BREAKING NEWS

71वां गणतंत्र दिवस के मोके पर राष्ट्रपति कोविंद राजपथ पर फहराएंगे तिरंगा◾गणतंत्र दिवस पर सैन्य शक्ति, सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का होगा भव्य प्रदर्शन◾अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर हरदीप सिंह पुरी ने दी बधाई ◾पूर्व मंत्रियों अरूण जेटली, सुषमा स्वराज और जार्ज फर्नांडीज को पद्म विभूषण से किया गया सम्मानित, देखें पूरी लिस्ट !◾कोरोना विषाणु का खतरा : करीब 100 लोग निगरानी में रखे गए, PMO ने की तैयारियों की समीक्षा◾गणतंत्र दिवस : चार मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश एवं निकास कुछ घंटों के लिए रहेगा बंद ◾ISRO की उपलब्धियों पर सभी देशवासियों को गर्व है : राष्ट्रपति ◾भाजपा ने पहले भी मुश्किल लगने वाले चुनाव जीते हैं : शाह◾यमुना को इतना साफ कर देंगे कि लोग नदी में डुबकी लगा सकेंगे : केजरीवाल◾उमर की नयी तस्वीर सामने आई, ममता ने स्थिति को दुर्भाग्यपूर्ण बताया◾ओम बिरला ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी◾PM मोदी ने पद्म पुरस्कार पाने वालों को दी बधाई◾भारत और ब्राजील आतंकवाद के खिलाफ आपसी सहयोग बढ़ाने का किया फैसला◾370 के खात्मे के बाद कश्मीर में शान से फहरेगा तिरंगा : अमित शाह◾देशवासियों को बांटने, संविधान को कमजोर करने की हो रही साजिश : सोनिया◾PM मोदी और नेतन्याहू ने फोन पर वैश्विक और क्षेत्रीय मामलों पर चर्चा की◾गांधी शांति यात्रा पहुंची आगरा ◾भारत-नेपाल सीमा पर पहुंचा कोरोना वायरस, बॉर्डर पर होगी स्क्रीनिंग◾ दिल्ली चुनाव : 250 नेता, हर दिन 500 जनसभाएं, इस तरह माहौल बनाने में जुटी है भाजपा◾आर्थिक विकास के लिए संविधान के मुताबिक चलना होगा - कोविंद◾

हमारी पुस्तकें सुरक्षित और संरक्षित रहेंगी तो नई पीढ़ी को इससे लाभ होगा :मुख्यमंत्री

पटना, (जेपी चौधरी) : उप राष्ट्रपति श्री एम0 वेंकैया नायडू, राज्यपाल श्री फागू चैहान एवं मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार, पटना विश्वविद्यालय पुस्तकालय के शताब्दी वर्ष समारोह में शामिल हुये। इस अवसर पर साइंस कॉलेज परिसर में आयोजित कार्यक्रम को उप राष्ट्रपति श्री एम0 वेंकैया नायडू, राज्यपाल श्री फागू चैहान एवं मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने संबोधित किया।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि पटना विश्वविद्यालय पुस्तकालय शताब्दी वर्ष समारोह के इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उप राष्ट्रपति जी का स्वागत एवं अभिनंदन करता  हूॅ। उन्होंने  कहा  कि साइंस  कॉलेज  के  इसी कैंपस में  दो वर्ष पहले  पटना विश्वविद्यालय शताब्दी वर्ष  समारोह कार्यक्रम में प्रधानमंत्री जी आए थे। यह  विश्वविद्यालयकोई  साधारण  विश्वविद्यालय  नहीं है यह अपने समय का एशिया स्तर का बेहतरीन विश्वविद्यालय रहा  है। इसकी  स्थापना अंग्रेजों ने करवायी थी। इसका एक अपना इतिहास

रहा है जिससे सभी वाकिफ हैं। केन्द्र सरकार इसे अगर अपना ले तो एषिया स्तर के इस विख्यात विष्वविद्यालय की प्रतिष्ठा और बढ़ जायेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अपनी तरफ से इस विष्वविद्यालय को विषिष्ट बनाये रखने के लिये धन आवंटन के साथ-साथ अन्य जो भी सहयोग की आवष्यकता होगी, करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुस्तकालय के शताब्दी वर्ष पर उप राष्ट्रपति महोदय ने इस विषिष्ट पुस्तकालय का निरीक्षण भी किया है। इस पुस्तकालय की खासियत है कि यहाॅ तीन लाख से ज्यादा 33 विषयों की पुस्तकें उपलब्ध हैं। पाॅच हजार से ज्यादा धर्मग्रंथ, पांडुलिपियाॅ हैं। 27 प्रकार के बहुमूल्य रत्न हैं। 13 शताब्दी तक की जानकारियाॅ इनसे मिलती हैं। उन्होंने कहा कि पटना विष्वविद्यालय के बारे में इस विष्वविद्यालय के कुलपति एवं उप मुख्यमंत्री ने अन्य जानकारियाॅ भी दी हंै। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुस्तकालय का संरक्षण पूरे तौर पर होना चाहिये।

