BREAKING NEWS

बवाल : गाजीपुर, सिंघू, टिकरी बॉर्डर से बैरिकेड तोड़ दिल्ली में घुसे किसान, पुलिस ने दागे आंसूगैस के गोले ◾राजपथ पर अत्याधुनिक हथियार, मिसाइल, लड़ाकू विमानों, भारतीय सैनिकों ने दिखाई भारत की ताकत ◾72वां गणतंत्र दिवस : राजपथ पर दिखी ऐतिहासिक विरासत, सांस्कृतिक धरोहर और शौर्य की झलक◾पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की दी शुभकामनाएं ◾भाजपा ने जय श्रीराम का नारा लगाकर नेताजी का अपमान कियाः ममता बनर्जी ◾किसान संगठनों का ऐलान - बजट के दिन संसद की तरफ करेंगे कूच, यह पूरे देश का आंदोलन है◾गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सम्बोधन में बोले कोविंद - किसानों के हित के लिए सरकार पूरी तरह समर्पित ◾प्रदूषण फैलाने वाले पुराने वाहनों पर लगाया जायेगा ‘ग्रीन टैक्स’, गडकरी ने दी मंजूरी◾पंजाब के CM अमरिंदर सिंह ने किसानों से शांतिपूर्ण तरीके से ट्रैक्टर परेड निकालने की अपील की ◾कृषि कानूनों को डेढ़ साल तक निलंबित रखने का फैसला सरकार की 'सर्वश्रेष्ठ' पेशकश : नरेंद्र सिंह तोमर◾मुंबई की किसान रैली में बोले पवार - राज्यपाल के पास कंगना के लिए समय है, किसानों के लिए नहीं◾टीकों के खिलाफ अफवाहों को रोकने और उन्हें फैलाने वालों के खिलाफ केंद्र द्वारा सख्त कार्रवाई के निर्देश ◾प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक असमानता बढ़ी : कांग्रेस ◾PM की मौजूदगी में तानों का करना पड़ा सामना, BJP का नाम होना चाहिए ‘भारत जलाओ पार्टी’ : CM ममता ◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं से किया संवाद, जीवनी पढ़ने की दी सलाह ◾राहुल के आरोपों पर बोले CM शिवराज, कांग्रेस के माथे पर देश के विभाजन का पाप◾किसानों ने ट्रैक्टर परेड के लिए तैयार किया ब्लू प्रिंट, चाकचौबंद व्यवस्था के साथ ये है गाइडलाइन्स◾PM की वजह से देश हो गया एक कमजोर और विभाजित भारत, अर्थव्यवस्था हुई ध्वस्त : राहुल गांधी ◾महाराष्ट्र में किसानों का हल्ला बोल, कृषि कानून विरोधी रैली में उतरेंगे शरद पवार-आदित्य ठाकरे ◾सिक्किम में चीनी घुसपैठ को भारतीय सैनिकों ने किया नाकाम, चीन के 20 सैनिक जख्मी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बीते दशक में इन 12 बेहतरीन फिल्मों ने बदल दी मलयालम सिनेमा की दुनिया

मलयालम सिनेमा के लिए बीता दशक एक गेम चेंजर साबित हुआ है। कलाकारों की नयी पीढ़ी ने सुपरस्टार्स के एकछत्र राज से इस सिनेमा  को निकाल कर इसका चेहरा बदल कर रख दिया है। विनेथ श्रीनिवासन, लिजो जोस पेलिसरी, आशिक अबू, अंजली मेनन और दिललेश पठान जैसे निर्देशकों के साथ फहद फासिल, पार्वती, निविन प्यूल, दलकीर सलमान ने इस सिनेमा को नयी राह दिखाई है। 

मोहनलाल और ममूटी जैसे दिग्गजों की लकीर से आगे बढ़ते हुए इस सिनेमा में बहुत नयापन देखने को मिला है। फिल्म में अभिनेत्री के साथ मारपीट और अपहरण जैसे विषय अब टिपिंग बिंदु भर रह गए है। महिला कलाकारों ने कार्यस्थल पर लैंगिक समानता और सुरक्षा के लिए लड़ने वाला सिनेमा दर्शकों के सामने पेश किया है। 

आज हम आपको 12 ऐसी मलयालम फिल्मों के बारे में बता रहे है , जिन्होंने इस इंडस्ट्री को एक नया मुकाम हासिल करने में अहम भूमिका निभायी है। 

1. महेशीनते प्रथिकारम (2016):


स्याम पुष्करन द्वारा लिखी और दिललेश पोथन के निर्देशन में बनी ये फिल्म युवा फोटोग्राफर महेश की जिंदगी में आये प्यार और दिल टूटने की जर्नी दिखाई।  फिल्म में लीड रोल फहद फासिल ने मुख्य भूमिका निभाई थी। 

2. मयानाधी (2017) : 

आशिक अबू द्वारा निर्देशित और सियाम पुष्करण और दिलेश नायर द्वारा लिखित, फिल्म मयानाधी दो लवर्स और उनके इंटेंस और उतार-चढ़ाव वाले रिलेशनशिप के इर्द-गिर्द घूमती है। टोविनो थॉमस और ऐश्वर्या लक्ष्मी ने फिल्म में लीड रोल निभाए है। 

