BREAKING NEWS

मुफ्ती और अब्दुल्ला परिवार ने अपनी संपत्ति बनाने के लिए निजी कंपनियों की तरह काम किया :भाजपा ◾संजय राउत के बयान पर फडणवीस बोले- शिवसेना ने ‘लव जेहाद’ पर अपना रूख ‘नरम’ कर लिया है◾राकांपा प्रमुख शरद पवार बोले- शिवसेना विधायक सरनाईक के खिलाफ ईडी की कार्रवाई विपक्ष की निराशा है◾नेशनल कांफ्रेस के नेताओं ने सरकारी जमीन का किया अतिक्रमण : अनुराग ठाकुर◾'लव जिहाद' के खिलाफ अध्यादेश लाई योगी सरकार, जल्द बनेगा कानून ◾राहुल गांधी ने ‘निवार’ तूफान के मद्देनजर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से जरूरतमंदों की मदद करने की अपील की ◾मोदी सरकार ने सुरक्षा का हवाले देते हुए बैन किए 43 मोबाइल ऐप्स, अधिकतर चाइनीज ऐप्स है शामिल ◾J&K प्रशासन का दावा - अब्दुल्ला का मकान गैरकानूनी तरीके से अतिक्रमण वाली जमीन पर बनाया गया ◾बंबई HC ने दी अभिनेत्री कंगना और उनकी बहन को बड़ी राहत, गिरफ्तारी पर लगाई अंतरिम रोक ◾CM ममता ने PM मोदी को दिलाया विश्वास, कहा- बंगाल कोविड-19 के टीकाकरण लिए केंद्र के साथ मिलकर करेगा काम ◾पीएम मोदी बोले- कोरोना को लेकर फिर से जागरूकता फैलाने की जरूरत, वैक्सीन अभियान एक नेशनल कमिटमेंट ◾Covid 19 : PM मोदी के साथ समीक्षा बैठक में ममता बनर्जी ने उठाया GST का मुद्दा◾पीएम मोदी ने स्वतंत्रता सेनानी सर छोटू राम को उनकी जयंती पर किया नमन ◾PM मोदी के साथ संवाद में बोले सीएम गहलोत - राजस्थान में हर दिन हो रही हैं 30,000 से अधिक जांच◾भारत ने किया ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण, जल-थल और वायु में वार करने में सक्षम ◾PM मोदी के खिलाफ चुनाव में नामांकन रद्द करने के मामले में तेज बहादुर को SC से झटका, याचिका खारिज ◾मुख्यमंत्रियों संग पीएम मोदी की बैठक में बोले केजरीवाल- दिल्ली में 1000 बेड हो रिजर्व, प्रदूषण के मामले में दें दखल ◾केंद्रीय मंत्री रावसाहेब के दावे पर बोले राउत- हमारी सरकार 4 साल और करेगी पूरे, विपक्ष के सारे प्रयास फेल◾रोहिंग्या मुद्दे को लेकर ओवैसी का गृह मंत्री अमित शाह पर वार, BJP को दिया यह चैलेंज◾कोरोना वायरस : दिल्ली में लगातार चौथे दिन 100 से ज्यादा की गई जान, हर घंटे में 5 लोगों की मौत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

AEPC ने कहा- निर्यात क्षेत्र में सिर्फ 50 करोड़ रुपये के निवेश मापदंड से ही MSME का दर्जा मिलना चाहिए

परिधान निर्यात संवर्धन परिषद (एईपीसी) ने गुरुवार को कहा कि निर्यात क्षेत्र में एमएसएमई का दर्जा देने के लिए सिर्फ 50 करोड़ रुपये के निवेश का ही मापदंड होना चाहिए। इसमें विनिर्माण इकाई के कारोबार को संज्ञान में नहीं लिया जाना चाहिए। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (एमएसएमी) मंत्री नितिन गडकरी को लिखे एक पत्र में एईपीसी के अध्यक्ष ए शक्तिवेल ने कहा कि चूंकि निर्यातकों का टर्नओवर विदेशी मु्द्रा दरों पर निर्भर करता है और पिछले 10 वर्षों से रुपया लगातार कमजोर हुआ है, इसलिए उचित होगा कि सिर्फ निवेश का मानदंड रखा जाए और कारोबार सीमा को हटा दिया जाए।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले सप्ताह 20 लाख करोड़ रुपये के प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा के दौरान एमएसएमई की परिभाषा में बदलाव की घोषणा की थी। नई परिभाषा के अनुसार एक करोड़ रुपये तक निवेश और पांच करोड़ रुपये से कम कारोबार वाली फर्म को ‘सूक्ष्म’ के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इसके बाद 10 करोड़ रुपये तक के निवेश और 50 करोड़ रुपये तक कारोबार करने वाली कंपनी को ‘लघु’ के रूप में वर्गीकृत किया गया है। 

ऐसे ही 20 करोड़ रुपये तक निवेश और 100 करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाली कंपनी को ‘मध्यम’ इकाइ के रूप में वर्गीकृत किया गया है। शक्तिवेल ने कहा कि निर्यात उद्योग केवल 50 करोड़ रुपये निवेश की कसौटी पर खरा उतरने की ही सलाह देगा, जैसा प्रावधान पहले था। उन्होंने कहा कि अगर कारोबार का मापदंड जरूरी है तो इसकी सीमा बढ़ाकर 300 करोड़ रुपये करनी चाहिए।