BREAKING NEWS

'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾बीएसपी ने 7 बागी विधायकों को किया निलंबित, मायावती बोलीं-सपा को हराने ले लिए BJP को भी दे सकते हैं वोट◾गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन, CM विजय रुपाणी ने दुख व्यक्त किया◾कांपते पैर, माथे पर पसीना, हमले का डर.....अभिनंदन की रिहाई पर पाकिस्तान का सच◾10 नवंबर के बाद CM नीतीश अपने पद को नहीं रख पाएंगे बरकरार, बनेगी BJP-LJP की सरकार : चिराग◾टेरर फंडिंग मामले में श्रीनगर और दिल्ली में 9 स्थानों पर NIA की छापेमारी◾देश में कोरोना के 49,881 नए मामलों की पुष्टि, मरीजों का आंकड़ा 80 लाख के पार ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता का स्तर ‘गंभीर स्थिति’ की श्रेणी में दर्ज, छायी प्रदूषण की चादर ◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 4 करोड़ 44 लाख के पार◾Bihar Election : दूसरे, तीसरे चरण में और ताकत झोंकेगी BJP, घर-घर जाकर प्रचार के लिए बनाई जा रही रणनीति ◾आज का राशिफल ( 29 अक्टूबर 2020 )◾महामारी के बीच चुनाव आयोग ने ‘अपने भरोसे के दम’ पर बिहार चुनाव कराया : EC◾भारत ने फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों पर व्यक्तिगत हमलों की कड़ी निंदा की ◾MI vs RCB : मुंबई इंडियंस ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को 5 विकेट से हराया◾ED ने सोना तस्करी मामले में निलंबित IAS शिवशंकर को किया गिरफ्तार◾PM का पुतला जलाये जाने वाले बयान पर भाजपा ने बताया राहुल की 'राजनीतिक औकात' ◾केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को हुआ कोरोना, ट्वीट कर दी जानकारी◾महबूबा मुफ्ती को एक और बड़ा झटका, पीडीपी नेता रमजान हुसैन भाजपा में हुए शामिल ◾बिहार विधानसभा चुनाव - पहला चरण में 71 सीटों पर मतदान संपन्न, शाम पांच बजे तक 51.91 प्रतिशत मतदान ◾कमल नाथ का तीखा तंज - भाजपा ने सिंधिया को 'दूल्हा' तो बना दिया, 'दामाद' नहीं बनने देगी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पीएम मोदी ने कोसी रेल महासेतु राष्ट्र को किया समर्पित, MSP को लेकर विपक्ष पर लगाया झूठ बोलने का आरोप

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को‘ऐतिहासिक’ कोसी रेल महासेतु को राष्ट्र को समर्पित किया और इस अवसर पर बिहार के रेल यात्रियों की सुविधाओं के लिए 12 रेल परियोजनाओं का शुभारंभ भी किया। वीडियो कांफ्रेस से आयोजित इस समारोह में बिहार के राज्यपाल फागू चौहान, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, रविशंकर प्रसाद, गिरिराज सिंह और नित्यानंद राय ने भी हिस्सा लिया। 

इस अवसर पर गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद से मोदी को बिहार की विशेष चिंता रही है और यहां के चौमुखी विकास के लिये उन्होंने भागीरथ कार्य किये हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आज का दिन बिहार के स्वर्णिम इतिहास में महत्वपूर्ण अध्याय साबित होने वाला है। 1934 के भूकंप ने बिहार के कोसी क्षेत्र को मिथिलांचल से अलग कर दिया, जिस बिहार को भूकंप ने बांट दिया, उसी को प्रधानमंत्री मोदी के अथक प्रयासों से फिर जोड़ा जा रहा है।’’

किसानों को अपनी उपज बेचने में और ज्यादा विकल्प और ज्यादा अवसर मिलेंगे

उन्होंने कहा कि कल विश्वकर्मा जयंती के दिन लोकसभा में ऐतिहासिक कृषि सुधार विधेयक पारित किए गए हैं। इन विधेयकों ने हमारे अन्नदाता किसानों को अनेक बंधनों से मुक्ति दिलाई है। इन सुधारों से किसानों को अपनी उपज बेचने में और ज्यादा विकल्प और ज्यादा अवसर मिलेंगे।

देश के किसानों को इन विधेयकों के लिए बधाई

पीएम मोदी ने कहा कि मैं देश के किसानों को इन विधेयकों के लिए बधाई देता हूं। किसान और ग्राहक के बीच जो बिचौलिए होते हैं, जो किसानों की कमाई का बड़ा हिस्सा खुद ले लेते हैं, उनसे बचाने के लिए ये विधेयक लाए जाने बहुत आवश्यक थे।

कुछ लोग किसानों को विधेयक पर भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं

पीएम मोदी ने कहा कि लेकिन कुछ लोग जो दशकों तक सत्ता में रहे हैं, देश पर राज किया है, वो लोग किसानों को इस विषय पर भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं, किसानों से झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये लोग भूल रहे हैं कि देश का किसान कितना जागृत है। वो ये देख रहा है कि कुछ लोगों को किसानों को मिल रहे नए अवसर पसंद नहीं आ रहे। देश का किसान ये देख रहा है कि वो कौन से लोग हैं, जो बिचौलियों के साथ खड़े हैं।

MSP का लाभ नहीं दिया जाएगा- ये सरासर झूठ है, गलत है, किसानों को धोखा है

पीएम मोदी ने कहा कि अब ये दुष्प्रचार किया जा रहा है कि सरकार के द्वारा किसानों को MSP का लाभ नहीं दिया जाएगा। ये भी मनगढ़ंत बातें कही जा रही हैं कि किसानों से धान-गेहूं इत्यादि की खरीद सरकार द्वारा नहीं की जाएगी।" ये सरासर झूठ है, गलत है, किसानों को धोखा है।

