BREAKING NEWS

किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए राकेश टिकैत ने कही ये बात◾DRDO ने जमीन से हवा में मार करने वाली VL-SRSAM मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾बिना कांग्रेस के विपक्ष का कोई भी फ्रंट बनना संभव नहीं, संजय राउत राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बोले◾केंद्र की गलत नीतियों के कारण देश में महंगाई बढ़ रही, NDA सरकार के पतन की शुरूआत होगी जयपुर की रैली: गहलोत◾अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कहा- कभी नहीं सोचा था कि फिल्मों में बिना किसी कनेक्शन से बॉलीवुड एक्टर बनने का

बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कई हिट फिल्मों में काम किया है। फिल्म स्टूडेंट ऑफ ईयर से फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था। एक्टर ने कहा कि बॉलीवुड में कैरियर बनाने के लिए मुंबई आना आसान नहीं था। उन्होंने बताया कि परिवार के साथ से उनकी यह यात्रा थोड़ी आसान हो गयी। 

सिद्धार्थ से जब सवाल किया गया था कि उनके मुंबई आने के फैसले का परिवार ने कैसे समर्थन किया तो उन्होंने कहा कि, मुझे याद है कि जब मैं मुंबई आया था तब मैं 21 साल का था और यहां पर मैं अकेले रह रहा था और इसके बाद मैंने जॉइंट फैमिली की खूब तारीफ की थी। दरअसल मैं खुद जॉइंट फैमिली में रहता था जहां कई सारे लोग एक साथ रहते हैं। 

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कहा कि, मुझे याद है जब मैं अपने माता-पिता से बात कर रहा था तो उन्हें कहा था कि आखिर हम फोन रखते हुए लव यू मां, लव यू डैड क्यों नहीं कहते। दरअसल हम पंजाबी परिवारों में ऐसा कल्चर नहीं है कोई बाहर जाकर इतनी दूर अकेले रहे। मुझे याद है जब मैं अपने पिता के साथ बैठा हुआ था तो मैंने उन्हें कहा था जब भी मैं जाऊंगा तो आप गुडबाय के साथ यह भी कहेंगे कि आप मुझे से प्यार करते हैं और उन्होंने जवाब दिया 'या या, बेशक।' 

अभिनेता ने आगे कहा कि, उन्होंने मुझे मारा और यह काफी मजेदार था। इसी बीच कई ऐसे पिता होते हैं जिनके 21 साल के बच्चे दूसरे शहरों में रहते हैं और वह हमेशा अपने पिता से फोन रखने से पहले पूछते हैं कि क्या वह उनसे प्यार करते हैं। मुझे एहसास हुआ कि जब मैं एक अभिनेता बनने के लिए मुंबई आया था, तो यह आसान नहीं था और मुझे लगा कि आपके माता-पिता ने आपको सिखाया है कि आप क्या कर रहे हैं।

सिद्धार्थ ने 18 साल की उम्र में एक मॉडल के रूप में अपना करियर शुरू किया। उन्होंने फिल्मकार करण जौहर के सहायक निर्देशक के रूप में 2010 की फिल्म "माई नेम इज खान" में काम किया, जौहर की 2012 में रिलीज़ हुई फिल्म स्टूडेंट ऑफ थी ईयर से डेब्यू किया था। सिद्धार्थ ने हसी तो फसी, ब्रदर्स, एक विलेन और कपूर एंड संस और बार-बार देखो जैसी फिल्मों में काम किया है। अभिनेता ने कहा कि उसके माता-पिता नहीं जानते थे कि वह "बड़ा होकर अभिनेता बनना चाहता है"।

सिद्धार्थ ने कहा, मैंने कभी नहीं सोचा था जब मैं एक युवा था और फिल्मों में बिना कोई कनेक्शन हुए दिल्ली से बॉलीवुड अभिनेता बनना संभव था। वे मुझे एक अभिनेता के रूप में आकार नहीं दे रहे थे, लेकिन एक अच्छा इंसान बनने के लिए मैं कहूंगा। और मेरा मतलब है कि यह अत्यंत विनम्रता के साथ है और यह नहीं कह रहा हूं कि मैं एक आदर्श उदाहरण हूं, लेकिन सिर्फ यह कहने के लिए कि कुछ बुनियादी गुण हैं, मुझे लगता है कि मुझे अपने परिवार से विरासत में मिला है और यही मैं लोगों को दे रहा हूं। अभिनेता सोचता है कि समाज में बहुत सारे मुद्दे कठोर परवरिश से उपजा है।

सिद्धार्थ ने कहा कि, जब भी लोग देश के भीतर विभिन्न मुद्दों पर बात करते हैं, महिलाओं की सुरक्षा या सुरक्षा के साथ शुरू करते हैं, तो यह कुछ ऐसा है जिसे समाज को ठीक करना है और पहले लड़कों को ठीक करने से उपजा है। दुनिया के सभी पुरुषों को विशेष रूप से भारत में अच्छा होना चाहिए।