BREAKING NEWS

विधान परिषद के सभापति के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद सीएम नीतीश ने भी कराया कोविड-19 टेस्ट ◾‘सेवा ही संगठन’ कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी : राहत कार्य सबसे बड़ा ‘सेवा यज्ञ’ ◾लॉकडाउन के दौरान UP में हुए सराहनीय सेवा कार्यों के लिए सरकार और संगठन बधाई के पात्र : PM मोदी ◾पीएम मोदी और घायल सैनिकों की मुलाकात वाले हॉस्पिटल को फर्जी बताने के दावे की सेना ने खोली पोल◾दिल्ली में 24 घंटे के दौरान 2505 नए कोरोना पोजिटिव मामले आए सामने और 81 लोगों ने गंवाई जान ◾कुख्यात अपराधी विकास दुबे के नाराज माता - पिता ने कहा 'मार डालो उसे, जहां रहे मार डालो' ◾ममता सरकार ने दिल्ली, मुंबई, चेन्नई व तीन अन्य शहरों से कोलकाता के लिए यात्री उड़ानों पर लगाया बैन◾देश के होनहारों को प्रधानमंत्री ने ‘आत्मनिर्भर भारत ऐप नवप्रवर्तन चुनौती’ में भाग लेने के लिए किया आमंत्रित◾रणदीप सुरजेवाला ने PM पर साधा निशाना, बोले-चीन का नाम लेने से क्यों डरते हैं मोदी◾जम्मू-कश्मीर : कुलगाम में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में एक आतंकवादी को किया ढेर ◾कांग्रेस का प्रधानमंत्री से सवाल, कहा- PM मोदी बताएं कि क्या चीन का भारतीय जमीन पर कब्जा नहीं◾कानपुर मुठभेड़ : विकास दुबे को लेकर UP प्रशासन सख्त, कुख्यात अपराधी का गिराया घर◾नेपाल : कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक टली, भारत विरोधी बयान देने वाले PM ओली के भविष्य पर होना था फैसला◾देश में कोरोना वायरस के एक दिन में 23 हजार से अधिक मामले आये सामने,मृतकों की संख्या 18,655 हुई ◾चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात को नजरअंदाज न करे सरकार, देश को चुकानी पड़ेगी कीमत : राहुल गांधी◾धर्म चक्र दिवस पर बोले PM मोदी- भगवान बुद्ध के उपदेश ‘विचार और कार्य’ दोनों में देते हैं सरलता की सीख ◾World Corona : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का हाहाकार, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 10 लाख के पार ◾पूर्वी लद्दाख गतिरोध : चीन के साथ तनातनी के बीच भारत को मिला जापान का समर्थन◾ट्रेनों के निजीकरण पर रेलवे का बयान : नौकरियां नहीं जाएंगी, लेकिन काम बदल सकता है ◾तमिलनाडु में कोरोना मरीजों की संख्या एक लाख के पार ,बीते 24 घंटों में 4329 नये मामले और 64 लोगों की मौत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

रणवीर के पिता ने जब पूछा था आखिर इतना पैसा दीपिका के लिए फूलों पर क्यों करते हो खर्च, तब एक्टर ने दिया था ये जवाब

बॉलीवुड के फेमस कपल में रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण का नाम लिया जाता है। रणवीर बेहद ही अच्छे बॉयफ्रेंड रहे और अब भी एक बेहतरीन हस्बैंड हैं। जब भी एक साथ दोनों होते हैं तो उनकी जो केमिस्ट्री होती है वो हर किसी का दिल जीत लेती है। हाल ही में इंस्टा पर रणवीर और दीपिका की लाइव चैट फुटबालर सुनील छेत्री के साथ हुई जिसमें कई मजेदार बातों का खुलासा दोनों ने छेत्री से किया। 

बता दें कि दीपिका पादुकोण को इम्प्रेस करने में रणवीर सिंह ने बहुत फील्डिंग की है। हालांकि उन्होंने ऑन-रेकॉर्ड्स भी इस बात को स्वीकारा है। रणवीर सिंह ने फुटबॉलर सुनील छेत्री के साथ लाइव चैट में कहा कि दीपिका को पटाने के लिए उन्होंने क्या-क्या किया था। इस लाइव चैट में रणवीर ने कहा कि उन्होंने दीपिका से छह महीने मिलने के बाद तय कर लिया था कि उनसे ही शादी वह करेंगे। वैसे उन्हें इस बात का पता था कि इतना आसान नहीं है दीपिका को पटाना। जब भी दीपिका से मिलने रणवीर जाते थे तो फूल ले जाना कभी नहीं भूलते थे। 

दीपिका के लिए रणवीर छोटी सी मुलाकात में भी लिली जरूर लेकर जाते थे क्योंकि वह जानते थे कि ये फूल दीपिका को बहुत पसंद है। रणवीर ने इस लाइव चैट में कहा कि उनके पिता ने एक बार उनसे पूछा, तुम्हें कुछ अंदाजा है कि फूलों पर कितने पैसे खर्च कर रहे हो? रणवीर ने इसका जवाब देते हुए कहा, पापा आप चिंता न करो, लक्ष्मी के अवतार में छप्पर फाड़ के आएंगे। 

रणवीर ने बताया है कि दीपिका को इम्प्रेस करने के लिए उन्होंने कहा था कि बहुत अच्छा खाना उन्हें बनाना आता है और वह उन्हें बनाकर खिलाएंगे। लेकिन दीपिका को आज तक रणवीर ने उन्हें खाना बनाकर नहीं खिलाया। सुनील ने रणवीर से आगे पूछा कि जब वह अपने किरदारों में इतनी गहराई से डूब जाते हैं तो दीपिका उन्हें कैसे संभालती हैं। 

अभिनेता ने कहा कि यह दीपिका के समर्थन के बिना संभव नहीं होता। वह बहुत अधिक विकसित है। वह मेरे लिए एक महान मार्गदर्शक हैं। वह मेरे लिए एक स्तंभ है। वह मुझे ट्रैक पर रखती है। अगर वो मेरे साथ नहीं होती टी शायद में आज यह सफलता नहीं छू पाता। यह मेरा 10वां वर्ष है और मैं उससे तीन साल के शो बिजनेस में मिला और तब से उसके साथ हूं।

रणवीर ने कहा, मुझे लगता है कि मैं फिल्म स्टार होने के दबावों का सामना नहीं कर पाता, अगर वह नहीं होती। मैं खो जाता। वह मेरे लिए केवल इसलिए चिंता करती है क्योंकि वह देखती है कि मैं चरित्र का वांछित परिणाम पाने के लिए किसी भी हद तक जायूंगा। मैं इसे सेहतमंद नहीं कह सकता क्योंकि यह आप पर भारी पड़ता है, लेकिन जब आप अपने आप को कगार पर धकेलते हैं और बाहर आते हैं, तो आप विकसित होते हैं और यह कला की सुंदरता है। हालांकि, मुझे अपनी पत्नी को यह बताने में खुशी हो रही है कि मैंने खुद को नुकसान पहुंचाए बिना परिणाम प्राप्त करने के अधिक प्रभावी तरीके खोज लिए हैं।