 हमारी पुस्तकें सुरक्षित और संरक्षित रहेंगी तो नई पीढ़ी को इससे लाभ होगा। उन्होंने कहा कि इस विष्वविद्यालय में पुस्तकालय विज्ञान की स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई होती है, इसमें आप सब पुस्तकालय में पुस्तकों की महता के बारे में छात्रों को बतायें। पुस्तकों के प्रति आकर्षण पैदा करने का भाव बनाये रखना है और नई पीढ़ी को इसके बारे में बताना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विष्वविद्यालय में अध्यापन को और बेहतर बनाने के लिये, राज्य में उच्च षिक्षा को आगे बढ़ाने के लिये हमलोग काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह धरती ज्ञान की भूमि है। 

आज के इस जगह यानी पाटलिपुत्र से एक समय पूरे देष की सत्ता का संचालन होता था। यहाॅ प्रसिद्ध नालंदा विष्वविद्यालय, बिक्रमषिला विष्वविद्यालय रहा है। तेलहाड़ा  विष्वविद्यालय  की  खुदाई  हमलोग करवा रहे हैं। उन्होंने कहा  कि  नालंदा विष्वविद्यालय  में  दस  हजार  छात्र  पढ़ते  थे  और एक हजार षिक्षक पढ़ाते थे। नालंदा विष्वविद्यालय से दो सौ गाॅव जुड़े हुये थे, उसमें से हमलोगों ने 125 गाॅवों की पहचान करवा ली है, जिसे इस विष्वविद्यालय से संबद्ध करना हमारा उद्देष्य है। नालंदा विष्वविद्यालय को

 

पुनसर््थापित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में उच्च षिक्षा दर 13.9 प्रतिषत है, जबकि राष्ट्रीय औसत 24 प्रतिषत है। हमलोग राज्य में उच्च षिक्षा दर को 30 प्रतिषत तक

ले जाने के लिये प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस ज्ञान की भूमि पर 1500 वर्ष पूर्व आर्यभट्ट ने एस्ट्रोनोमी के बारे में जानकारी दी। शून्य का आविष्कार किया। उनके नाम पर

हमलोगों ने आर्यभट्ट ज्ञान विष्वविद्यालय बनाया। महान नीतिकार चाणक्य के नाम पर चाणक्य विधि विष्वविद्यालय, सम्राट चन्द्रगुप्त के नाम पर चन्द्रगुप्त प्रबंधन संस्थान बनाया गया है। उन्होंने कहा कि हमलोग राज्य के पुराने इतिहास से प्रेरणा लेकर काम कर रहे हैं और

उसको ध्यान में रखते हुये आगे बढ़ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पटना विष्वविद्यालय की भूमिका छात्रों को षिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ाने के साथ-साथ समाज सेवा, राजनीति के अलावा अन्य क्षेत्रें में भी रही है। उन्होंने कहा कि यहाॅ के छात्र पर्यावरण संरक्षण के लिये भी आगे आयें। हमलोग पर्यावरण संरक्षण के लिये काम कर रहे हैं। जल-जीवन-हरियाली अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जल है, हरियाली है तभी जीवन है। पर्यावरण के प्रति हमलोगों को जागरूक रहना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सब प्रेम, सद्भाव और भाईचारे के साथ रहेंगे तो विकास का सही लाभ मिलेगा और राज्य तथा देष को आगे बढ़ाने में कामयाब होंगे।  कार्यक्रम को उपमुख्यमंत्री श्री सुषील कुमार मोदी, पटना विष्वविद्यालय के कुलपति श्री रास बिहारी सिंह ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर षिक्षा मंत्री श्री कृष्णनंदन प्रसाद

वर्मा, प्रति कुलपति पटना विष्वविद्यालय प्रो0 डाॅली सिन्हा, चीफ पोस्ट मास्टर जेनरल बिहार श्री एहसानुल हक, प्रो0 इंचार्ज पटना विष्वविद्यालय श्री रविन्द्र प्रसाद, अन्य प्राचार्यगण, षिक्षकगण, अन्य गणमान्य व्यक्ति एवं बड़ी संख्या में छात्र-छात्रायें उपस्थित थे।

कार्यक्रम के पूर्व पटना विश्वविद्यालय पुस्तकालय शताब्दी वर्ष समारोह के अवसर पर पुस्तकालय परिसर मंे स्थापित षिलापट्ट का उप राष्ट्रपति श्री एम0 वेंकैया नायडू ने अनावरण किया। अनावरण के पष्चात उप राष्ट्रपति श्री एम0 वेंकैया नायडू ने पुस्तकालय में प्रदर्षित विभिन्न पुस्तकों, पांडुलिपियों का अवलोकन किया। इस मौके पर राज्यपाल श्री फागु चैहान एवं मुख्यमंत्री श्री नीतीष कुमार भी मौजूद थे।

कार्यक्रम के दौरान उप राष्ट्रपति श्री एम0 वेंकैया नायडू ने पुस्तकालय शताब्दी वर्ष के अवसर पर विषेष डाक आवरण जारी किया। उप राष्ट्रपति श्री एम0 वेंकैया नायडू, राज्यपाल श्री फागु चैहान एवं मुख्यमंत्री श्री नीतीष कुमार सहित मंच पर विराजमान गणमान्य व्यक