पिछले कुछ महीनों से आपने एक गाना बहुत सुना होगा ‘मेरे रश्के कमर’ जो की सोशल मीडिया से लेकर लोगों के फ़ोन की रिंगटोन और कॉलर ट्यून तक बेहिसाब छाया हुआ है। लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी की गण तो तो ये खूब गुनगुनाया जा रहा है पर इसका सही मतलब बहुत ही काम लोगों को पता है।

तो कही आपसे कोई इस गाने का मतलब पूछे इससे पहले समझ लीजिये इस गाने के बारे में दिलचस्प बातें। आपकी जानकारी के लिए बता दें की ‘मेरे रश्के क़मर’ कोई गाना नहीं है, बल्कि यह एक उर्दू में लिखा हुआ गजल है। जिसे पाकिस्तान के मशहूर ग़ज़ल गायक फ़तेह अली खान ने आज से लगभग 30 वर्ष पहले गाया था।

लेकिन आज इस गजल को एक गाने का रूप दे दिया गया है, जो आज लोगों को खूब पसंद आ रहा है।जैसा की हमने बताया की इस गाने में दो अल्फाज हैं, जिसे ‘रश्के’ और ‘क़मर’ कहते हैं। आपको बता दें की रश्के का मतलब हिंदी में जलन से है। यानी किसी से जलना और ‘क़मर’ का मतलब चाँद से होता है।

सीधे तौर पर कहें तो किसी चीज की ऐसी खूबसूरती जिसे देख चाँद भी जलने लगे। जी हाँ, यह है इन दो अल्फाजों का मतलब। आजकल इसके कई रीमिक्स आपने सुने होंगे जो खूब पसंद किये जा रहे है पर अगर इस गाने का असली मज़ा लेना है तो इस गाने की ओरिजनल ग़ज़ल को जरूर सुने तो आपको महसूस होगा की जो दिलकशी इस ग़ज़ल में है वो आज के रीमिक्स गानों में नहीं है।

बॉलीवुड में इस ग़ज़ल पर हाल ही में फिल्माया गया एक वीडियो यूट्यूब पर जबरदस्त हिट हुआ था तबसे इस गाने पर कॉपीराइट को लेकर कुछ विवाद भी हुआ था।

इस वीडियो में मशहूर बॉलीवुड कलाकार ह्रितिक रोशन और अभिनेत्री सोनम कपूर नज़र आये थे। तो अब आप जब इस गाने का सही मतलब समझ गए है गुनगुनाइए हमारे साथ एक बार फिर और अपने दोस्तों का ज्ञान भी बढ़ाइए इस जानकारी को शेयर करके।