BREAKING NEWS

गुजरात में स्थानीय निकाय चुनाव रविवार को, 3.04 करोड़ मतदाता मताधिकार का करेंगे इस्तेमाल◾कांग्रेस कमजोर हो रही है, मजबूत करने के लिए एक साथ आये : असंतुष्ट नेताओं ने कहा ◾राज्यसभा से रिटायर हुआ हूं, राजनीति से नहीं, जम्मू-कश्मीर राज्य के लिए लड़ाई जारी रखूंगा : आजाद ◾पश्चिम बंगाल ओपिनियन पोल : टीएमसी को 156, भाजपा को 100 सीटें मिलने का अनुमान◾भाजपा बंगाल में जीती तो अगली बार एक चरण में सुनिश्चित करेंगे विधानसभा चुनाव: दिलीप घोष◾भाजपा बंगाल में जीती तो अगली बार एक चरण में सुनिश्चित करेंगे विधानसभा चुनाव: दिलीप घोष◾निजी अस्पतालों में कोरोना वैक्सीन की 1 डोज की कीमत होगी 250 रुपये, सरकारी अस्पतालों में टीकाकरण मुफ्त ◾लंबे समय बाद कांग्रेस में एकजुट नजर आई, एक हेलीकॉप्टर में सवार हुए गहलोत- पायलट ◾PM इमरान खान ने सीजफायर समझौते का किया स्वागत, कहा- “अनुकूल वातावरण” बनाने की जिम्मेदारी भारत की◾आजाद की सभा में जुटे 'G23' के नेता, कपिल सिब्बल बोले- सच्चाई है कि कांग्रेस कमजोर हो रही है◾तमिलनाडु चुनाव : भाजपा-अन्नाद्रमुक में सीट बंटवारे पर बातचीत शुरू, CM पलानीस्वामी से किशन रेड्डी ने की मुलाकात ◾सीमा पर सीजफायर है पर जम्मू कश्मीर में आतंकवाद के खात्मे के अभियान जारी रहेंगे : भारतीय सेना ◾चीन जानता है कि प्रधानमंत्री ‘डरे हुए हैं', जमीन वापस नहीं ले पाएंगे और समझौता करेंगे : राहुल गांधी ◾बंगाल चुनाव पर बोले प्रशांत किशोर, '2 मई को मेरा पिछला ट्वीट निकाल लेना'◾ गाजीपुर बॉर्डर : गर्मी बढ़ते ही बेहद कम हुई आंदोलनकारी किसानों की संख्या, भाकियू ने दिया ये बयान ◾रविदास जयंती के मौके पर प्रियंका गांधी पहुंची काशी, पैदल चल जन्मस्थान मंदिर में मत्था टेका◾बंगाल में बुआ VS बेटी की जंग, 'नवरत्नों' के सहारे BJP का ममता दीदी पर तंज◾गुजरात के अहमदाबाद, सूरत समेत चार प्रमुख शहरों में रात्रिकालीन कर्फ्यू 15 दिन के लिए बढ़ाया गया ◾बंगाल चुनाव : BJP के चुनावी रथों में तोड़फोड़, पार्टी ने TMC पर लगाया आरोप◾पीएसएलवी रॉकेट के सबसे लंबे अभियानों में से एक की उल्टी गिनती शुरू, एक साथ भेजे जायेंगे 19 उपग्रह ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राजनीतिक दल कायस्थ समाज की प्रतिनिधित्व करने का विचार करें: आर. के. सिन्हा

पटना: भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद आर.के. सिन्हा राजनीतीक दलों पर कायस्थ समाज के साथ उपेक्षा  करने का आरोप लगाकर कहा कि कायस्थों की राजनीतिक भागीदारी पर कहा कि कायस्थों का बिहार के स्वतंत्रता संग्राम में बहुत बड़ा योगदान रहा है। आज के दिन कायस्थ बिहार के सभी शहरी चुनाव क्षेत्रों में किसी को भी चुनाव जिताने या हराने की ताकत रखते हैं। ऐसे विधान सभा क्षेत्र 75 से ज्यादा हैं।  अतः इनकी उपेक्षा तो नहीं होनी चाहिये। 

सिन्हा ने 1952, 1957 और 1962 तक के चुनावों में बिहार में 50-60 की संख्या में कायस्थ चुनकर बिहार विधान सभा पहुंचते थे। विधान सभा अध्यक्ष डॉ. बिन्देश्वरी प्रसाद वर्मा और कम से कम तीन कैबिनेट मंत्री कायस्थ समाज से होते थे। लेकिन, हाल के चुनावों में सीटों के बंटबारे और कैबिनेट के गठन में कायस्थों की उपेक्षा तो हुई ही है। बिहार में कायस्थों की आबादी लगभग 4 प्रतिशत है। 

कायस्थ समाज समझदार, सक्षम एवं योग्य हैं। मूल्यों के आधार पर राजनीति कर रहे हैं जिसके कारण ही उनको कष्ट भी हो रहा है। हमारी जो विनम्रता है उसको कमजोरी मान ली जाती है। कायस्थ समाज का वोट बंटता नहीं है, जबकि सभी जातियों के वोट सभी दलों में बंटते हैं। जबतक समाज कांग्रेस के साथ था तब पूरी तरह से था। आज जब एनडीए के साथ है, तब भी एकजुटता से ही है। लेकिन, एनडीए में शामिल सभी दलों को भी चाहिए कि कायस्थ समाज को टिकट बंटबारे में सम्मानजनक स्थान दें।