सड़क मार्ग से पटना के आसपास के गंगा नदी के कई इलाकों तथा विभिन्न घाटों का जायजा लेने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कुमार ने कहा,‘‘ वर्ष 2016 में जब गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि हुई थी, उस दौरान गंगा नदी के किनारे वाले 12 जिलों में बाढ़ से बचाव को लेकर पूरी तैयारी की गई थी। हमने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वर्ष 2016 में गंगा नदी के किनारे वाले जिलों में बाढ़ के पानी से जो असर हुआ था, उसे ध्यान में रखते हुए इस बार भी पूरी तैयारी रखें।’’ केन्द्रीय जल आयोग के अनुसार गंगा नदी का जल॑स्तर पटना जिले के दीघाघाट में बुधवार को प्रातः आठ बजे खतरे के निशान से 73 संटीमीटर ऊपर था। 

इसके जलस्तर में कल प्रातः आठ बजे तक 24 सेंटीमीटर वृद्धि होने की सम्भावना है। पटना जिले के गाँघीघाट में गंगा नदी का जलस्तर आज प्रातः छह बजे खतरे के निशान से 125 सेंटीमीटर ऊपर था। इसके जलस्तर में कल प्रातः आठ बजे तक 17 सेंटीमीटर वृद्धि होने की सम्भावना है। पटना जिले के हाथीदह में गंगा नदी का जलस्तर आज प्रातः छह बजे खतरे के निशान से 144 सेंटीमीटर ऊपर था। इसके जलस्तर में कल प्रातः आठ बजे तक 16 सेंटीमीटर वृद्धि होने की संम्भावना है। बिहार के बक्सर जिले में बुधवार को गंगा नदी का जलस्तर आज प्रातः छह बजे खतरे के निशान से 54 सेंटीमीटर ऊपर था। इसके जलस्तर में कल दोपहर 12 बजे तक 18 सेंटीमीटर वृद्धि होने की सम्भावना है।