BREAKING NEWS

खुद के विकास में जुटे नेता, एमसीडी चुनाव दोबारा लड़ रहे 75 पार्षदों की संपत्ति में तीन से 4,437% तक की वृद्धि : ADR◾SC ने कहा- सबसे महत्वपूर्ण सवाल, क्या ‘जल्लीकट्टू’ को किसी भी रूप में अनुमति दी जा सकती◾सीएम योगी ने कहा- सैनी ने मुजफ्फरनगर की गरिमा बचाने के लिए खोई विधानसभा सदस्यता◾Congress ने कहा- तीसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर और गिरने का डर, सच्चाई से मुंह नहीं मोड़ें PM◾Delhi Excise Policy: अमित अरोड़ा की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने 7 दिन के लिए ईडी हिरासत में भेजा◾धामी सरकार का कट्टरपंथियों पर प्रहार, विधानसभा में सख्त प्रावधान वाला धर्मांतरण रोधी संशोधन ​विधेयक पारित◾गुजरात पर चुनाव पूर्व सर्वेक्षण से कांग्रेस को तकलीफ, EC से कार्रवाई की मांग की◾GDP growth rate दूसरी तिमाही में घटकर 6.3% रही, विनिर्माण, खनन क्षेत्रों में गिरावट का असर◾Border dispute: महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद के बीच बेलगावी जिले में सुरक्षा सख्त◾Bihar: तेजस्वी यादव ने कहा- 5 दिसंबर को होगा लालू प्रसाद यादव का प्रतिरोपण◾भाजपा ने PM मोदी के खिलाफ ‘आपत्तिजनक शब्दों’ के इस्तेमाल पर कांग्रेस को लिया आड़े हाथ ◾दिल्ली: चांदनी चौक हुई धुंआ-धुंआ! एक दुकान में लगी भीषण आग, दमकल विभाग ने संभाला मोर्चा ◾Gyanvapi Case: श्रृंगार गौरी की पूजा के मामले में अगली सुनवाई पांच दिसंबर को होगी ◾अफगानिस्तान में दर्दनाक वारदात! मदरसे में हुए बम धमाके में 15 की मौत, 27 घायल◾नवाब मलिक की बढ़ी मुश्किलें, विशेष अदालत ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जमानत देने से किया इनकार ◾एक्शन में CBI, टीआरएस नेता कमलाकर व रविचंद्र तलब, IPS अधिकारी बनकर पैसे ऐंठने के मामले में होगी पूछताछ ◾Karnataka: कर्नाटक में पुलिस प्रशासन से बड़ी लापरवाही, आरोपी ने चलती जीप से लगाई छलांग, मौके पर हुई मौत◾Gold Rate Today: शादी के सीजन में सोने में गिरावट, प्रति 10 ग्राम पहुंचा इतना भाव, चांदी भी पड़ी फीकी◾गुजरात के रण में वादों की बौछार, भगवंत मान ने कहा- AAP की सरकार बनी तो लोगों को बिजली बिल में मिलेगी राहत ◾china: चीन के पूर्व राष्ट्रपति जियांग जेमिन का हुआ निधन, 96 वर्ष की आयु में ली आखिरी सांस◾

जहरीली शराब ने ली कई लोगों की जान, मातम में तब्दील हुई खुशियां, घर में शादी की नहीं बजेगी शहनाई

बिहार में कथित तौर पर जहरीली शराब पीकर लोगों की मौत का सिलसिला जारी है। ​मुजफ्फरपुर जिले के कांटी प्रखंड के सिरसिया गांव के रहने वाले रामबाबू राय (65) की कथित तौर पर शराब पीने से हुई असामयिक मौत से उनके घर को तबाह कर दिया है। अब लोगों को आशंका है कि उनके घर मे शादी की शहनाई नहीं गूंजेगी। ग्रामीण कहते एक माह बाद उनकी पोती अनिशा की शादी होने वाली थी। रामबाबू की बहुत इच्छा थी कि उनकी जिंदगी में ही उनकी पोती अनिशा के हाथ पीले हो जाए और उसका घर बस जाए। लेकिन रामबाबू की मौत से उनके ही घर को मानो उजड गया।

