BREAKING NEWS

ट्रंप की मुम्बई में बास्केटबाल प्रतियोगिता देखने आने की इच्छा , मोदी ने दिया न्योता ◾'Howdy Modi' कार्यक्रम : मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई का किया आह्वान◾'Howdy Modi' कार्यक्रम : PM मोदी ने 50 हजार से अधिक भारतीय अमेरिकी समुदाय को किया संबोधित◾'Howdy Modi' कार्यक्रम : अब की बार, ट्रंप सरकार - PM मोदी◾'Howdy Modi' कार्यक्रम : हमने आर्टिकल 370 को फेयरवेल दे दिया - PM मोदी◾Howdy Modi : मोदी ने ट्रंप को बताया विशेष शख्सियत, उनके योगदान की सराहना की ◾अमित शाह ने कश्मीर मुद्दे को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना◾ट्रंप-मोदी ने कहा, टेक्सास मे आज का दिन बेहद अहम◾Howdy Modi : मोदी-मोदी के नारों से गूंज उठा NRG स्टेडियम◾हम भारत की ऊर्जा सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने को प्रतिबद्ध : सऊदी अरब ◾अनुच्छेद 370 समाप्त होने से कश्मीर के जनजातीयों को मिलेगा आरक्षण का लाभ : रविशंकर◾भारतीय समय अनुसार रात 9 बजे 'हाउडी मोदी' में प्रवासी भारतीयों को संबोधित करेंगे PM मोदी ◾कश्मीरी पंडितों का मोदी को पुरजोर समर्थन, सिखों ने कहा ‘शेर’◾TOP 20 NEWS 22 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शिवसेना का नाम लिए बिना बोले अमित शाह-महाराष्ट्र में NDA को मिलेगा तीन चौथाई बहुमत ◾पटना से पाक को राजनाथ की चेतावनी, कहा-1965 और 1971 की गलतियों को न दोहराए◾महाराष्ट्र में अमित शाह ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के लिए नेहरू को ठहराया जिम्मेदार◾राज बब्बर बोले-अन्य विपक्षी पार्टियां डरी हुई हैं केवल कांग्रेस ही बीजेपी को टक्कर दे सकती है◾अक्षरधाम मंदिर के पास पुलिस वाहन पर 4 अज्ञात बदमाशों ने की गोलीबारी◾मॉब लिंचिंग की घटनाओं को लेकर थरूर ने केंद्र पर उठाए सवाल, बोले-पिछले 6 वर्षों में क्या देखा◾

व्यापार

वृद्धि दर के 2011-17 के आंकड़े 2.5 % बढ़ा-चढ़ाकर आंके गए : पूर्व आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम

पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा है कि आर्थिक वृद्धि (जीडीपी वृद्धित) की गणना के लिए अपनाए गए नए पैमानों के चलते 2011-12 और 2016-17 के बीच आर्थिक वृद्धि दर औसतन 2.5% ऊंची हो गयी। 

उन्होंने हार्वर्ड विश्विद्यालय द्वारा प्रकाशित अपने शोध पत्र में कहा है कि भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर उपरोक्त अवधि में 4.5 प्रतिशत रहनी चाहिए जबकि आधिकारिक अनुमान में इसे करीब 7 प्रतिशत बताया गया है। 

सुब्रमणियम ने कहा, ‘‘भारत ने 2011-12 से आगे की अवधि के जीडीपी के अनुमान के लिए आंकड़ों के स्रोतों और जीडीपी अनुमान की पद्धति बदल दी है। इससे आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान अच्छा-खासा ऊंचा हो गया।’’ 

जीडीपी की नई श्रृंखला के तहत देश की आर्थिक वृद्धि को लेकर विवाद के बीच यह रिपोर्ट आयी है। तौर-तरीकों की समीक्षा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में हुई। 

उन्होंने कहा, ‘‘आधिकारिक अनुमान के अनुसार सालाना औसत जीडीपी वृद्धि 2011-12 और 2016-17 के बीच करीब 7 प्रतिशत रही। हमारा अनुमान है कि 95% विश्वास के साथ इसके 3.5 से 5.5 प्रतिशत के दायरे में मानते हुए इस दौरान जीडीपी की वास्तविक वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत रही होगी...। ’’ 

सुब्रमणियम लिखते हैं कि विनिर्माण एक ऐसा क्षेत्र है जहां सही तरीके से आकलन नहीं किया गया। वह पिछले साल अगस्त में आर्थिक सलाहकार पद से हटे। हालांकि उनका कार्यकाल मई 2019 तक के लिये बढ़ाया गया था। 

उन्होंने कहा कि इसका प्रभाव यह है, ‘‘वृहत आर्थिक नीति काफी बड़ी है। सुधारों को आगे बढ़ाने की गति संभवत: कमजोर हुई। आने वाले समय में आर्थिक वृद्धि को पटरी पर लाना प्राथमिकता में सबसे ऊपर होनी चाहिए....जीडीपी अनुमान पर फिर से गौर किया जाना चाहिए।’’ 

पिछले महीने जारी आधिकारिक आंकड़े के अनुसार आर्थिक वृद्धि दर 2018-19 की चौथी तिमाही में पांच साल के न्यूनतम स्तर 5.8 प्रतिशत रही। कृषि और विनिर्माण क्षेत्र के कमजोर प्रदर्शन के कारण भारत की यह वृद्धि दर चीन से भी कम रही। 

उन्होंने अपने शोध पत्र का लिंक देते हुए ट्वीट किया, ‘‘अत: वैश्विक वित्तीय संकट के बाद भारत की वृद्धि दर अच्छी रही लेकिन शानदार नहीं थी।’’ 

सुब्रमणियम ने कहा, ‘‘मेरे शोध पत्र में मूल तकनीकी प्रक्रियागत बदलाव पर जोर है। यह हाल में जीडीपी विवाद से अलग है...।’’