BREAKING NEWS

गोवा चुनाव 2022: BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, जानें किसे कहा से मिला टिकट◾बिहार: गया में नाराज छात्रों ने ट्रेन की बोगी में लगाई आग, श्रमजीवी एक्सप्रेस पर किया पथराव◾गणतंत्र दिवस 2022: अग्रिम मोर्चे के कर्मी, मजदूर और ऑटो ड्राइवर बने स्पेशल गेस्ट, मिला बड़ा सम्मान◾गणतंत्र दिवस परेड: राजपथ पर 75 विमानों का शानदार फ्लाईपास्ट, वायुसेना की शक्ति देख दर्शक हुए दंग ◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में वायुसेना की झांकी का हिस्सा बनीं देश की पहली महिला राफेल विमान पायलट◾गणतंत्र दिवस 2022: परेड में होवित्जर तोप से लेकर वॉरफेयर की दिखी झलक, राजपथ बना शक्तिपथ◾गणतंत्र दिवस समारोह: PM मोदी उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में आए नजर, दिया ये संकेत◾यूपी: रायबरेली में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, 6 लोगों की हालत नाजुक◾RPN सिंह के भाजपा में शामिल होने पर शशि थरूर का कटाक्ष, बोले- छोड़कर जा रहे हैं घर अपना, उधर भी सब अपने हैं◾दिल्ली में ठंड का कहर जारी, फिलहाल बारिश होने के आसार नहीं: आईएमडी◾RRB-NTPC Exam: परीक्षार्थियों के विरोध प्रदर्शन के बाद रेलवे ने भर्ती परीक्षा पर लगाई रोक, जांच के लिए बनाई समिति◾विधानसभा चुनाव तक चलेगी हिंदू-मुसलमानको लेकर तीखी बयानबाजी: राकेश टिकैत◾World Corona: दुनियाभर में जारी है कोरोना का कोहराम, संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 35.79 करोड़ के पार◾Corona Update: देश में तीसरी लहर का सितम जारी, संक्रमण के 2 लाख 85 हजार से अधिक नए केस, 665 लोगों की मौत ◾दिल्ली: गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, 27,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात◾गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं◾PM मोदी असली नायकों का सम्मान करने के लिए प्रतिबद्ध : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पद्म पुरस्कार पर कहा ◾बुद्धदेव को पद्म पुरस्कार देने की घोषणा से पहले उनकी पत्नी को इसके बारे में सूचित किया गया था : सूत्र ◾प्रधानमंत्री ने पद्म पुरस्कार विजेताओं को दी बधाई ◾गणतंत्र दिवस : 189 वीरता पदक सहित 939 पुलिस पदक दिये जाने की घोषणा ◾

तेजस्वी और तेज प्रताप के 'तकरार' से RJD का 'आनंद' गायब, आकाश यादव को लेकर पार्टी में मचा घमासान

बिहार में इस साल नवंबर में होने वाले राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनाव से पहले लालू प्रसाद के दोनों बेटे तेजप्रताप और तेजस्वी यादव के बीच सत्ता संघर्ष और तेज हो गया है। राजद के अध्यक्ष जगदानंद सिंह और राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद के बड़े पुत्र तथा पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव में 'तकरार' समाप्त होने के का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच, इस तकरार के बाद विरोधी खेमा जहां 'मजे' ले रहा है वहीं राजद में आनंद (खुशी) समाप्त दिख रही है।

जगदानंद सिंह की पहचान राज्य के वरिष्ठ नेताओं में तथा लालू प्रसाद के करीबी के तौर पर होती है। लेकिन राजद अध्यक्ष के खिलाफ राजद के नेता तेजप्रताप ने ही मोर्चा खोल दिया है। तेजप्रताप के बयानों से सिंह के कई बार नाराज होने की खबरें भी मीडिया में आती रही हैं, हालांकि इसे अब तक पार्टी ने स्वीकार करने की हिम्मत नहीं दिखाई दी है।

इधर, एकबार फिर सिंह और तेजप्रताप आमने-सामने आ गए नजर आ रहे हैं। काफी दिनों के बाद राजद कार्यालय पहुंचे सिंह ने बुधवार को तेजप्रताप के करीबी माने जाने वाले छात्र राजद अध्यक्ष आकाश यादव को पद से हटाते हुए गगन कुमार को यह जिम्मेदारी दे दी। हालांकि सिंह यह भी कहते हैं कि छात्र राजद अध्यक्ष का पद रिक्त था, जिस पर नियुक्ति कर दी गई है। उन्होंने आकाश के विषय में कुछ नहीं जानते।

इस कार्रवाई के बाद तेजप्रताप भडक गए। तेजप्रताप ने अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिख दिया, "प्रवासी सलाहकार से सलाह लेने में अध्यक्ष जी ये भूल गए की पार्टी संविधान से चलता है। राजद का संविधान कहता है की बिना नोटिस दिए आप पार्टी के किसी पदाधिकारी को पदमुक्त नहीं कर सकते .आज जो हुआ वो राजद के संविधान के खिलाफ हुआ।"

तेजप्रताप के इस ट्वीट के बाद इतना तय माना जाता है कि जगदानंद और तेजप्रताप का तकरार और बढ़ेगा। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों तेजप्रताप के एक बयान से आहत होकर जगदानंद सिंह कई दिनों तक पार्टी कार्यालय नहीं आए थे। हालांकि पार्टी और स्वयं सिंह ने नाराजगी का खंडन भी किया था। इधर, पार्टी के दो नेताओं के उभरे तकरार के बीच विरोधी खेमा भी 'मजे' ले रहा है।

जदयू के नेता और पूर्व मंत्री नीरज कुमार कहते हैं, "हम प्रवासी कहते थे, तो मिर्ची लगती थी। अब तो प्रवासी सलाहकार कहा गया। पार्टी को पारिवारिक संपत्ति समझने वालों का आंतरिक कलह सबके सामने आ गया। जगदानंद सिंह को पार्टी संविधान का आईना दिखाया गया है।"

उन्होंने नसीहत देते हुए आगे कहा कि राजनीति में जमीर महत्वपूर्ण होता है, आत्मसम्मान महत्वपूर्ण होता है। जगदानंद सिंह की ऐसी दुर्दशा देखी नहीं जा रही है। पद के लिए अपने स्वाभिमान से समझौता किया है। बहरहाल, राजद के इन दोनों नेताओं के बीच तकरार समाप्त होते नहीं दिख रहा है। ऐसे में राजद नेतृत्व इन दोनों नेताओं के तकरार से कैसे निपटता है, यह देखने वाली बात होगी।

दलित विरोधी है नीतीश कुमार : डा.सत्यानंद शर्मा