BREAKING NEWS

दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾‘हिंदुत्व’ की राह पर निकले राज ठाकरे, MNS का नया झंडा लॉन्च किया◾CM नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को लताड़ा, कहा- जिसको जहां जाना है, जाएं◾तिहाड़ जेल प्रशासन ने निर्भया के गुनहगारों से पूछी उनकी अंतिम इच्छा, 1 फरवरी को होगी फांसी◾JNU और जामिया में पश्चिमी यूपी के छात्रों को 10 फीसदी आरक्षण दे दो, सबका इलाज कर देंगे : संजीव बालियान◾PM मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस और बाल ठाकरे को उनकी जयंती पर दी श्रद्धांजलि, ट्वीट कर कही ये बात◾चीन में कोरोना वायरस से 17 लोगों की मौत के बाद इमरजेंसी घोषित, शहर छोड़ने पर भी लगी रोक ◾उपराष्ट्रपति नायडू ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित की, ट्वीट कर कही ये बात◾अनुपम खेर ने ट्विटर पर दिया नसीरुद्दीन शाह को जवाब, कहा - कुछ पदार्थों के सेवन का नतीजा है यह बयान◾

कभी इनके नाम से ही हिट हो जाती थी फिल्में, आज जी रही है गुमनाम जिंदगी !

बॉलीवुड ऐसी दुनिया है जहाँ जब इंसान का सिक्का चलता है तो तमाम बुलंदियां उसके आगे छोटी दिखाई देती है। यहां चढ़ते सूरज को सब सलाम करते है पर जहाँ करियर ख़त्म हुआ हर कोई भुला बैठता है। आज हम आपको ऐसी ही एक अभिनेत्री के बारे में बताने जा रहे है जो कभी अपनी मधुर मुस्कान और नटखट अदाओं के लिए इतनी मशहूर थी की फिल्म में उनका होना यानि फिल्म के हिट होने की गारंटी। पर आज वो कहाँ है किस हाल में है कोई खबर नहीं। \"\"हम बात कर रहे है सत्तर के दशक की मशहूर अदाकारा मुमताज़ के बारे में। इन्होने बतौर जूनियर आर्टिस्ट बॉलीवुड में कदम रखा था और अपने जमाने में टॉप अभिनेत्री में इन्हे शुमार किया जाता था। मुमताज का जन्म 31 जुलाई 1947 को मुंबई में हुआ। \"\"इनके माता पिता ईरानी मूल के थे पर इनके जन्म के बाद वो मुंबई में ही बस गए।मुमताज़ का बचपन काफी संघर्ष में बीता क्योंकि जब ये एक साल की माँ-बाप का तलाक हो गया। इनकी माँ और चाची फिल्म इंडस्ट्री में बतौर जूनियर आर्टिस्ट थे। \"\"बचपन से ही मुमताज़ ने अपनी बहिन के साथ फिल्म इंडस्ट्री में काम तलाशना शुरू किया और 12 साल की उम्र में इन्हे बतौर बाल कलाकार फिल्म ‘संस्कार’ में पहला ब्रेक मिला। \"\"इस फिल्म के बाद मुमताज़ ने ‘यास्मीन’, ‘स्त्री’, ‘वॉह क्या बात है’, ‘मैं शादी करने चला’, ‘डॉक्टर विद्या’, ‘सेहरा’, ‘रुस्तम सौरभ’ और ‘मुझे जीने दो’ जैसी फिल्मों में बाल कलाकार के रूप में अभिनय किया। \"\"एक अभिनेत्री के रूप में इन्हे पहचान मिली दारा सिंह के साथ वर्ष 1960 में। इसके बाद दारा सिंह के साथ जोड़ी जमी और एक के बाद एक 15 फिल्मों में दोनों ने काम किया जिसमे करीं 10 फिल्म सुपरहिट थी। \"\"इसके बाद 1969 में राजेश खन्ना का साथ मिला और इन दोनों की जोड़ी सुपरहिट हो गयी। सबसे ज्यादा सफल फिल्मे इनकी राजेश खन्ना के साथ ही है। मुमताज ने अपने 15 साल के फिल्मी करियर में 115 फिल्में की और लगभग सभी बड़े अभिनेताओं के साथ इन्होने फ़िल्में की है। \"\"देव आनंद की फिल्म ’हरे रामा हरे कृष्णा’ मुमताज के करियर को सुनहरा कर देने वाली फिल्म थी। 1970 की फिल्म ‘खिलौना’ में अभिनय के लिए मुमताज को फिल्म फेयर बेस्ट एक्ट्रेस के अवार्ड से नवाजा गया। \"\"अपना स्टार बनने का सपना पूरा करने के बाद मुमताज़ घर बसना चाहती थी , हालाँकि फ़िल्मी करियर के दौरान उनका नाम कई कलाकारों से जुड़ा पर उन्होंने गुजराती मूल के लंदनवासी मयूर वाधवानी नामक व्यवसायी से 1974 में शादी की और ब्रिटेन में जा बसीं। उनकी दो बेटियां है जिनकी शादी हो चुकी और वो ब्रिटैन में एक शांत जीवन जी रही है।