BREAKING NEWS

दिल्ली में कोरोना के 412 नये मामले आए सामने, मृतक संख्या 288 हुई ◾LAC पर चीन से बिगड़ते हालात को लेकर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल◾महाराष्ट्र : उद्धव सरकार पर भड़के रेल मंत्री पीयूष गोयल, कहा- राज्य में सरकार नाम की कोई चीज नहीं◾महाराष्ट्र : फडणवीस की CM ठाकरे को नसीहत, कहा- कोरोना से निपटने में मजबूत नेतृत्व का करें प्रदर्शन ◾दिल्ली से अब तक करीब 2.41 लाख लोगों को 196 ट्रेनों से उनके गृह राज्य वापस भेजा : सिसोदिया◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- ढील दिए जाने के बाद 5 राज्यों में बढ़े कोरोना मामले◾राजनाथ सिंह ने CDS और तीनों सेना प्रमुखों के साथ की बैठक, सड़क का निर्माण कार्य रहेगा जारी ◾राहुल गांधी के वार पर BJP का पलटवार, नकवी ने कांग्रेस को बताया राजनीतिक पाखंड की प्रयोगशाला◾चीन और नेपाल से जुड़े मुद्दों पर पारदर्शिता की जरूरत, केंद्र को करना चाहिए स्पष्ट : राहुल गांधी◾कोविड-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 412 लोगों में संक्रमण की पुष्टि, पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 14 हजार 465◾बिहार बोर्ड 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी, 96.20 प्रतिशत अंक के साथ टॉपर बने हिमांशु राज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को बताया विफल, बोले-आगे की रणनीति बताएं प्रधानमंत्री ◾तबलीगी जमात मामले में दिल्ली पुलिस ने 83 विदेशी नागरिकों के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट◾उद्धव ठाकरे और शरद पवार की मुलाकात पर बोले राउत-सरकार मजबूत, चिंता करने की जरूरत नहीं◾कोरोना वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, US कंपनी ने 131 लोगों पर शुरू किया ह्यूमन ट्रायल◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर पर लगा भयंकर जाम, सिर्फ पास वालों को मिल रही है जाने की इजाजत◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का खौफ जारी, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 55 लाख के करीब ◾पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 45 हजार के पार, अब तक 4167 लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बच्चन, सहवाग ने पुलवामा हमले के विरोध में शूटिंग रोकी

पुलवामा आतंकी हमले के विरोध में महानायक अमिताभ बच्चन की अगली फिल्म और क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग, वीवीएस लक्ष्मण, हरभजन सिंह और सुरेश रैना के एक विज्ञापन की शूटिंग रविवार को यहां करीब दो घंटे रोक दी गई। कश्मीर में सीआरपीएफ के एक काफिले पर बृहस्पतिवार को हुए आतंकी हमले में 40 जवानों के शहीद हो जाने के मद्देनजर, 24 फिल्म संगठनों ने गोरेगांव स्थित फिल्मसिटी में विरोध प्रदर्शन किया। इन संगठनों में फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉइज (एफडब्ल्यूआईसीई) और इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन डायरेक्टर्स एसोसिएशन (आईएफटीडीए) शामिल हैं।

सहवाग, सिंह, रैना और वीवीएस लक्ष्मण सहित अन्य लोग फिल्मसिटी में एक विज्ञापन फिल्म की शूटिंग कर रहे थे, लेकिन वे लोग सैनिकों के प्रति अपनी एकजुटता दिखाने के लिए शूटिंग रोक कर विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। सहवाग ने कहा, ‘‘हम जो भी कहें या करें वह सैनिकों और उनके योगदान के लिए शायद कम ही होगा। हम केवल उनका शुक्रिया अदा कर सकते हैं और उनकी मदद करने के लिए जो कुछ कर सकते हैं, हमें करना चाहिए।

हम बहुत दुखी हैं लेकिन भविष्य में हम सभी के लिए एक बेहतर समय की आशा करते हैं।’’ हरभजन ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि शहीद हुए जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। हरभजन ने कहा, ‘‘यह बड़ी ही मुश्किल घड़ी है लेकिन हमें एकजुट रहना होगा ताकि वे हमें तोड़ने में सक्षम न हो सकें। मैं उन सभी सैनिकों के प्रति आभारी हूं जो हर समय हमारी रक्षा करते हैं। क्रिकेट खिलाड़ी या अभिनेता नायक नहीं हैं। राष्ट्र के असली नायक हमारे सैनिक ही हैं।’’ विरोध प्रदर्शन में प्रमुख फिल्म संगठनों और बड़ी संख्या में छायाकार, मेकअप मेन, वेशभूषा साज सज्जा करने वालों, जूनियर कलाकारों, वीडियो एडिटर, फाइटर और डांसरों ने भाग लिया।

 विरोध प्रदर्शन में कास्टिंग डायरेक्टर एवं फिल्म निर्माता मुकेश छाबरा, अभिनेत्री निया शर्मा, ईशा कोपिकर और अन्य भी मौजूद थे। सूत्रों के मुताबिक, अमिताभ बच्चन की फिल्म ‘ब्रह्मास्त्र’ की शूटिंग भी कुछ देर के लिए रोक दी गई। फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉइज (एफडब्ल्यूआईसीई) के अध्यक्ष बीएन तिवारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि सभी फिल्म संगठनों ने हिंदी फिल्मों में काम करने वाले किसी भी पाकिस्तानी कलाकार का ‘‘पूरी तरह से बहिष्कार’’ करने का फैसला किया है।

आईएफटीडीए के अध्यक्ष अशोक पंडित ने भी यही बात कही और कहा कि फिल्म संगठनों ने नवजोत सिंह सिद्धू का बहिष्कार करने का फैसला किया है। गौरतलब है कि सिद्धू ने हमले की निंदा की थी लेकिन साथ में यह भी कहा था कि क्या कुछ लोगों की करतूत के लिए पूरे देश को दोषी ठहराया जा सकता है। सिद्धू के इस विवादित बयान को लेकर विभिन्न तबके के लोगों ने उनकी कड़ी आलोचना की है।