हरियाणवी डांसर और बिगबॉस फेम सपना चौधरी की एक डांस नाइट को लेकर बीजेपी पार्टी दो गुटों में बंट गई। कार्यक्रम के दौरान पुलिस और लोगों को बीच जमकर झड़प हुई। इस दौरान कार्यक्रम को बीच में ही रोककर सपना चौधरी को पुलिस ने सुरक्षित स्टेज से उतारा।

बीजेपी विधायक नीलिमा कटियार और जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र मैथानी समेत कई नेताओं ने सपना नाइट के टिकटों पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीर छापे जाने को आपत्तिजनक बताया है।

 

वहीं कानपुर की मेयर प्रमिला पाण्डेय ने मीडिया पर तिल का ताड़ बनाये जाने का आरोप लगाया। मेयर ने साफ-साफ कहा कि सीएम की फोटो छापकर बेचे गए टिकटों में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। यही नहीं उन्होंने शो के लिए नगर निगम का ग्राउण्ड भी मुहैया कराया और सपना चौधरी के शो का उद्घाटन भी किया।

 

कानपुर के बृजेंद्र स्वरूप पार्क में रविवार को सपना चौधरी के शो का आयोजन हुआ। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कार्यक्रम तय समय से एक घंटे लेट शुरू हुआ। इस वजह से सपना को देखने के लिए काफी संख्या में लोग इकट्ठा हो गए। हालांकि, कार्यक्रम में केवल उन लोगों को आने की अनुमति थी, जिनके पास कार्यक्रम का टिकट या पास था।

गौरतलब है कि सपना चौधरी नाइट का आयोजन कानपुर में यौन रोगों का इलाज करने वाले एक डॉक्टर ने कराया था। हरियाणा की चर्चित डांसर सपना चौधरी के शो की टिकटों पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीर छपने से राजनीति के गलियारों में भी इस कार्यक्रम की चर्चा रही।

हालाँकि एक-दो गानों तक स्थिति सामान्य रही फिर इसके बाद बेरिकेडिंग के बाहर खड़े लोगों की अंदर आने के लिए पुलिस से झड़प होने लगी। हंगामा इतना ज्यादा बढ़ गया कि पुलिस को लाठीचार्ज करने की नौबत आ गई।

बौखलाई उपद्रवी भीड़ कार्यक्रम स्थल में कुर्सियां उठाकर फेंकने लगी और जमकर तोड़फोड़ की। इस बीच खुद सपना ने भी लोगों से शांत होने की अपील की लेकिन मामला बढ़ता देख पुलिस और आयोजकों को बीच में ही कार्यक्रम को रोकना पड़ा।

अन्य विशेष खबरों के लिए पढ़िये पंजाब केसरी की अन्य रिपोर्ट।