BREAKING NEWS

असम-मेघालय सीमा विवाद को लेकर अमित शाह से आज मिलेंगे मेघालय CM संगमा और असम सीएम हिमंत◾देश में अब तक कोविड रोधी टीके की 159.54 करोड़ से ज्यादा दी गई खुराक , स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ◾जल्द ही बाजार में भी मिल सकेंगी Covishield और Covaxin , सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक का किया अपहरण , MP तापिर गाओ ने मोदी सरकार से लगाई मदद की गुहार◾ विदेश मंत्री एस जयशंकर ने फिनलैंड के विदेश मंत्री के साथ अफगानिस्तान समेत कई मुद्दों पर की चर्चा◾PM मोदी और मारीशस के पीएम पी जगन्नाथ 20 जनवरी को परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾कोविड-19 : राजधानी में 24 घंटो में कोरोना के 13,785 नए मामले सामने आये, 35 लोगो की हुई मौत◾CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत हुए भाजपा में शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव ◾पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आम आदमी नहीं बल्कि बेईमान आदमी हैं : केजरीवाल◾बदली राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए : उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ◾पंजाब : सीएम चन्नी ने BJP और केंद्र सरकार पर लगाया आरोप, कहा-ईडी की छापेमारी मुझे फंसाने का एक षड्यंत्र ◾प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने कंगना रनौत के खिलाफ पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

कंगना रनौत के देश की आजादी पर दिए विवादित बयान का मामला अभी चल ही रह है। आये दिनों कोई न कोई कंगना के बयान पर उनकी आलोचना करता रहता है। वहीं तीनों कृषि कानून की वापसी के बाद कंगना भड़की नजर आ रही हैं और कुछ न कुछ सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रही हैं। इए वजह से इन बार उनके खिलाफ एक और पुलिस में शिकायत दर्ज हुई है जो कंगना की मुश्किलें बढ़ा सकती हैं। 

कंगना के खिलाफ दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। ये शिकायत कंगना द्वारा इंस्टाग्राम पर सिख समुदाय के खिलाफ कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर दर्ज कराई गई है। समिति के जारी बयान के मुताबिक, कंगना के खिलाफ ये शिकायत मंदिर मार्ग थाने में साइबर प्रकोष्ठ में दर्ज हुई है। समिति के लोगों का कहना है कि कंगना ने पहले जानबूझकर किसान के आंदोलन को खालिस्तानी आंदोलन बताया है और उसके बाद उन्होंने सिख समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक और अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया। 

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने सिखों के खिलाफ कथित तौर पर अपमानजनक टिप्पणी करने को लेकर कंगना पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार को उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘कंगना को या तो मानसिक रोग अस्पताल भेजा जाए या फिर जेल भेजा जाए।'

समिति का कहना है कि सोशल मीडिया पर हाल में किए गए अपने पोस्ट में रनौत ने ‘जानबूझकर’ किसानों के प्रदर्शन को ‘खालिस्तानी आंदोलन’ बताया है। बयान में कहा गया है कि एक्ट्रेस ने सिख समुदाय के खिलाफ ‘आपत्तिजनक और अपमानजनक’ भाषा का उपयोग किया था। सिख समुदाय की भावनाओं को आहत करने के लिए जानबूझकर वह पोस्ट तैयार किया गया और आपराधिक मंशा से उसे साझा किया गया। इसलिए हम आपसे प्राथमिकता के आधार पर इस शिकायत पर संज्ञान लेने और प्राथमिकी दर्ज करने के बाद कड़ी कानूनी कार्रवाई करने का अनुरोध करते हैं।’

कांग्रेस की युवा इकाई के राष्ट्रीय सचिव अमरीश रंजन पांडे ने अपनी शिकायत में कहा कि कंगना रनौत एक प्रसिद्ध अभिनेत्री हैं और इंस्टाग्राम पर उनके 78 लाख से अधिक लोग फॉलोअर हैं। इसलिए, उनके जानबूझकर किये गए, गैर-जिम्मेदाराना और राजद्रोहात्मक पोस्ट में भारतीय गणराज्य के प्रति घृणा, अवमानना और वैमनस्य भड़काने की क्षमता है।’ उन्होंने अभिनेत्री के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 124 ए, धारा 504 और धारा 505 के तहत प्राथमिकी दर्ज करने के लिए शिकायत दर्ज कराई गई है।

पीएम मोदी के ये बिल वापस लेने की घोषणा के बाद कंगना ने सरकार के इस कदम की सराहना करने वाले एक सोशल मीडिया उपयोगकर्ता को जवाब देते हुए लिखा था, ‘यदि सड़क पर लोगों ने कानून बनाना शुरू कर दिया है और निर्वाचित सरकार संसद में यह कार्य नहीं करे, तब फिर यह एक जिहादी राष्ट्र है…उन सभी को बधाई जो इसे पसंद करते हैं।’