BREAKING NEWS

कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾बेघर लोगों के लिए रैन बसेरों और स्कूलों में ठहरने का किया गया इंतजाम : मनीष सिसोदिया◾कोविड-19 : केरल में कोरोना वायरस से पहली मौत, देश में अबतक 20 लोगों की गई जान ◾

शेयर बाजारों में लिवाली से गिरावट

नई दिल्ली : बजट के बाद से चली आ रही शेयर बाजारों में गिरावट रुक नहीं रही है। मुख्य कारण कम्पनियों व बैंकों की एनपीए जांच में सरकार द्वारा तेजी लाये जाने से भारतीय शेयर बाजारों की तेजी में बाधा आ गयी है। ऊपर मुद्रास्फीति, औद्योगिक उत्पादन इंडैक्स एवं मार्च का महीना होने से कम्पनियों के व्यापार का वार्षिक लेन-देन का चि_ïा ये सब कारण इस चालू माह में मंदा कारक रह सकते हैं। बीएसई गत सप्ताह 34046.94 से घटकर अंत में 33307.14 अंक रह गया। एनएसई भी 10458.35 से टूटकर अंत में 10226.85 अंक पर बंद हुआ। मार्च का महीना होने से आलोच्य सप्ताह भारतीय शेयर बाजारों में निराशाजनक गिरावट का दौर बना हुआ है। इससे करीब 70 प्रतिशत निवेशकों के विश्वास सूचकांक में गिरावट आई है। कम से कम चालू माह के दौरान तो अभी भारतीय शेयर बाजारों में गिरावट का रुख बना रह सकता है।

मुख्य कारण यह महीना कम्पनियों के खाते का लेन-देन का समय होता है। इससे निवेशकों की लिवाली 80 प्रतिशत से अधिक कमजोर बनी रह सकती है। स्माल व मिड कैप (पूंजी) वाले शेयरों में मंदा देखा जा सकता है। निवेशकों को अधिक प्रोफिट देने वाले शेयरों में ऑटो, स्टील, कुछ बैंकिंग क्षेत्र के शेयर भी गत सप्ताह कमजोर ही रहे और चालू माह में भी और गिर सकते हैं। सरकार द्वारा चलाये गये अभियान में आर्थिक स्तर में सुधार में अब देरी हो सकती है। अत: निवेशक बहुत सोच-समझकर शेयरों में हॉर्सटे्रडिंग कर रहे हैं, बल्कि बिकवाली अधिक कर रहे हैं।

अत: शेयरों में निवेश यानि परचेज पॉवर काफी कमजोर होने से बीएसई व एनएसई बजट के बाद से लगातार लगभग टूटते ही आ रहे हैं। इसके अलावा विदेशों में भी अर्थव्यवस्था गति धीमी पडऩे से वहां भी बीच-बीच शेयर बाजारों में 70:30 बिकवाली-लिवाली का रुख देखने को मिल सकता है। यानि वहां 70 प्रतिशत बिकवाली और 30 प्रतिशत लिवाली रहने से विदेशी निवेशकों की पकड़ भी यहां धीमी हुई है। इससे भारतीय शेयर बाजारों की गति और धीमी हो सकती है।

अधिक जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करें।