BREAKING NEWS

कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली-NCR बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को हटाने के लिए SC में याचिका दायर◾किसानों का ऐलान- 5 को देशभर में PM मोदी के पुतले फूंके जाएंगे, 8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान◾कैनबेरा टी-20 : भारत ने आस्ट्रेलिया को 11 रन से दी शिकस्त, नटराजन ने डेब्यू मैच में झटके 3 विकेट ◾कोरोना ने तोड़ी तंगहाल पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था की कमर, इमरान ने कर्जदाताओं से मांगी मदद ◾PM मोदी की सर्वदलीय बैठक पर बोले अधीर रंजन-वैक्सीनेशन पर नहीं दिया कोई रोडमैप◾किसान आंदोलन पर टिप्पणी पर भारत की कनाडा को सख्त चेतावनी, कहा- बिगड़ सकते हैं रिश्ते◾PM मोदी ने कहा-अगले कुछ हफ्तों में मिल सकती है भारत को कोरोना वैक्सीन ◾PM मोदी की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक, कोरोना वैक्सीन की रणनीति पर चर्चा ◾कृषि कानून : किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी, सिंघु बॉर्डर पर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात◾देश में कोरोना केस 96 लाख के करीब, अब तक 90 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾हैदराबाद में GHMC चुनाव की मतगणना जारी, प्रचार अभियान में BJP ने झोंक दी थी पूरी ताकत◾TOP 5 NEWS 04 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾आज का राशिफल ( 4 दिसंबर 2020 )◾अगले सप्ताह सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात जा सकते हैं सेना प्रमुख जनरल नरवणे ◾PM मोदी IIT 2020 वैश्विक शिखर सम्मेलन को करेंगे संबोधित◾SC ने कोरोना के आंकड़ों की दोबारा जांच के तरीके के बारे में केजरीवाल सरकार से मांगी जानकारी◾दिल्ली में 24 घण्टे में संक्रमण के 3734 नए मामले आये सामने, 82 लोगों की मौत◾साढ़े सात घंटे तक चली किसानों और सरकार के बीच बैठक बेनतीजा, अब 5 दिसंबर को अगली वार्ता ◾गृह मंत्री बासवराज बोम्मई का ऐलान, कहा- लव जिहाद के खिलाफ कर्नाटक में भी लागू होगा कानून ◾किसान आंदोलन: आपस में उलझे CM अमरिंदर और केजरीवाल, कैप्टन को बताया 'मोदी भक्त' ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

शरद यादव ने कार्यकर्ताओं को राजनीति के चौराहे पर ला खड़ा कर दिया : मनीष कुमार

लोकतांत्रिक जनता दल के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनीष कुमार ने बयान जारी करते हुए कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं लोकतांत्रिक जनता दल के प्रमुख शरद यादव ने अपने साथ जुड़े नेताओं तथा कार्यकर्ताओं को राजनीति के चौराहे पर ला खड़ा कर दिए है, यहां तक कि उनके दिल्ली मे 7, तुगलक रोड स्थित निवास पर पहुंचने वाले समर्थकों से मुलाकात करने मे भी वे फिलहाल परहेज कर रहे हैं। गुप्त एजेंडे के तहत शरद जी जदयू के राष्ट्रीय नेताओं के साथ कई बार बैठक हो चुका है। साथ ही कहा  कि कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं के संपर्क मे हैं।   

करीबियों के अनुसार वे अपनी कुछ शर्तों पर जदयू मे शामिल होने को राजी हो सकते हैं। यह अलग बात है कि मुख्यमंत्री एवं जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार उनकी शर्तों पर किस हद तक सहमत हो पाते हैं। शरद जी की जदयू मे पुनः वापसी के शर्तों पर गौर करें तो पहला है कि उनकी राज्य सभा सदस्यता समाप्त करने सम्बन्धित सुप्रीम कोर्ट मे लम्बित केस जदयू वापस ले ले ताकि राज्यसभा मे सदस्यता वर्ष 2022 तक रहे, दुसरा कि राज्य सभा मे आरसीपी सिंह की जगह उन्हें (शरद ) को संसदीय दल का नेता बनाया जाए।

विदित हो कि वर्ष 2016 मे जदयू खाते से राज्य सभा भेजे गये शरद यादव को दल ने दो वर्षों के बाद पार्टी से निष्कासित कर दिया तथा राज्य सभा सदस्यता समाप्त करने की कार्रवाई की गई जो अब तक सुप्रीम कोर्ट के विचाराधीन है। वजह थी वर्ष 2018 मे पटना के गांधी मैदान में आयोजित एक सभा में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के साथ मंच साझा करना। 

शरद जी ने लोकतांत्रिक जनता दल का गठन किये थे,तथा महागठबंधन के एक घटक बने। गत लोकसभा चुनाव वे अपने दल के बजाय राजद के चिन्ह पर लड़ असफल रहे। बाद के दिनो मे लालू परिवार ने उन्हें तरजीह देना बंद कर दिया। इस सबसे शरद के आह्वान पर लोजद से जुड़े नेताओं तथा कार्यकर्ताओं ने आक्रोशित हो कर आरोप लगाना शुरू कर दिया है कि वे व्यक्तिगत स्वार्थ और परिवारवाद के चक्कर मे अपने समर्थकों को नजरअंदाज कर रहे हैं। उनकी आदर्शवादी और सिद्धांतवादी बातें धरी की धरी रह गई।