इंडियन टेलीविज़न का पॉपुलर शो बिग बॉस को काफी पसंद किया जाता है। बता दें की बिग बॉस शो अमेरिका के बिग बरोथेर का हिंदी वर्शन है। बिग बरोथेर शो में जब पहेली बार इंडियन एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी ने शो में हिस्सा लिया था और इस शो की विनर भी बनी थी शिल्पा शेट्टी । उसके बढ़ से ही बिग बरोथेर का हिंदी वर्शन बनाने की बातें चल रही थी। इंडिया में भी यह शो बना था बिग बॉस के नाम से और यहाँ पर लोगों ने इससे बहुत पसंद भी किया है।

बिग बॉस शो के 10  सीजन आ चुके हैं। और सारे ही सीजन को लोगों ने काफी पसंद किया है। आपको बता दें की बिग बॉस को तमिलनाडु में भी पसंद किया जाता है। तमिलनाडु में भी बिग बॉस शो आता है जिसको एक्टर कमल हसन होस्ट करते हुए नज़र आ रहे हैं।

तमिलनाडु में चल रहे टीवी रियलिटी शो बिग बॉस जिसे कमल हासन होस्ट कर रहे हैं। उसे बंद करने की मांग उठी है।मद्रास कोर्ट में इसकी याचिका दायर भी करा दी गयी है।

आपको बता दें की तमिलनाडु का रहने वाला एक व्यक्ति ने याचिका दायर की है। उस व्यक्ति का सरावनन नाम बताया जा रहा है। उस व्यक्ति का यह आरोप है की जो गरीब और नीचे तबके के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। यह भी कहा गया है की इस शो में औरतों को अश्लील तरीके से दिखाया जाता है और उनकी भावनाओं के साथ खेला जा रहा है।

सरावनन ने कहा, “इस शो में औरतों का ड्रेस कोड और बर्ताव बहुत ही घिनौना है और परिवार के साथ इस शो को देखने में हम असुविधाजनक महसूस करते हैं।”

इस शो में गन्दी बस्तियों की तरह बर्ताव किया जाता है। इस शो में प्रतिभागियों ने ऐसे ही तरीके से व्यवहार किया है। इन सभी वजह से जिन गरीब प्रतिभागियों ने शो में भाग लिया है उन्हें इन सबसे चोट पहुंची है।

बताया जा रहा है कि ये शो लगभग एक महीने पहले शुरू हुआ जिसमें सभी 15 मेल और फीमेल कांटेस्टेंट्स को बिना फोन और बाहरी दुनिया से समपर्क के, एक एकांत जगह पर रहने को कहा गया था। भले ही इस शो की टीआरपी रेटिंग्स बढ़ती जा रही है, क्रिटिक्स भी इस शो के खिलाफ हैं क्योंकि इस शो से तमिल औरतों और उनकी संस्कृतियों को नष्ट किया जा रहा है।

सरावनन ने आगे कहा कि इस शो को सेंसरशिप के बाद ही पास किया जाना चाहिए क्यूंकि ये उन 15 प्रतिभागियों के मानसिक भावनाओं के साथ खेल रहा है और इसलिए इसपर रोक लगा देनी चाहिए। चैनल का दावा है कि इस शो को तीन करोड़ लोग देख रहे हैं जो कि बिल्कुल झूठ हैं।

इस मामले को लेकर सरवनन ने चॅनेल को 29 जुलाई को एक लेटर भी लिखा था लेकिन चैनल ने उस लेटर का कोई भी जवाब नहीं दिया था। उसके बाद ही सरवनन ने कोर्ट में याचिका दायर की थी।

इस याचिका को उच्च न्यायालय रजिस्ट्री द्वारा एक प्रोविजनल नंबर दिया गया है इसकी सुनवाई की उम्मीद सोमवार को की जा रही हैं।