BREAKING NEWS

विपक्ष के रवैये पर भड़के सभापति नायडू, कहा-1962 से हो रहा निलंबन, पहली बार नहीं हुआ ऐसा ◾प्रदूषण को लेकर SC की AAP सरकार को फटकार, जब बड़े घर पर हैं तो बच्चों के लिए क्यों खोले स्कूल? ◾शीतकालीन सत्र के चौथे दिन भी जारी रहा विपक्ष का प्रदर्शन, सांसद बोले- निलंबन वापसी तक देते रहेंगे धरना ◾Petrol-Diesel Price : दिल्ली में आज से नई कीमत लागू, जानिए आपके शहर में पेट्रोल-डीजल के दाम◾विश्व में ओमीक्रॉन के बढ़ते प्रकोप के बीच SII ने कोविशील्ड की बूस्टर डोज के लिए DCGI से मांगी मंजूरी ◾UPTET पेपर लीक: वरुण गांधी ने किया योगी सरकार पर कटाक्ष, पूछा- कब तक सब्र करे भारत का युवा... ◾ममता के 'UPA क्या है' वाले बयान पर बोले खड़गे-हमें मिलकर BJP से लड़ना है, आपस में न लड़े विपक्ष ◾राजधानी दिल्ली में हुई प्रदूषण की वापसी, बहुत खराब श्रेणी में दर्ज हुआ AQI, हल्की बारिश की संभावना ◾Today's Corona Update : 'ओमिक्रॉन' वैरिएंट के बीच भारत में बढ़ी चिंता, एक दिन में 477 लोगों की हुई मौत◾लोकसभा में विपक्ष बनाए शांति तो कई अहम विधेयक पेश करेगी सरकार, ओमीक्रॉन वेरिएंट पर भी हो सकती है चर्चा ◾ भारत आने वाले है रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, 7.5 लाख AK-203 असॉल्ट राइफल डील हो सकती है फाइनल ◾मुरादाबाद : प्रियंका गांधी आज ससुराल में करेंगी ‘प्रतिज्ञा रैली’, पार्टी कार्यकर्ताओं में भरेंगी जोश◾पंजाब कांग्रेस में घमासान जारी, राहुल तक पहुंची जाखड़ Vs सिद्धू की लड़ाई, CM चन्नी ने भी की मुलाकात ◾केंद्र सरकार ने 15 दिसंबर से शुरू होने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगाई रोक, बाद में किया जाएगा विचार ◾विदेश सचिव श्रृंगला ने अफगानिस्तान मामलों के यूरोपीय संघ के विशेष दूत से मुलाकात की◾ममता के बयान पर वेणुगोपाल का पलटवार, बोले- यह महज एक सपना है..कि कांग्रेस के बिना BJP को हरा सकते है◾मुंबई हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले घरेलू यात्रियों को RTPCR की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य : BMC ◾PM मोदी के कुशल नेतृत्व के चलते भारत आज वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक ‘‘ब्राइट स्पॉट’’ के रूप में उभर रहा है: BJP◾पंजाब इलेक्शन से पहले SAD को लगा झटका, मनजिंदर सिंह सिरसा ने थामा BJP का कमल◾केजरीवाल के पेट्रोल की कीमतों पर देर से लिए फैसले से दिल्ली वासियों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ : मनोज तिवारी◾

कैट का केंद्र से अनुरोध, कहा- ई-कॉमर्स व्यापार को आर्थिक आतंकवाद से छुटकारा दिलाए सरकार

देश में जैसे-जैसे कोरोना वायरस का खतरा कम हो रहा है, वैसे-वैसे देश की आर्थिक गतिविधियां भी फिर से पटरी पर आ रही है। वहीं, दूसरी तरफ, देश के सबसे बड़े व्यापार संगठन ने केंद्र सरकार से एक गुजारिश की है। कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने मोदी सरकार में केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल से अनुरोध किया है कि विदेशों से पैसा प्राप्त करने वाली कंपनियों के कारण देश में आर्थिक आतंकवाद ई-कॉमर्स व्यापार के लिए खतरा बनता जा रहा है, जिससे जल्द से जल्द छुटकारा दिलाया जाए। 

कैट के मुताबिक, एफडीआई नीति के तहत ई-कॉमर्स पर नियंत्रण करना जरूरी हो गया है। कैट के अनुसार, अमेजॉन, फ्लिपकार्ट और अन्य विदेशी धन प्राप्त ई-कॉमर्स कंपनियों की निरंतर अनैतिक व्यापार प्रथाओं को जारी रखने तथा एफडीआई नीति और अन्य लागू नियमों के लगातार उल्लंघन के मद्देनजर ये आग्रह किया गया है।

कैट ने कहा है, भारत कोई बिकने वाला राष्ट्र नहीं है। यह बात अमेजन एवं फ्लिपकार्ट सहित उन सभी कंपनियों को अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए, जो देश में ई कॉमर्स और रिटेल व्यापार पर कब्जा कर अपना एकाधिकार जमाने का कुत्सित प्रयास कर रही हैं।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा, जिस तरह से इन कंपनियों द्वारा नीति एवं नियमों का उल्लंघन कर पूरी शक्ति से ई कॉमर्स व्यापार को तबाह किया जा रहा है, उससे देश भर में हजारों दुकानें बन्द हो गई हैं। ये स्थिति किसी भी मायने में आर्थिक आतंकवाद से कम नहीं है, जिसका समूल नष्ट किया जाना बेहद जरूरी है।

इसी बीच अमेजॉन द्वारा हाल ही में दिए गए कुछ बयानों पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कैट ने कहा कि, अमेजॉन एवं फ्लिपकार्ट द्वारा यह दावे करना कि उन्होंने भारत में बड़ी मात्रा में रोजगार उपलब्ध कराया है और व्यापारियों को व्यापार के बड़े अवसर प्रदान किये हैं, नितांत काल्पनिक एवं देश के ई कॉमर्स व्यापार पर कब्जा जमाने के सुनियोजित षड्यंत्र से अलावा कुछ भी नहीं है।

उन्होंने कहा, जिस तरह से ईस्ट इंडिया कंपनी ने खुद को भारत के सच्चे दोस्त के रूप में देश के व्यापारियों के उद्धारकर्ता के रूप में प्रदर्शित किया और बाद में देश को गुलाम बना दिया गया है, लगभग उसी प्रकार के अपने नापाक इरादों पर प्रदा डालने की कोशिश है। कैट के अनुसार, सेंटर फॉर मॉनिटरिंग ऑफ इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) ने पाया है कि दूसरी लहर ने 1 करोड़ से अधिक भारतीयों को बेरोजगार कर दिया। 

मई 2021 में 12 फीसदी बेरोजगारी दर के साथ घरेलू आय में 97 फीसदी की गिरावट आई । दूसरी ओर, एक उद्योग संघ द्वारा जारी एक रिपोर्ट में बिजनेस कॉन्फिडेंस इंडेक्स में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है जो 51.5 फीसदी है। इससे यह साफ है की विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियां वैल्यूएशन के जरिये भारतीय बाजार में अपनी हिस्सेदारी बढ़ा रही हैं। दूसरी ओर, इन कंपनियों की अनैतिक नीतियों से पारंपरिक भारतीय खुदरा बाजार की वित्तीय स्थिति बिगड़ रही है।

कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, कहा- राजनीति ही सब कुछ, सरकार ने टीकाकरण नीति पर चर्चा का विरोध किया