BREAKING NEWS

देश के कई हिस्सों में सर्दी का सितम जारी, मैदानी इलाकों को अभी नहीं मिलेगी शीतलहर से राहत◾UP चुनाव को लेकर PM मोदी वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ताओं से आज करेंगे वर्चुअल संवाद, देंगे यह मंत्र◾पंजाब विधानसभा चुनाव में CAPF की 1,050 कंपनी तैनात करने की मांग ◾पंजाब विधान सभा चुनाव - गठबंधन तय लेकिन सीटों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया है अंतिम फैसला ◾कांग्रेस ने अरबपतियों की संपत्ति बढ़ने संबंधी रिपोर्ट को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾राज्यों की झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना करना गलत परम्परा : सरकारी सूत्र ◾ केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾अखिलेश के ‘अन्न संकल्प’ पर स्वतंत्र देव का पलटवार, ‘गन’ से डराने वाले किसान हितैषी बनने का कर रहे ढोंग ◾12-14 आयु वर्ग के बच्चों के लिए फरवरी अंत तक हो सकती है टीकाकरण की शुरुआत :NTAGI प्रमुख ◾ अबू धाबी में एयरपोर्ट के पास ड्रोन से अटैक, यमन के हूती विद्रोहियों ने UAE में हमले की ली जिम्मेदारी ◾कोरोना संकट के बीच देश की पहली एमआरएनए आधारित वैक्सीन, खास तौर पर Omicron के लिए कारगर◾

लालू की विरासत को लेकर छिड़ा सियासी संग्राम, राजनीतिक गलियारे में तेजस्वी जैसा ही कद चाहते हैं तेजप्रताप

बिहार विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी और राज्य की सत्ता पर 15 वर्षों तक काबिज रहने वाली पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) में सियासी संग्राम मचा हुआ है। ऐसे देखा जाए तो राजद के बिहार प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह और राजद के प्रमुख लालू प्रसाद के बडे पुत्र तेजप्रताप के बीच मुख्य संग्राम छिड़ा है, लेकिन निशाने पर एक-दूसरे के समर्थक भी आ रहे हैं।

तेजप्रताप अपने बयानों से जगदानंद सिंह पर तो निशाना साध ही रहे हैं, तेजस्वी के रणनीतिकार माने जाने वाले संजय यादव और राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी को भी तेजप्रताप ने अपने बयानों से निशाने पर लिया है। इधर, जगदानंद सिंह ने भी छात्र राजद अध्यक्ष के पद पर गगन कुमार को बैठाकर तेजप्रताप के करीबी माने जाने वाले आकाश यादव की छुट्टी कर दी। देखा जाए तो तेजप्रताप जहां जगदानंद सिंह पर पूरी तरह आक्रामक हैं, वहीं उनके छोटे भाई और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सिंह के साथ नजर आ रहे हैं।

ऐसे में माना जा रहा है कि राजद में छात्र इकाई के अध्यक्ष के बहाने लालू की सियासी विरासत को लेकर 'सियासी संग्राम' छिड गया है। वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक समीक्षक मणिकांत ठाकुर भी कहते है, "यह सियासी संग्राम तो है, लेकिन यह पूरी तरह वर्चस्व को लेकर नहीं है।" वे कहते हैं कि लालू प्रसाद या पार्टी के वरिष्ठ नेता भी तेजस्वी यादव को लालू प्रसाद का उतराधिकारी करीब-करीब मान चुके हैं। ऐसे में तेजप्रताप भी खुद को 'कृष्ण' बताते हुए तेजस्वी को 'अर्जुन' बताकर उन्हें मुख्यमंत्री बनाने की बात करते हैं, लेकिन तेजप्रताप पार्टी में खुद को सम्मानजनक स्थिति में जरूर रखना चाहते हैं।

तेजस्वी पत्रकारों से कहते हैं, "जगदा बाबू स्वतंत्र हैं, प्रदेश संगठन के फेरबदल में। वे प्रदेश अध्यक्ष हैं। इसमें मेरा कोई हस्तक्षेप नहीं है, और जगदा बाबू से अनुभवी कौन सा नेता है।" मणिकांत ठाकुर भी कहते हैं कि तेजप्रताप का यह कोई पहला मामला नहीं हैं जब वे सतही तौर पर बयान दे रहे हैं। इससे पहले भी वे कई वरिष्ठ नेताओं पर अपनी भड़ास निकाल चुके हैं।

वैसे, इसमें कोई शक नहीं है कि लालू के चारा घोटाले में जेल जाने के बाद तथा उनके अस्वस्थ होने के बाद तेजप्रताप, तेजस्वी यादव, मीसा भारती और अब रोहिणी आचार्य भी अपने अपने राजनीतिक कद को बढ़ाने में लगे हैं। हालांकि तेजप्रताप कई बार तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाने की बात कह चुके हैं, लेकिन उनकी महत्वकांक्षा से इंकार नहीं किया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि तेजप्रताप इसके पहले राजद के वरिष्ठ नेता दिवंगत रघुवंश प्रसाद सिंह को भी 'एक लोटा पानी' बता दिया था। उसके पहले पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे से भी उनकी तनातनी रही थी। ठाकुर कहते भी हैं, "तेजस्वी ने लालू के उत्तराधिकारी होने को लेकर साबित भी किया है जबकि हसनुपर के विधायक तेजप्रताप पार्टी में अपना बड़ा कद नहीं बना पाए।"

बिहार : प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद पर कार्रवाई को लेकर अड़े तेजप्रताप, कहा- सत्य की होगी विजय