BREAKING NEWS

UP चुनाव में एक नई हाई-प्रोफाइल पार्टी की होगी एंट्री, हिंदी भाषी क्षेत्र में धूम मचाने के लिए पूरी तरह तैयार TMC◾कांग्रेस ने नफरत के खिलाफ ‘वैचारिक युद्ध’ का लिया निर्णय, AICC मीटिंग में हुए ये तीन अहम फैसले ◾लालू ने नीतीश को बताया 'सबसे अहंकारी', कांग्रेस के साथ तकरार के लिए 'छुटभैए' नेताओं को ठहराया जिम्मेदार ◾आर्यन का गोसावी के साथ संबंधों से इनकार, NCB ने जमानत का किया विरोध, लगाए ये बड़े इल्जाम ◾योगी का केजरीवाल पर तंज- राम को गाली देने वालों को अब आ रही अयोध्या की याद, पहले संभालिए दिल्ली ◾शिक्षित युवा पाकिस्तान के साथ अपनी पहचान क्यों चुनते हैं? केंद्र पता लगाए: महबूबा मुफ्ती◾अखिलेश यादव ने सरकार पर लगाया आरोप, कहा-भाजपा का 'झूठ का फूल' अब बना 'लूट का फूल' ◾मलिक ने लगाई आरोपों की झड़ी, कहा- सेलिब्रिटीज के फोन टैप करवाते हैं वानखेड़े, चलाते हैं 'वसूली गिरोह'◾नवाब मलिक के दावों को क्रांति वानखेड़े ने बताया गलत, बोलीं-मेरे पति एक ईमानदार अफसर◾पंजाब की सियासत में अमरिंदर खेलेंगे दाव? पूर्व मुख्यमंत्री कल कर सकते हैं नई राजनीतिक पार्टी की घोषणा ◾लखीमपुर हत्याकांड : SC का आदेश- गवाहों को दें सुरक्षा, जांच में तेजी लाए सरकार◾कांग्रेस-RJD की लड़ाई को सुशील मोदी ने बताया 'नूराकुश्ती', बोले-चुनाव के बाद हो जाएंगे एक◾दिल्ली : NCB प्रमुख से मुलाकात करने पहुंचे वानखेड़े, मलिक के आरोपों पर बोले DDG- करेंगे आवश्यक कार्रवाई ◾अनिल विज का मुफ्ती पर तीखा हमला- PAK की जीत पर पटाखे फोड़ने वालों का DNA नहीं हो सकता भारतीय ◾BJP खुद को मानती है केंद्रीय जांच एजेंसियों का आका, याद रखें कि लोकतंत्र में हमेशा होता है बदलाव : शिवसेना◾सोनिया की अगुवाई में AICC मीटिंग, कहा- सरकार की ज्यादतियों के खिलाफ और तेज करनी चाहिए लड़ाई ◾जम्मू-कश्मीर में आतंक गतिविधियों का सिलसिला जारी, बांदीपोरा विस्फोट में 5 नागरिक घायल◾समीर वानखेड़े ने फर्जी दस्तावेज से हासिल की सरकारी नौकरी, होनी चाहिए जांच : नवाब मलिक◾देश में कोरोना के मामलों में गिरावट, पिछले 24 घंटे में 356 मरीजों की हुई मौत ◾पाकिस्तानी पत्रकार संग दोस्ती को लेकर छिड़ा विवाद तो कैप्टन ने शेयर की सुषमा, सोनिया और मुलायम की तस्वीर◾

फिल्म रिव्यू : 3/5 रेटिंग के साथ 'इंदु सरकार' एक सफल फिल्म बनने की ओर

आज मधुर भंडारकर की बहुप्रतीक्षित और विवादों से घिरी फिल्म 'इंदु सरकार' बड़े परदे पर रिलीज़ हो गयी। ये फिल्म साल 1975 में देश में इमरजेंसी काल के मुद्दे को लेकर बनायीं गयी थी जिसके रिलीज़ होने से पहले काफी विवाद हुआ और मधुर भंडारकर को सुरक्षा तक मुहैया करायी गयी थी। \"\"माना जा रहा था की इमरजेंसी काल के 19 महीनों में देस्श ने जो दर्द झेला उसका कच्चा चिट्ठा ये फिल्म खोलेगी। परन्तु फिल्म के शुरुआत में एक लम्बा डिस्क्लेमर दर्शकों के लिए है जिसमे बताया गया है की इस फिल्म में सबकुछ काल्पनिक ही है और असली घटनाओं से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है। \"\"मधुर भंडारकर एक बेहद चतुर निर्देशक क्यों कहे जाते है उन्होंने साबित किया इस फिल्म और मुख्य किरदार का नाम 'इंदु सरकार' रखकर, जिसे सीधे-सीधे पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से जोड़ कर देखा गया क्योंकि इंदिरा गांधी को उनके प्रियजन 'इंदु' बुलाते थे। \"\"फिल्म की कहानी एक अनाथ लड़की इंदु की है जो शायरा बनना चाहती है और कवितायेँ लिखती है जिसे सरकारी अधिकारी और सरकार के अंध भक्त 'नवीन सरकार' से प्रेम हो जाता है। कहानी को इमरजेंसी काल के इर्दगिर्द बुना गया है। \"\"तुर्कमान नरसंहार के बाद सरकार की जबरदस्ती के खिलाफ फिल्म की नायिका उठ खड़ी होती है जिसके चलते उस एअपने पति को छोड़कर अनुपम खेर का संगठन जॉइन करना पड़ता है। इसी के चलते इंदु को जेल भी जाना पड़ता है। \"\"उस समय में आम जनता की परेशानियों के लिए नायिका सरकार के खिलाफ लडती तो है पर कहानी में स्पष्ट रूप से कुछ भी दिखाया नहीं गया है। कुल मिलकर कहानी को फिल्म विश्लेषक 3/5 रेटिंग देते है। \"\"मुख्य भूमिका में कीर्ति कुल्हाड़ी 'इंदु' और उनके पति के रोल में तोता रॉय चौधरी ने बेहतरीन अभिनय किया है। नील नितिन मुकेश संजय गांधी के किरदार में जमे है और अनुपम खैर की प्रतिभा एक बार फिर बड़े परदे पर झलकी है। एक्टिंग की बात की जाए तो फिल्म को 4/5 रेटिंग मिलती है। \"\"कुल मिलकर कहा जाए तो ये फिल्म एक बार देखने लायक जरूर है। ओवरआल रेटिंग में फिल्म 3/5 अंक लेकर एक सफल फिल्म बनने की राह पर है।