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार किसानों को MSP के माध्यम से उचित मूल्य दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। पहले भी थे, आज भी हैं और आगे भी रहेंगे। सरकारी खरीद भी पहले की तरह जारी रहेगी। किसानों के लिए जितना एनडीए शासन में पिछले 6 वर्षों में किया गया है, उतना पहले कभी नहीं किया गया। किसानों को होने वाली एक-एक परेशानी को समझते हुए, एक-एक दिक्कत को दूर करने के लिए हमारी सरकार ने निरंतर प्रयास किया है।

बिहार के लोगों की एक समस्या रहा है लंबा सफर 

इस दौरान उन्होंने कहा कि बिहार में गंगाजी, कोसी, सोन नदियों के विस्तार के कारण, बिहार के अनेक हिस्से एक दूसरे के कटे रहे हैं। नदियों के फैलाव वजह से होने वाला लंबा सफर बिहार के लोगों की एक समस्या रहा है। बिहार की इस बड़ी समस्या के समाधान के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि 4 वर्ष पहले उत्तर और दक्षिण बिहार को जोड़ने वाले दो महासेतु, एक पटना में और दूसरा मुंगेर में शुरु किए गए थे।

इन दोनों रेल पुलों के चालू हो जाने से उत्तर बिहार और दक्षिण बिहार के बीच, लोगों का आना-जाना और आसान हुआ है। पीएम मोदी ने कहा कि करीब साढ़े आठ दशक पहले भूकंप की एक भीषण आपदा ने मिथिला और कोसी क्षेत्र को अलग-थलग कर दिया था। आज ये संयोग ही है कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के बीच इन दोनों आंचलों को आपस में जोड़ा जा रहा है।

नॉर्थ ईस्ट के लिए एक वैकल्पिक रेलमार्ग 

उन्होंने कहा कि आज कोसी महासेतु होते हुए सुपौल-आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन सेवा शुरू होने से सुपौल, अररिया और सहरसा जिले के लोगों को बहुत लाभ होगा। यही नहीं, इससे नॉर्थ ईस्ट के साथियों के लिए एक वैकल्पिक रेलमार्ग भी उपलब्ध हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि "बिहार के लोग तो भली-भांति जानते हैं कि वर्तमान में निर्मली से सरांयगढ़ का सफर करीब-करीब 300 किमी का होता है। अब वो दिन ज्यादा दूर नहीं जब बिहार के लोगों को 300 किमी की ये यात्रा नहीं करनी पड़ेगी। 300 किमी की ये यात्रा सिर्फ 22 किमी में सिमट जाएगी।"

पीएम मोदी ने कहा कि "बिहार के लोग तो भली-भांति जानते हैं कि वर्तमान में निर्मली से सरांयगढ़ का सफर करीब-करीब 300 किमी का होता है। अब वो दिन ज्यादा दूर नहीं जब बिहार के लोगों को 300 किमी की ये यात्रा नहीं करनी पड़ेगी। 300 किमी की ये यात्रा सिर्फ 22 किमी में सिमट जाएगी।"

भारतीय रेल को नए भारत की आकांक्षाओं और आत्मनिर्भर भारत की अपेक्षाओं के अनुरूप ढालने का प्रयास 

उन्होंने कहा कि "बीते 6 साल से भारतीय रेल को नए भारत की आकांक्षाओं और आत्मनिर्भर भारत की अपेक्षाओं के अनुरूप ढालने का प्रयास किया जा रहा है। आज भारतीय रेल, पहले से कहीं अधिक स्वच्छ है।" उन्होंने कहा कि रेलवे के आधुनिकीकरण का लाभ बिहार और पूर्वी भारत को मिल रहा है। #MakeInIndia को बढ़ावा देने के लिए मधेपुरा में इलेक्ट्रिक लोको फैक्ट्री और मढ़ौरा में डीजल लोको फ़ैक्ट्री स्थापित की गई हैं।

इन परियोजनाओं से बिहार में लगभग 44 हजार करोड़ रुपए का निवेश हुआ है। बिहार में जिस तरह की परिस्थितियां रहीं हैं, उसमें रेलवे लोगों के आने-जाने का बहुत बड़ा साधन रही है। ऐसे में बिहार में रेलवे की स्थिति को सुधारना केंद्र सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक रहा है। उन्होंने कहा कि "2014 के पहले के 5 सालों में बिहार में सिर्फ सवा तीन सौ किलोमीटर नई रेल लाइन शुरु थी। जबकि 2014 के बाद के 5 सालों में बिहार में लगभग 700 किलोमीटर रेल लाइन कमीशन हो चुकी हैं। यानी करीब दोगुने से अधिक नई रेल लाइन शुरु हुईं हैं।"

उन्होंने कहा कि जिस तरह से कोरोना के समय में रेलवे ने काम किया है, काम कर रही है, उसके लिए मैं भारतीय रेल के लाखों कर्मचारियों की विशेष प्रशंसा करता हूं। देश के लाखों श्रमिकों को श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से सुरक्षित घर पहुंचाने के लिए रेलवे ने दिन-रात एक कर दिया था।

उन्होंने कहा कि नीतीश जी की सरकार बनने से पहले तक बिहार में इक्का-दुक्का मेडिकल कॉलेज हुआ करते थे।आज बिहार में 15 से ज्यादा मेडिकल कॉलेज हैं, जिसमें से अनेक बीते कुछ वर्षों में ही बनाए गए हैं। पहले ही बिहार में एक नए AIIMS की भी स्वीकृति दे दी गई है।

बिहार : उद्घाटन से पहले ही जमींदोज हुआ पुल, 1.42 रुपए की लागत से हुआ था निर्माण