BREAKING NEWS

बेंगलुरू हिंसा को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा-क्या सो रही थी येदियुरप्पा सरकार◾NCP नेता माजिद मेमन का ट्वीट, सुशांत अपने जीवनकाल में उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने मरने के बाद◾बेंगलुरु हिंसा के दौरान मुस्लिम युवाओं ने पेश की एकता की मिसाल, मानव श्रृंखला बनाकर उपद्रवियों से बचाया मंदिर◾सुशांत सिंह केस : माफी की मांग पर बोले राउत-मैंने जो कहा जानकारी के आधार पर कहा◾GDP को लेकर राहुल का केंद्र सरकार पर तंज- ‘मोदी है तो मुमकिन है’◾बेंगलुरु हिंसा : शहर में धारा 144 लागू, 110 लोग गिरफ्तार, CM येदियुरप्पा ने की शांति की अपील◾हम अपने सभी मतभेदों को दूर करके राज्य की सेवा के संकल्प को पूरा करेंगे : CM गहलोत◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 60 हजार से अधिक नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 23 लाख के पार◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2 करोड़ 20 लाख के पार, अमेरिका में 51 लाख से अधिक मामले ◾US चुनाव में हुई भारत की एंट्री, भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस को चुना गया VP कैंडिडेट◾J&K में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षाबलों ने एक आंतकवादी को मार गिराया, एक जवान भी हुआ शहीद ◾बेंगलुरु में कांग्रेसी विधायक के घर पर हमला, 2 की मौत, 60 पुलिसकर्मी घायल ◾ बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त फेफड़ों के कैंसर का इलाज के लिए जा सकते है अमेरिका ◾राजस्थान: कांग्रेस विधायक दल की बैठक, पायलट की वापसी पर गहलोत खेमे के कई विधायक खफा◾उत्तर प्रदेश : CM योगी ने प्रधानमंत्री से HFNC उपकरणों की खरीद में मदद करने का किया अनुरोध◾पर्यावरण सरंक्षण कानून के खिलाफ और भारत के भविष्य से समझौता है EIA का मसौदा : कांग्रेस◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1.47 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 1,257 नए केस ◾उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर जारी, बीते 24 घंटे में कोरोना के 5,130 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1.31 लाख के पार◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- कोरोना के रोजाना बढ़ते मामलों से राज्यों को अधिक चिंतित नहीं होना चाहिए◾उर्दू के मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एफडीआई के नियमों का कड़ाई से अनुपालन करें ई-वाणिज्य कंपनियां

 वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने देश में ई-वाणिज्य मंचों का परिचालन कर रही कंपनियों से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों का कड़ाई से अनुपालन करने की बृहस्पतिवार को हिदायत दी। उन्होंने कहा कि जब कोई ई-रिटेल कंपनी पांच हजार करोड़ रुपये के कारोबार पर छह हजार करोड़ रुपये का नुकसान उठा रही हो तब ‘यह न तो अच्छा दिखता है, न अच्छा लगता है और न ही इससे अच्छे संकेत मिलते हैं।

 उन्होंने एक सम्मेलन में कहा कि भारत वैश्विक ई-वाणिज्य कंपनियों का स्वागत करता है, लेकिन उन्हें देश के कायदे-कानून की चौहद्दी में रह कर काम करना होगा। गोयल इससे पहले भी एक मौके पर कह चुके हैं कि ई-वाणिज्य कंपनी अमेजन भारत में एक अरब डालर का निवेश कर देश पर कोई एहसान नहीं कर रही है क्योंकि वह अपने नुकसान को पूरा करने के लिए धन ला रही है।

 वाणिज्य मंत्री ने फिर कहा कि ‘यदि ई-रिटेल कंपनियां लिखे कानून और उसकी भावनाओं के अनुसार चलें’ तो न तो उनका मंत्रालय और न ही प्रतिस्पर्धा आयोग इन कंपनियों की जांच करेगा। वह अमेजन के बारे में अपने पहले के बयान पर सवाल का जवाब दे रहे थे। उनसे पूछा गया कि क्या कंपनी इस क्षेत्र के बारे में भारत के कानूनों का उल्लंघन कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘प्रतिस्पर्धा आयोग की प्राथमिक जांच रपट मेरे सामने है। 

मेरा कार्यालय भी विभिन्न तौर-तरीकों के बारे में पूछताछ कर रहा है। मुझे उम्मीद और विश्वास है कि हर कोई कानून और उसकी भावना के अनुसार चल सकता है और हमें यह नहीं देखना पड़ेगा कि क्या कोई कानून तोड़ तो नहीं रहा है। लेकिन जिस किसी को घाटा हो रहा है, उसे घाटा पूरा करने के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश लाना ही होगा।’’ गोयल ने कहा कि हम ई-वाणिज्य उद्योग में कंपनियों से कानून और उसकी भावना के अनुसार चलने की अपील करते हैं, मेरा मानना है कि इसमें ही सबकी भलाई है।

 उन्होंने यह भी कहा, ‘‘यह वायदा करना कि ई-कामर्स से अमुक संख्या में लोगों को लाभ हो रहा है लेकिन यह उसकी दस गुना संख्या में लोगों के नुकसान की लागत पर नहीं होना चाहिए जो ऐसे तौर तरीकों से प्रभावित हो रहे हैं जिनकी इजाजत नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से एक हजार अरब डालर का काम करने वाली कंपनी जब लाख-दो लाख रुपये का खुदरा कारोबार करने वालों के सामने हो तो यह प्रतिस्पर्धा निश्चित रूप से ‘उचित’ नहीं मानी जा सकती है। 

उन्होंने कहा कि सरकार ने ई-वाणिज्य क्षेत्र में विदेशी कंपनियों को एक निष्पक्ष ई-बाजार मंच चलाने की अनुमति दी है। वह किसी बिक्रेता को वरीयता नहीं दे सकता, न ही कीमत तय कर सकता है।

उन्होंने कहा कि घाटा हो रहा है तो उसे पूरा करने के लिए कंपनी को एफडीआई लाना ही पड़ेगा। इसी संदर्भ में मैंने 16 जनवरी को वह बयान (एहसान वाला) दिया था।