BREAKING NEWS

देश में कोरोना मामले 81 लाख के करीब, एक्टिव केस छह लाख से कम◾बिहार चुनाव में CM नीतीश का आरक्षण पर बड़ा दांव, आबादी के हिसाब से मिले लोगों को रिजर्वेशन ◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप तेज, वैश्विक स्तर पर संक्रमितों का आंकड़ा साढ़े 4 करोड़ के करीब ◾आज का राशिफल ( 30 अक्टूबर 2020 )◾आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत फ्रांस के साथ : PM मोदी◾PM मोदी आज से दो दिन के गुजरात दौरे पर, देश की पहली सी-प्लेन सेवा का करेंगे उद्घाटन◾CSK vs KKR ( IPL 2020 ) : रुतुराज और जडेजा ने चेन्नई सुपरकिंग्स को दिलाई जीत, मुंबई प्ले आफ में◾जम्मू कश्मीर के कुलगाम में आतंकी हमला, भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या◾कांग्रेस 31 अक्टूबर को मनाएगी ‘किसान अधिकार दिवस’, जिला मुख्यालयों पर देगी धरना◾नीतीश की दोहरी चुनौती : NDA के भीतर पार्टी को शीर्ष स्थान पर रखना, सत्ता बरकरार रखना◾एस जयशंकर ने यूनान के विदेश मंत्री डेंडियास से वार्ता की◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾बिहार में NDA गठबंधन की मजबूत सरकार बनेगी : रविशंकर प्रसाद ◾पाकिस्तान का कबूलनामा, मंत्री फवाद चौधरी ने कहा- पुलवामा हमला इमरान सरकार की बड़ी उपलब्धि◾राहुल को घेरे जाने पर कांग्रेस का पलटवार - बिहार चुनाव में हार तय देखकर BJP को याद आया पाकिस्तान◾सपा का बसपा पर जोरदार हमला , कहा - मायावती ने खुद ही खोली अपनी पोल◾केशुभाई पटेल के निधन पर राष्ट्रपति कोविंद ने जताया शोक, कहा - देश ने एक महान नेता खोया◾बंबई उच्च न्यायालय ने केंद्र से पूछा - क्या 'अत्यधिक' मीडिया रिपोर्टिंग से न्याय बाधित होता है ? ◾दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण रोकने के लिए नया कानून लागू - 1 करोड़ का जुर्माना, 5 साल की जेल◾फ्रांस: नीस के गिरिजाघर में आतंकी ने किया चाकू से हमला, कम से कम दो लोगों की ली जान◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

JNU छात्रों के समर्थन में आये शरद यादव

लोकतांत्रिक जनता दल (लोजद) के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्रावास की बढ़यी गयी फीस के विरोध में छात्रों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन का समर्थन करते हुए केंद्र सरकार से फीस वृद्धि को वापस लेने की मांग की है। 

श्री यादव ने आज यहां बयान जारी कर कहा कि जेएनयू छात्रावास की फीस बढाए जाने के विरोध में छात्रों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन का वह समर्थन करते हैं। उन्होंने कहा कि छात्रों के विरोध प्रदर्शन के बाद छात्रावास फीस बढ़तरी में जो कटौती की गई है वह मौजूदा दर से अभी भी ज्यादा है। इससे गरीब छात्रों को काफी कठिनाई होगी। इसलिए सरकार को गरीब छात्रों के हितों का ख्याल रखते हुए फीस वृद्धि के फैसले को वापस लेने का आदेश जेएनयू प्रशासन को देना चाहिए। 

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद, सरकार जानबूझकर शिक्षा की लागत बढ़ रही है और मीडिया के माध्यम से माहौल बना रही है कि जेएनयू जैसे संस्थान को मुफ्त में शिक्षा क्यों दी जाए। उन्होंने सरकार पर शिक्षा का बजट कम रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि भारत में शिक्षा पर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का मात्र 3 प्रतिशत ही खर्च किया जाता है जबकि अन्य देशों में शिक्षा का बजट जीडीपी का 6 से 7 प्रतिशत तक होता है। 

श्री यादव ने कहा कि सरकार शिक्षा की व्यवस्था को सही करने के बजाए उसे तहस-नहस करने में लगी है जो बेहद दुर्भाज्ञपूर्ण है। उन्होंने कहा कि यह सरकार ऐसा कार्य कर रही है जिससे शिक्षा के क्षेत्र में प्रवेश के इच्छुक व्यवसायिक घरानों को मौका मिल सके। इस सरकार का प्रयास हर क्षेत्र को निजी कंपनियों को सौंपने का है जिसे देश बर्दाश्त नहीं कर सकता।