BREAKING NEWS

अब 5 राज्यों-केंद्रशासित प्रदेशों में ही बची कांग्रेस की सरकार ◾अब से विकास के नये युग की होगी शुरुआत : येदियुरप्पा◾‘किंगमेकर’ माने जाने वाले कुमारस्वामी बने ‘किंग’, लेकिन राजगद्दी जल्दी ही हाथ से निकली ◾कर्नाटक में गिरी कुमारस्वामी सरकार, विश्वास प्रस्ताव के पक्ष पड़े 99 वोट , BJP पेश करेगी सरकार बनाने का दावा ◾येदियुरप्पा के शपथ लेने के बाद मुम्बई से लौटेंगे कर्नाटक के बागी विधायक◾कश्मीर के बारे में ट्रंप के प्रस्ताव पर भारत की प्रतिक्रिया से चकित हूं : इमरान खान ◾खुशी से पद छोड़ने को तैयार हूं : कुमारस्वामी ◾बोरिस जॉनसन बने ब्रिटेन के नए PM, यूरोपीय संघ से देश को बाहर निकालना होगी बड़ी चुनौती◾कश्मीर मुद्दे पर नरेंद्र मोदी और इमरान खान को मिलकर करनी चाहिए पहल - फारुख अब्दुल्ला◾Top 20 News 23 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾भाजपा ने ट्रंप के दावे पर विपक्ष के रूख को गैर जिम्मेदाराना बताया ◾कर्नाटक संकट: भाजपा ने कुमारस्वामी पर करदाताओं का पैसा बर्बाद करने का लगाया आरोप◾गृह मंत्रालय ने घटाई लालू यादव, चिराग पासवान समेत कई बड़े नेताओं की सुरक्षा◾SC ने NRC प्रकाशन की समय सीमा बढ़ाई, 20 फीसदी नमूनों के पुन: सत्यापन का अनुरोध ठुकराया◾PM मोदी देश को बताएं कि उनकी ट्रंप से क्या बात हुई थी : राहुल गांधी◾SC ने आम्रपाली समूह का रेरा पंजीकरण किया रद्द, NBCC को लंबित परियोजनाएं पूरी करने का निर्देश◾ट्रंप के दावे पर लोकसभा में विपक्षी सदस्यों का हंगामा, PM से जवाब देने की मांग की◾ट्रंप के बयान पर संसद में हंगामा, जयशंकर ने कहा- मोदी ने नहीं की मध्यस्थता की बात◾RTI कानून खत्म करना चाहती है सरकार, हर नागरिक होगा कमजोर : सोनिया गांधी ◾कश्मीर पर मध्यस्थता की ट्रंप की पेशकश का इमरान खान ने किया स्वागत, कहा- इसे दो पक्ष नहीं सुलझा सकते◾

व्यापार

सरकारी बैंकों में पूंजी डालने से अर्थव्यवस्था को मिलेगी रफ्तार

नई दिल्ली : आम बजट 2019-20 में सरकारी बैंकों को 70,000 करोड़ रुपये की पूंजी दिए जाने का प्रस्ताव उनकी ऋण देने की स्थिति मजबूत करेगा। साथ ही यह समय से अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने में भी मदद करेगा। वैश्विक रेटिंग एजेंसी एसएंडपी ग्लोबल ने अपने एक नोट में यह बात कही। उल्लेखनीय है कि सरकार ने शुक्रवार को पेश बजट में सरकारी बैंकों में 70,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालने का प्रस्ताव किया है। 

एसएंडपी ने ‘भारत का बजट: वित्तीय क्षेत्र में विश्वास की कमी को दूर करने का प्रयास’ शीर्षक नोट में कहा कि सरकार का यह कदम (सरकारी बैंकों में पूंजी डालना) से बैंकिंग क्षेत्र और अर्थव्यवस्था के लिए ऋण माहौल सुधारने वाला है। एसएंडपी ग्लोबल में क्रेडिट एनालिस्ट गीता चुग ने कहा कि हमारा विश्वास है कि पूंजी डालने से सरकारी बैंकों को उनके कमजोर कारपोरेट ऋण में आवश्यक कांट-छांट करने में मदद मिलेगी। 

साथ ही यह उनकी पूंजी पर्याप्तता को भी बढ़ाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार के पूंजी डालने से कुछ बैंकों को भारतीय रिजर्व बैंक की त्वरित सुधारात्मक कार्रवाई सूची से बाहर आने में मदद मिलेगी। इससे वह फिर से बाजार में ऋण बांट सकेंगे और अपनी खाता बही को साफ सुथरा बना सकेंगे।