BREAKING NEWS

पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾शरद पवार बोले - जो प्यार पाकिस्तान से मिला है, वैसा कहीं नहीं मिला◾इमरान खान ने माना, भारत से हुआ युद्ध तो हारेगा पाकिस्तान◾मंत्रियों के अटपटे बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा : यशवंत सिन्हा◾अर्थव्यवस्था में सुस्ती पर बोले नितिन गडकरी - मुश्किल वक्त है बीत जाएगा◾शिवपाल यादव की कमजोरी में खुद की मजबूती देख रही समाजवादी पार्टी◾चिन्मयानंद मामला : पीड़िता ने एसआईटी को सौंपे 43 वीडियो, स्वामी को बताया 'ब्लैकमेलर'◾हरियाणा के लिए कांग्रेस ने गठित की स्क्रीनिंग कमेटी ◾काशी, मथुरा में मस्जिद हटाने के लिए दी जाएगी अलग जमीन : स्वामी ◾सारदा मामला : कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त CBI के समक्ष नहीं हुए पेश◾कांग्रेस 2 अक्टूबर को करेगी पदयात्रा◾अमित शाह 18 सितंबर को जामताड़ा से रघुवर दास की जनआशीर्वाद यात्रा करेंगे शुरू◾PAK ने आतंकवाद को नहीं रोका तो उसके टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता : राजनाथ ◾मॉब लिंचिंग : NCP ने मोदी सरकार पर साधा निशाना , कहा - ऐसी घटना पहले कभी सुनाई नहीं देती थी लेकिन अब अक्सर सुन सकते हैं◾

बिहार

पत्रकार हित के लिए सरकार और जनप्रतिनिधि एक हों तभी पत्रकारों की दशा व दिशा सुधरेगी

पटना : पत्रकारों से बढ़ते हमले के विरोध में तथा पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की मांग पर मीडिया कर्मियों एवं पत्रकार संगठनों के साझा मंच पत्रकार संयुक्त संघर्ष मोर्चा के बैनर तले कारगिल चौक पर धरना दिया गया। धरना में दर्जनों पत्रकारों ने भाग लिया। महाधरना का नेतृत्व पत्रकार संघर्ष मोर्चा के संयोजक एवं वरीय पत्रकार एस एन श्याम के अलावा प्रभात वर्मा, विपुल सिंह, जाने माने शायर, लेखक और पत्रकार तथा बिहार राज्य अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व सदस्य अशरफ अस्थानवी ने भी विशेष रूप से शिरकत किया। सभी पत्रकरों ने बिहार सरकार के पेंशन योजना के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया।

जेपी चौधरी ने कहा कि आये दिन बिहार में पत्रकारों के साथ घटना घट रही है इसलिए पत्रकार सुरक्षा कानून बनाया जाये। प्रखंड एवं जिला स्तर पर परिचय पत्र नहीं होने पर पत्रकारों को बहुत सारी असुविधाएं होती है। बिहार के सभी प्रिंट मीडिया एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के संपादक जिला एवं प्रखंड के लिए पत्रकारों को परिचय पत्र बनाकर जरूर दें। क्योंकि पत्रकार दिन भर मेहनत कर जनसमस्या की खबरें प्रकाशित करते हैं। कहीं भी घटना घटित होने पर पत्रकार अपने पैसे की बदौलत खबर लेने हेतु घटना स्थल पर जरूर पहुंचते है इसलिए बिहार सरकार से अनुरोध है कि पत्रकारों की समस्या की हल जरूर निकालें।

श्री चौधरी ने कहा कि पत्रकारों के हित में सरकार और जनप्रतिनिधि को एक होने पर ही पत्रकारों की दशा व दिशा बदलेगी। धरना पर बैठे पत्रकार सम्मान पेंशन योजना में मुफसिल के पूर्णकालिक पत्रकारों को शामिल करने, संवाद संकलन के दौरान हत्या, दुर्घटना में मौत या अन्य हादसे के शिकार पत्रकारों के परिजनों को सरकारी स्तर पर सरकारी कर्मियों को मिलने वाली मुआवजा राशि और अन्य सुविधा देने की मांग कर रहे थे।

धरना में बिहार प्रेस मेंस यूनियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन, बिहार श्रमजीवि पत्रकार यूनियन, इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किग जर्नलिस्ट बिहार, इंडियन मीडिया वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन एवं बिहार प्रेस मेंस वेलफेयर एसोसिएशन आदि ने धरना में शिरकत किया। इस अवसर पर दयाशंकर तिवारी, सूरज कुमार पांडे, त्रिलोक कुमार, मनोज सिंह, इसान अमन,राकेश कुमार, आलोक कुमार, मोहम्मद शम्मी, राजेश कमार आदि ने भाग लिया।