नई दिल्ली : रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया को जोर-शोर से अपनाने के सरकार के प्रयासों से वित्त वर्ष 2027 तक देश के रक्षा बजट के 11 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि के साथ वर्तमान के 45 अरब डॉलर से बढ़कर 112 अरब डॉलर पर पहुंचने का अनुमान है। उद्योग संगठन एसोचैम और बाजार अध्ययन करने वाली एजेंसी केपीएमजी की जारी अध्ययन रिपोर्ट’ क्रिएटिंग ए लेवल फील्ड टू फैसिलिटेट मेक इन इंडिया इन डिफेंस’ के मुताबिक एयरोस्पेस और रक्षा क्षेत्र में देश की स्थिति बेहतर बनाने के लिए सरकार द्वारा उठाये जा रहे कदमों से रक्षा बजट अगले नौ साल में तीन गुणा बढ़ जायेगा।

अध्ययन के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में रक्षा क्षेत्र के लिए आवंटन में गत वित्त वर्ष की तुलना में मात्र 7.8 प्रतिशत की बढोतरी की गयी लेकिन वित्त वर्ष 2027 तक यह आवंटन 11 फीसदी की वार्षिक वृद्धि दर से बढ़गा। अध्ययन में हालांकि इस बात की चिंता भी जाहिर की गयी है कि रक्षा बजट का करीब 10 प्रतिशत हिस्सा हर साल रक्षा मंत्रालय द्वारा उपयोग नहीं किया जाता है। अध्ययन में कहा गया है कि अगले दस साल में रक्षा क्षेत्र की खरीद 250 अरब डॉलर के आंकड़ के पार पहुंचने की उम्मीद है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहाँ क्लिक  करें।