BREAKING NEWS

CAA पर पीछे हटने का सवाल नहीं : रविशंकर प्रसाद◾बंगाल नगर निकाय चुनाव 2020 : राज्य निर्वाचन आयुक्त मिले पश्चिम बंगाल के गवर्नर से◾दिल्ली हिंसा : आप पार्षद ताहिर हुसैन के घर से मिले पेट्रोल बम और एसिड, हिंसा भड़काने की थी पूरी तैयारी ◾दिल्ली हिंसा : SIT करेगी हिंसा की जांच, मामला अपराध शाखा को भेजा गया ◾TOP 20 NEWS 27 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने लगाई जीत की हैट्रिक, शान से पहुंची सेमीफाइनल में ◾पार्षद ताहिर हुसैन पर लगे आरोपों पर बोले केजरीवाल : आप का कोई कार्यकर्ता दोषी है तो दुगनी सजा दो ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार को 10-10 लाख का मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार◾दिल्ली में हुई हिंसा का राजनीतिकरण कर रही है कांग्रेस और आम आदमी पार्टी : प्रकाश जावड़ेकर ◾दिल्ली हिंसा : केंद्र ने कोर्ट से कहा-सामान्य स्थिति होने तक न्यायिक हस्तक्षेप की जरूरत नहीं ◾ताहिर हुसैन को ना जनता माफ करेगी, ना कानून और ना भगवान : गौतम गंभीर ◾सीएए हिंसा : चांदबाग इलाके में नाले से मिले दो और शव, मरने वालो की संख्या बढ़कर 34 हुई◾दिल्ली हिंसा को लेकर कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन, गृह मंत्री को हटाने की हुई मांग◾न्यायधीश के तबादले पर बोले रणदीप सुरजेवाला : भाजपा की दबाव और बदले की राजनीति का हुआ पर्दाफाश ◾दिल्ली हिंसा : दंगाग्रस्त इलाकों में दुकानें बंद, शांति लेकिन दहशत का माहौल ◾जज मुरलीधर के ट्रांसफर पर बोले रविशंकर- कोलेजियम की सिफारिश पर हुआ तबादला ◾उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीएए को लेकर हुई हिंसा में मरने वालों का आकंड़ा 32 पहुंचा◾दिल्ली हिंसा : जज मुरलीधर के ट्रांसफर को कांग्रेस ने बताया दुखद और शर्मनाक◾दिल्ली हिंसा मामले पर सुनवाई कर रहे जस्टिस एस मुरलीधर का हुआ तबादला ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾

CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला

जद(यू) महासचिव पवन वर्मा ने गुरुवार को कहा कि वह अपनी आगे की रणनीति का फैसला अपने खत पर पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार का जवाब आने के बाद करेंगे और कहा कि उन्हें “देश और पार्टी के लिये जो सही लगेगा वह” बोलना जारी रखेंगे। 

वर्मा की टिप्पणी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के उस बयान के बाद आई है जिसमें उन्होंने मोदी सरकार के नागरिकता से जुड़े फैसलों को लेकर पार्टी के पर चिंता जाहिर करने के लिये जदयू महासचिव को आड़े हाथों लिया था और कहा था कि वह जहां जाना चाहें वहां जाने के लिए स्वतंत्र हैं। 

CM नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को लताड़ा, कहा- जिसको जहां जाना है, जाएं

राज्यसभा के पूर्व सदस्य ने कहा, “मुझे कोई जवाब नहीं मिला है। पार्टी अध्यक्ष का जवाब आने या नहीं आने पर मैं अपनी आगे की रणनीति पर फैसला करूंगा। मुझे जो सही लगता है, जो देश और पार्टी के लिये अच्छा है वह बोलना मैं जारी रखूंगा।” 

संशोधित नागरिकता कानून और राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी की कवायद को लेकर पूर्व राजनयिक ने जद (यू) से अलग रुख अपनाया और अक्सर वह यह दावा करते हैं कि ये कदम तथा भाजपा के एजेंडे में शामिल राष्ट्रीय नागरिक पंजी देश को बांटने वाले हैं। हाल में सोशल मीडिया पर पोस्ट किये गए एक पत्र में वर्मा ने दिल्ली विधानसभा चुनावों में पार्टी के भाजपा के साथ गठजोड़ करने के बाद इस मुद्दे पर कुमार से वैचारिक स्पष्टता की मांग की थी। 

कुमार ने पूर्व में संवाददाताओं से कहा था, “वह एक विद्वान व्यक्ति हैं और मेरे मन में उनके प्रति काफी सम्मान है, भले ही उनके दिल में मेरे लिये ऐसे विचार न हों। लेकिन क्या ये बातें पार्टी के अंदर न रखकर सार्वजनिक रूप से रखना सही है।” वर्मा ने कहा कि उन्होंने यह जानना चाहा था। उनके मन में कुमार के लिये काफी सम्मान है। उन्होंने कहा कि कुमार ने उनके लिये जो कुछ भी किया उसके लिये वे बेहद शुक्रगुजार हैं।