BREAKING NEWS

TOP 20 NEWS 18 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾FATF ने पाक को ‘ग्रे सूची’ में कायम रखा, कार्रवाई की चेतावनी दी ◾दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को कोर्ट ने सुनाई 6 महीने की सजा, मिली जमानत◾महेंद्रगढ़ रैली में राहुल का प्रधानमंत्री पर वार, बोले-मोदी को नहीं है अर्थव्यवस्था की कोई समझ◾मोदी को डर, 'घेराबंदी' हटने पर कश्मीर में होगा खूनखराबा : इमरान खान◾हिसार में बोले PM मोदी-कांग्रेस ने हरियाणा विधानसभा चुनाव में पहले ही मान ली है हार◾लखनऊ में हिंदू महासभा के पूर्व नेता की कमलेश तिवारी की गोली मारकर हत्या◾महाराष्ट्र : शाह ने कांग्रेस पर साधा निशाना, पूछा-70 साल के शासन में जनजातीय समुदाय के लिए क्या किया?◾INX मीडिया मामले में CBI ने पी चिदंबरम के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया◾गोहाना रैली में PM मोदी का कांग्रेस पर वार, बोले-सर्जिकल स्ट्राइक की बात करते ही बढ़ जाता है पेट दर्द◾जयाप्रदा का आजम खान पर तंज, बोलीं- उन्हें औरत के आंसुओं की सजा मिल रही है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में, सप्ताहांत तक भारी गिरावट की उम्मीद ◾PMC बैंक: सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार, कहा- खटखटा सकते हैं हाई कोर्ट का दरवाजा◾CJI गोगोई ने केंद्र से की जस्टिस बोबडे को अगला प्रधान न्यायाधीश बनाने की सिफारिश◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का महेंद्रगढ़ दौरा रद्द, राहुल करेंगे रैली को संबोधित◾IMF की ताजा रिपोर्ट पर बोली वित्त मंत्री- भारत सबसे तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल◾भाजपा की तरह कांग्रेस का भी बना हाईटेक कार्यालय, 2020 में होगी शिफ्टिंग ◾मध्य प्रदेश की सियासत में 'हेमा के गाल और चील-कौवे' की एंट्री◾सीतारमण का मनमोहन को जवाब- किसी खास अवधि में कब और क्या गलत हुआ इसे याद करना जरूरी◾कांग्रेस-राकांपा को महाराष्ट्र की जनता सबक देगी : नरेंद्र मोदी◾

बॉलीवुड केसरी

हिंदी को लेकर चल रहे विवाद में सुपरस्टार रजनीकांत ने भी दिया बड़ा बयान, सियासी हलचल तेज

जाने माने अभिनेता रजनीकांत ने बुधवार को कहा कि पूरे भारत में एक ही भाषा की संकल्पना संभव नहीं है और हिंदी को थोपे जाने की हर कोशिश का केवल दक्षिणी राज्य ही नहीं, बल्कि उत्तर भारत में भी कई लोग विरोध करेंगे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी को पूरे भारत की आम भाषा बनाने की हाल में वकालत की थी जिसकी पृष्ठभूमि में रजनीकांत ने यह बयान दिया। 

रजनीकांत ने कहा कि हिंदी को थोपा नहीं जाना चाहिए क्योंकि पूरे देश में एक ही भाषा की संकल्पना ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ रूप से लागू नहीं की जा सकती। उन्होंने यहां हवाईअड्डे पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘केवल भारत ही नहीं, बल्कि किसी भी देश के लिए एक आम भाषा होना उसकी एकता एवं प्रगति के लिए अच्छा होता है। 


उन्होंने कहा, दुर्भाग्यवश, हमारे देश में एक आम भाषा नहीं हो सकती, इसलिए आप कोई भाषा थोप नहीं सकते।’’ उन्होंने कहा, ‘‘विशेष रूप से, यदि आप हिंदी थोपते हैं, तो तमिलनाडु ही नहीं, बल्कि कोई भी दक्षिणी राज्य इसे स्वीकार नहीं करेगा। उत्तर भारत में भी कई राज्य यह स्वीकार नहीं करेंगे।’’ 

गौरतलब है कि श्री शाह के हिन्दी संबंधी इस बयान की दक्षिण भारत की कईं विपक्षी पार्टियों द्रमुक, कांग्रेस, एमडीएमके और वीसीके ने जोरदार आलोचना की है। द्रमुक ने हिन्दी को जबरन थोपे जाने के मसले पर 20 सितंबर को राज्य व्यापी बंद प्रदर्शन का एलान किया है। 

अन्नाद्रमुक ने भी कहा है कि राज्य दो भाषा के अपने फार्मूले पर कायम रहेगा और जो भी इसमें कोई बदलाव करेगा उसका जोरदार विरोध किया जाएगा। मक्काल निधि मैयम के प्रमुख कमल हासन ने श्री शाह के बयान का विरोध करते हुए एक वीडियो जारी किया है। 

श्री हासन ने कहा,‘‘ जब भारत एक गणतंत्र बना था जो विविधता में एकता का वादा किया गया था और अब कोई शाह, सुल्तान और सम्राट उस वादे से मुकर नहीं सकता है। हम हर भाषा का सम्मान करते हैं लेकिन हमारी मातभाषा हमेशा तमिल ही रहेगी।’’ 

गौरतलब है कि हिन्दी दिवस के मौके पर श्री शाह ने कहा था, ‘‘भारत बहुत सी भाषाओं वाला देश है और हर भाषा की अपनी अहमियत है लेकिन एक ऐसी भाषा का होना जरूरी है जो विश्व में भारत की पहचान बन सके। अगर आज कोई भाषा देश को जोड़ सकती है तो वह भाषा हिन्दी है जो सबसे अधिक बोली जाती है।’’

जनसंख्या नियंत्रण को प्रोत्साहन दें कांग्रेस कार्यकर्ता : जितिन प्रसाद