BREAKING NEWS

अमित शाह ने कर्नाटक को लेकर पार्टी नेताओं से किया मशविरा◾कुमारस्वामी ने राज्यपाल वजूभाई वाला को सौंपा अपना इस्तीफा ◾BJP के शीर्ष नेताओं से सलाह के बाद राज्यपाल से मिलूंगा : येदियुरप्पा ◾अब 5 राज्यों-केंद्रशासित प्रदेशों में ही बची कांग्रेस की सरकार ◾अब से विकास के नये युग की होगी शुरुआत : येदियुरप्पा◾‘किंगमेकर’ माने जाने वाले कुमारस्वामी बने ‘किंग’, लेकिन राजगद्दी जल्दी ही हाथ से निकली ◾कर्नाटक में गिरी कुमारस्वामी सरकार, विश्वास प्रस्ताव के पक्ष पड़े 99 वोट , BJP पेश करेगी सरकार बनाने का दावा ◾येदियुरप्पा के शपथ लेने के बाद मुम्बई से लौटेंगे कर्नाटक के बागी विधायक◾कश्मीर के बारे में ट्रंप के प्रस्ताव पर भारत की प्रतिक्रिया से चकित हूं : इमरान खान ◾खुशी से पद छोड़ने को तैयार हूं : कुमारस्वामी ◾बोरिस जॉनसन बने ब्रिटेन के नए PM, यूरोपीय संघ से देश को बाहर निकालना होगी बड़ी चुनौती◾कश्मीर मुद्दे पर नरेंद्र मोदी और इमरान खान को मिलकर करनी चाहिए पहल - फारुख अब्दुल्ला◾Top 20 News 23 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾भाजपा ने ट्रंप के दावे पर विपक्ष के रूख को गैर जिम्मेदाराना बताया ◾कर्नाटक संकट: भाजपा ने कुमारस्वामी पर करदाताओं का पैसा बर्बाद करने का लगाया आरोप◾गृह मंत्रालय ने घटाई लालू यादव, चिराग पासवान समेत कई बड़े नेताओं की सुरक्षा◾SC ने NRC प्रकाशन की समय सीमा बढ़ाई, 20 फीसदी नमूनों के पुन: सत्यापन का अनुरोध ठुकराया◾PM मोदी देश को बताएं कि उनकी ट्रंप से क्या बात हुई थी : राहुल गांधी◾SC ने आम्रपाली समूह का रेरा पंजीकरण किया रद्द, NBCC को लंबित परियोजनाएं पूरी करने का निर्देश◾ट्रंप के दावे पर लोकसभा में विपक्षी सदस्यों का हंगामा, PM से जवाब देने की मांग की◾

व्यापार

विदेशों में बांड जारी करेगी सरकार : गर्ग

नई दिल्ली : वित्त सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा है कि सरकार विदेशी बाजारों में सॉवरेन बांड (सरकारी प्रतिभूतियां) बेचकर धन जुटाने की प्रक्रिया जल्द शुरू करेगी। उम्मीद है कि इसे चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में जारी कर दिया जाएगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट 2019-20 में घोषणा की कि सरकार अब सकल सार्वजनिक ऋण का कुछ हिस्सा विदेशी बाजारों में सरकारी प्रतिभूतियां बेचकर जुटाएगी। 

भारत पहली बार इस तरह का कदम उठाने जा रहा है। यद्पि इस कदम में विदेशी विनिमय दर में उतार-चढ़ाव का जोखिम भी शामिल है। सीतारमण ने बजट में जिक्र किया है कि भारत सरकार पर विदेशी कर्ज सकल घरेलू उत्पाद के पांच प्रतिशत से भी कम है।
 
जो दुनिया के किसी भी देश से तुलना में कम है। गर्ग ने कहा कि इस बारे में नीतिगत फैसला हो चुका है। सरकार ने अपना इरादा साफ कर दिया है कि हम अब विदेशी मुद्रा में अंकित सरकारी प्रतिभूतियां विदेशी बाजार में बेचेंगे। अब सवाल यह है कि हमारे ऐसे निर्गम का उचित आकार और तौर-तरीका क्या हो सकता है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में जल्द ही सलाहकारों की नियुक्ति की जाएगी। 

ये सलाहकार सरकार को निर्गम के आकार और मुद्राओं की विनिमय दर स्थिरता इत्यादि के बारे में सलाह देंगे। उन्होंने कहा कि हम पहला निर्गम इसी वित्त वर्ष में लाना चाहेंगे। मुझे लगता है कि सितंबर के आखिर तक हम इस बारे में कोई योजना तय करने की स्थिति में होंगे।