रांची : बड़े भाई तेज प्रताप यादव के पारिवारिक रिश्तों में आयी खटास के बारे में पूछे जाने पर बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव बिफर गये और मीडिया को उनके पारिवारिक मामलों से दूर रहने की हिदायत दी।

950 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद से मिलने आये उनके छोटे बेटे तथा बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से जब मीडिया ने तेज प्रताप के बारे में पूछा तो उन्होंने भड़कते हुए कहा, “मेरे परिवार के बारे में ए टू जेड मामले को उठाने की आवश्यकता नहीं है। यह घरेलू मामला है और इससे परिवार के लोग निपट लेंगे।”

तेजस्वी ने मीडिया के लोगों से पलट कर पूछा, ”आप बतायें, आप के घर किसने भोजन बनाया, आप ने या आप की पत्नी ने ? भोजन अच्छा बना था या खराब बना था? आप दोनों ने साथ खाया भोजन?” उन्होंने कहा कि ऐसे निजी सवालों का कोई मतलब नहीं है और किसी के पारिवारिक मामलों में दखल नहीं देना चाहिए। तेजस्वी यादव ने कहा, “जैसा मैं पहले ही कह चुका हूं, यदि निजी मामले उठाये गये तो फिर प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक सबकी पोल खुल सकती है।”

मुझे अपनी जिंदगी जी लेने दो भाई, मैं शांति की तलाश में हूं : तेज प्रताप यादव

उन्होंने कहा, “मुझे सिर्फ देश और बिहार की चिंता है। घर के मामले को तो घर के लोग सलटा लेंगे।” यह पूछे जाने पर कि लालू प्रसाद यादव से उनकी क्या बात हुई, तेजस्वी ने कहा, “परिवार के लोगों को जेल में बंद लालू यादव से मिलने के लिए शनिवार का समय मिलता है। इसीलिए यहां आया था। वैसे कल मेरा जन्म दिन भी था अतः आशीर्वाद भी लेना था। उनका स्वास्थ्य भी जानना था।”

तेजस्वी यादव ने कहा कि अब उनका स्वास्थ्य बेहतर हो रहा है। बिहार की नीतीश सरकार के बारे में पूछे जाने पर तेजस्वी ने कहा, “नीतीश सरकार कैसी है यह तो उचित समय पर बिहार की जनता ही बता देगी।”