 3. प्रेमम : 


लेखक-निर्देशक अल्फोंस पुथ्रेन फिल्म प्रेमम लीड किरदार जॉर्ज (Nivin Pauly) के  हाई स्कूल से वयस्कता तक की कहानी के इर्द गिर्द घूमती है। प्रेमम की कहानी 90 के दशक से लेकर 2000 के शुरूआती सालों में स्कूल और कॉलेज जाने वाले युवाओं की यादों की ताजा करती है। 

4. ई. मा. यू. (2018)



लिजो जोस पेलिसरी की फिल्म ई. मा. यू. अब तक की सबसे इंटेंस फिल्म है। पीएफ मैथ्यूज द्वारा लिखित ये फिल्म केरल में एक तटीय गांव की पृष्ठभूमि में स्थापित है। फिल्म ववाचन मास्त्री की मृत्यु और उनके अंतिम संस्कार तक की घटनाओं के इर्द-गिर्द घूमती है।

5. दृश्यम  (2015)



जेथू जोसेफ की ये फिल्म जॉर्जकुट्टी, उनकी पत्नी और दो बेटियां के इर्दगिर्द घूमती है । जॉर्जकुट्टी, एक स्कूल ड्रॉपआउट जो स्थानीय केबल नेटवर्क चलाता है, फिल्मों के शौक़ीन किरदार एक मर्डर के बाद किस तरह अपने परिवार को पुलिस की कार्यवही से बचाता है , यही इस फिल्म की कहानी है। 

6. अंगमाली डायरीज़ (2017)



निर्देशक लिजो जोस पेलिसरी ने इस कहानी को नेरेटर और हीरो विन्सेंट पेपे के साथ, अंगमाली के हलचल भरे शहर में सेट किया है। अंगमाली डायरीज़ शहर की उपसंस्कृति, खानपान और धर्म की बारीकियों को दर्शाता है।

7. मुन्नारिप्पू (2014)



सिनेमाटोग्राफर वेणु द्वारा निर्देशित और उन्नी आर द्वारा लिखित, फिल्म मुन्नारिप्पू , एक महिला पत्रकार के इर्द-गिर्द घूमती है, जिसे एक कैदी के उसूलों और स्वतंत्रता के बारे में एक पुस्तक लिखने के लिए मजबूर किया। एक कैदी जिसने दोहरे हत्याकांड के लिए जीवन अवधि की सेवा पूरी कर ली है, उसे उसके लिए योजना बनाने की अनुमति देता है।

8. ट्रैफिक (2011)



राजेश पिल्लई द्वारा निर्देशित और पटकथा लेखक जोड़ी बॉबी-संजय द्वारा लिखित इस फिल्म ने इस दशक के शुरू में मलयालम सिनेमा में नई लहर की शुरुआत की। ट्रैफिक एक हाइपरलिंक कहानी के माध्यम से वास्तविक जीवन की घटनाओं से प्रेरित है।

9. थोंडीमुथलम ड्रक्सकशीम (2017)



निर्देशक दिलेश पोथन और लेखक सजिव पझूर की ये फिल्म एक चोर की कहानी है जो एक महिला की चैन कराता है और सोते समय उसे निगल जाता है। यंग रोमांस और मिस्ट्री से भरपूर ये फिल्म भी खूब पसंद की गयी है। 

10. नाइजीरिया से सुदानी (2018)



निर्देशक ज़कारिया की फिल्म उत्तरी केरल के एक काल्पनिक शहर में गढ़ी गयी है,  सात नाइजीरियाई फुटबॉल खिलाड़ी और उनके मलयाली प्रबंधक के बीच अजीब, अनोखे बांड के बारे में बात करती है। ज़कारिया और मुहसिन परारी द्वारा लिखित यह फिल्म एक समुदाय और संस्कृति की बारीकियों को उजागर करती है, और आम तौर पर मलयालम सिनेमा में दिखाए गए रूढ़ियों से परे अफ्रीकियों का प्रतिनिधित्व करती है।

11. कुंबलंगी नाइट्स (2019)

मधु सी नारायणन द्वारा निर्देशित और स्याम पुष्करन द्वारा लिखी गई कुंबलंगी नाइट्स, , चार दुराचारी भाइयों की कहानी है, जो मध्य केरल के एक पिछड़े गांव में रहते है। कैसी है इनकी जिंदगी और किस मोड़ पर आकर बदलती है , यही इस फिल्म की कहानी है। 

12. उस्ताद होटल



अंजलि मेनन द्वारा लिखित, अनवर रशीद द्वारा निर्देशित, मलयालम सिनेमा में खानपान पर दुर्लभ फिल्मों में से एक है।  उस्ताद होटल एक दादाजी और एक पोते की कहानी है। 

करीना ने अपनी सास शर्मीला टैगोर से पूछा- 'चारों पोते-पोतियों में कौन है फेवरेट', मिला कुछ ऐसा जवाब