BREAKING NEWS

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾कोरोना संकट : दिल्ली सरकार ने राजस्व की कमी के कारण केंद्र से मांगी 5000 करोड़ रुपए की मदद ◾मन की बात में PM मोदी ने योग के महत्व का किया जिक्र, बोले- भारत की इस धरोहर को आशा से देख रहा है विश्व◾'मन की बात' में PM मोदी ने देशवासियों की सेवाशक्ति को कोरोना जंग में बताया सबसे बड़ी ताकत◾तमिलनाडु सरकार ने 30 जून तक बढ़ाया लॉकडाउन, सार्वजनिक परिवहन की आंशिक बहाली की दी अनुमति ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 82 हजार के पार, महामारी से 5164 लोगों ने गंवाई जान ◾विश्व में कोरोना मरीजों का बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के पार◾महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद शरद पवार ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात ◾दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾लॉकडाउन, अनुच्छेद 370 खत्म करना, राम मंदिर ट्रस्ट बड़ी उपलब्धियों में शामिल : गृह मंत्रालय ◾हिन्दुस्तान में बहुत सारे लोग कष्ट में हैं और भाजपा सरकार जश्न मना रही है : प्रियंका गांधी वाड्रा ◾लद्दाख सीमा तनाव पर रक्षामंत्री बोले- चीन से डिप्लोमैटिक और मिलिट्री लेवल पर चल रही है बातचीत ◾लॉकडाउन 5.0 लागू करने पर पीएमओ में महामंथन, गृहमंत्री अमित शाह ने की पीएम मोदी से मुलाकात◾कोरोना के बढ़ते केसों से घबराएं नहीं, महामारी से चार कदम आगे है आपकी सरकार : CM केजरीवाल◾मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ पर कांग्रेस ने कसा तंज, ‘बेबस लोग, बेरहम सरकार’ का दिया नारा ◾मोदी जी की इच्छा शक्ति की वजह से सरकार ने साहसिक लड़ाई लड़ी एवं समय पर निर्णय लिये : नड्डा ◾कोविड-19 पर पीएम मोदी का आह्वान - 'लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं'◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर कांग्रेस, भाजपा के निशाने पर केजरीवाल सरकार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बीपीसीएल का जल्द होगा निजीकरण, सरकार बेचेगी अपनी पूरी हिस्सेदारी

देश में सबसे बड़ी निजीकरण पहल के तहत सरकार ने शनिवार को दूसरी सबसे बड़ी तेल रिफाइनरी कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) में अपनी पूरी 52.98 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए बोलियां आमंत्रित की। 

निवेश और लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) के बोली दस्तावेज के मुताबिक बीपीसीएल की रणनीतिक बिक्री के लिए दो मई तक रुचि पत्र सौंपे जा सकते हैं। इसमें कहा गया है कि भारत सरकार बीपीसीएल में अपनी पूरी शेयरहोल्डिंग के रणनीतिक विनिवेश का प्रस्ताव कर रही है। इसमें 114.91 करोड़ इक्विटी शेयर शामिल हैं जो कि बीपीसीएल की कुल इक्विटी पूंजी का 52.98 प्रतिशत है। 

इसके साथ ही कंपनी का प्रबंध नियंत्रण भी रणनीतिक खरीदार के हवाले किया जायेगा। इस विनिवेश प्रस्ताव में नुमालीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड (एनआरएल) में बीपीसीएल की 61.65 प्रतिशत हिस्सेदारी शामिल नहीं है। एनआरएल की यह हिस्सेदारी किसी सार्वजनिक क्षेत्र की तेल एवं गैस कंपनी को बेची जाएगी। बोली दो चरणों में लगाई जाएगी।

पहले चरण में कंपनी को खरीदने में रुचि दिखाने वाले सफल बोलीदाता को दूसरे चरण में वित्तीय बोली लगाने के लिए कहा जाएगा। बोली आमंत्रण के लिये जारी दस्तावेज में कहा गया है कि निजीकरण में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां “भाग लेने के योग्य नहीं हैं।

 कोई भी निजी कंपनी जिसकी कुल निवल संपत्ति 10 अरब अमेरिकी डॉलर है, वह कंपनी के रणनीतिक विनिवेश में भाग ले सकती है और अधिकतम चार कंपनियों के समूह को बोली लगाने की इजाजत दी जाएगी। बोली की शर्तों के अनुसार ऐसे समूह के अग्रणी सदस्य को कम से कम 40 प्रतिशत हिस्सेदारी लेनी होगी जबकि अन्य सदस्यों के पास न्यूनतम एक अरब डॉलर की निवल परिसंपत्ति होनी चाहिये। 

इसमें कहा गया है कि कोई भी समूह जो बोली लगाता है उसके सदस्यों में यदि बदलाव किया जाता है तो वह 45 दिनों के भीतर करनी होगी, लेकिन अग्रणी सदस्य नहीं बदल सकता है।बीपीसीएल के पास देश की तेल रिफाइनरी क्षमता का 14 प्रतिशत हिस्सा है और ईंधन बाजार में उसकी करीब एक चौथाई हिस्सेदारी है।

बीपीसीएल का बाजार पूंजीकरण करीब 87,388 करोड़ रुपये का है और मौजूदा बाजार मूल्य पर सरकार की हिस्सेदारी करीब 46,000 करोड़ रुपये बैठती है। सफल बोलीदाता को उसी दाम पर अन्य शेयरधारकों से भी 26 प्रतिशत हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए खुली पेशकश करनी होगी। बीपीसीएल देश में चार रिफाइनरियां चलाती हैं।

महाराष्ट्र में मुंबई, केरल में कोच्चि, मध्य प्रदेश में बीना और असम में नुमालीगढ़ रिफाइनरियां बीपीसीएल की हैं। इनकी कुल दोहन क्षमता 3.83 करोड़ टन सालाना है। देशभर में बीपीसीएल के कुल 15,177 पेट्रोल पंप और 6,011 एलपीजी वितरक एजेंसियां हैं। इसके अलावा उसके 51 एलपीजी बॉटलिंग संयंत्र भी हैं।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020-21 के बजट में विनिवेश से 2.1 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है और इसे पूरा करने के लिए बीपीसीएल का निजीकरण जरूरी है। सरकार ने रणनीतिक विनिवेश प्रक्रिया के प्रबंधन और इस विषय पर सलाह देने के लिए डेलोइट टोशे टोमात्सु इंडिया एलएलपी को अपने सलाहकार के रूप में अनुबंधित किया है।