 शराब ने परिवार की खुशियां उजाड़ कर रख दी

मृतक के पुत्र चुन्नू राय ने बताया कि बेटी की शादी तय हो चुकी थी। लेकिन, इस शराब ने परिवार की खुशियां उजाड़ कर रख दी। अब तो छठ और होली भी नहीं मनाएंगे। चुन्नू बताते हैं कि उनके पिता रेलवे से रिटायर्ड हुए थे और अधिकांश समय घर पर ही रहते थे। उन्होंने माना कि वे कभी-कभी शराब पी लेते थे, लेकिन इस बार किसने और कब उन्हें शराब पिलाई, यह कहना मुश्किल है।

घर में अब शादी की शहनाई नहीं बजेगी

चुन्नू बताते हैं, मंगलवार को अचानक से वे सुबह उठे और पानी मांगने लगे थे। कहने लगे कि कुछ नहीं दिख रहा है। इसके बाद बेचैन हो गए। शर्ट फाड़कर फेंक दिया। उल्टियां करने लगे। आनन-फानन में अस्पताल ले गए लेकिन हमलोग बचा नहीं सके। अस्पताल में ही दो घंटे के बाद उनकी मौत हो गई। इधर, इसी गांव के रहने वाले मृतक दिलीप राय के घर भी अब शादी की शहनाई नहीं बजेगी। उनकी छोटी बेटी की शादी होने वाली थी। कई जगहों पर बातचीत चल रही थी। लेकिन, एक झटके में परिवार की खुशियां उजड़ गयी।

मृतक के भाई संजीव ने बताया कि दिलीप गुजरात मे रखकर मेहनत मजदूरी करते थे। छठ मनाने घर आये हुए थे। दो बेटी की शादी हो चुकी है। तीसरी और सबसे छोटी खुशबू की शादी की बात चल रही थी, लेकिन उसके पहले ही घर पर पहाड टूट गया। घर में खुशियों की शहनाई गूंजने से पहले मातमी सन्नाटा पसर गया। सिरसिया गांव के रहने वाले सुमित कुमार उर्फ गोपी (25) की भी मौत कथित तौर शराब पीने से हो गई है। उसकी मां आशा देवी कहती है वह आठ साल से छठ पूजा करता था। छठी मइया में उसकी बहुत आस्था थी। वह राजमिस्त्री का काम करता था। 2012 में उसकी शादी हुई थी, उसके चार बच्चे हैं।

 उजडे परिवारों को फिर से सहारा कौन देगा

सुमित की मौत के बाद सात साल के बड़े बेटे दिव्यांश ने उसे मुखाग्नि दी। पूरा गांव इस दृश्य को देखकर गमगीन उठा। आसपास के लोग बताते हैं, दिव्यांश को यह भी ठीक तरीके से पता नहीं कि यह सब क्या हो रहा है। लेकिन होनी को कौन टाल सकता है, कथित तौर पर शराब ने जिंदगियां तो उजाड ही दी। बिहार की विपक्षी पार्टियां इसके लिए भले ही सिस्टम को दोष दे और सरकार अब फिर से समीक्षा की बात करे, लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि इन उजडे परिवारों को फिर से सहारा कौन देगा, जो इनकी जिंदगी में फिर खुशहाली लौट सके।

शराब पीने से छह लोगों की मौत 

ऊल्लेखनीय है कि कांटी थाना क्षेत्र में इस सप्ताह कथित तौर शराब पीने से छह लोगों की मौत हो गई है। गौरतलब है कि राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू है। पिछले एक पखवारे में गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, पश्चिमी चंपारण और समस्तीपुर जिले में कथित तौर पर शराब पीने से तीन दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई है। पुलिस अब हालांकि ताबडतोड छापेमारी कर रही है।

UP विधानसभा चुनाव : सामाजिक रूप से संघर्ष कर रही महिलाएं होंगी कांग्रेस की प्राथमिकता