BREAKING NEWS

पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली फिर हो जाएगी लॉकडाउन की शिकार? जानें क्या है सरकार की तैयारी ◾यूपी : सपा और रालोद प्रमुख की आज मेरठ में संयुक्त रैली, सीट बटवारें को लेकर कर सकते है घोषणा ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज, प्रदूषण को कम करने के लिए किया जा रहा है पानी का छिड़काव ◾विश्व में वैक्सीनेशन के बावजूद बढ़ रहे है कोरोना के आंकड़े, मरीजों की संख्या हुई इतनी ◾सदस्यीय समिति को अभी तक सरकार से नहीं हुई कोई सूचना प्राप्त,आगे की रणनीति के लिए आज किसान करेंगे बैठक ◾ पीएम मोदी आज गोरखपुर को 9600 करोड़ रूपये की देंगे सौगात, खाद कारखाना और AIIMS का करेंगे लोकार्पण◾

मिल्खा सिंह ने अपनी बायोपिक के लिए मांगा था सिर्फ एक रुपया, वजह जानकर और बढ़ जाएगा सम्मान

फ्लाइंग सिख के नाम से जाने जाने वाले भारत के महान एथलीट मिल्खा सिंह दुनिया को अलविदा कह गए हैं। कोरोना से पीड़ित होने के बाद मिल्खा सिंह की तबीयत बिगड़ी थी और वह इस वायरस से जंग हार गए। परिवार ने मीडिया को बतया कि पद्मश्री मिल्खा सिंह ने रात 11:30 पर आखिरी सांस ली। खेल जगत से लेकर बॉलीवुड और पूरे देश में मिल्खा सिंह के जाने की खबर के बाद शोक की लहर दौड़ गई है। 

फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह के बायोपिक पर भाग मिल्खा भाग फिल्म भी बन चुकी है। 2013 में रिलीज हुई इस फिल्म में पर्दे उन्हें फरहान अख्तर ने जिया। बायोपिक भाग मिल्खा भाग में उनके किरदार को निभाने वाले फरहान अख्तर ने भी मिल्खा सिंह को श्रद्धांजलि दी है। 

 फरहान अख्तर की फिल्म भाग मिल्खा भाग, मिल्खा सिंह और उनके फैंस के लिए बहुत खास थी। मिल्खा सिंह की बेटी ने अपने पिता के जीवन पर 'रेस ऑफ माई लाइफ' नाम से किताब लिखी, जो साल 2013 में प्रकाशित हुई थी। इस किताब के प्रकाशित होने के बाद फिल्म निर्माता राकेश ओम प्रकाश मेहरा ने मिल्खा सिंह के जीवन पर फिल्म ‘भाग मिल्खा भाग’ बनाने का फैसला लिया। फिल्म को लेकर जब वो इन फ्लाइंग सिख से मिले तो मिल्खा  ने राकेश ओम प्रकाश मेहरा के सामने आजीब सी शर्त रखी।

डायरेक्टर राकेश ओम प्रकाश मेहरा की इस फिल्म में मिल्खा सिंह के जीवन, उनकी जिंदगी के संघर्ष और खेल जगत में उनके आने और आजाद भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतने की कहानी दिखाई गई थी। जहां बायोपिक पर फिल्म बनाने की अनुमती देने के लिए सिलेब्स करोड़ो में फीस मांगते हैं, वहीं मिल्खा सिंह ने फिल्ममेकर से सिर्फ एक रुपये का नोट मांगा। इस एक रुपये की खास बात यह थी कि एक रुपये का यह नोट साल 1958 का था, जब मिल्खा ने राष्ट्रमंडल खेलों में पहली बार स्वतंत्र भारत के लिए गोल्ड मैडल जीता था। एक रुपये का यह नोट पाकर मिल्खा भावुक हो गए थे। यह नोट उनके लिए किसी बेशकिमती यादगार की तरह था।

फिल्म के प्रमोशन के दैरान मिल्खा सिंह ने बताया कि वो फरहार अख्तर फिल्म में निभाए गए रोल से काफी खुश हैं। एक्टर ने फिल्म में उन जैसा दिखने के लिए काफी मेहनत की है। हालांकि मिल्खा सिंह जबतक जीए उनके दिल में एक ही टीस रही। उनका एक अधूरा ख्वाब जीते जी पूरा ना हो सका। मिल्खा ने कहा था उनके जीवन की सिर्फ एक इच्छा अधूरी रह गई। उन्होंनेबताया कि रोम ओलंपिक में जो स्वर्ण पदक मेरे हाथ से फिसल गया था, दुनिया छोड़ने से पहले उसे अपने देश में देखना चाहता हूं। यही मेरी आखिरी इच्छा है।