BREAKING NEWS

मुंबई : 60 मंजिला रिहायशी इमारत के 19वें फ्लोर पर लगी आग, दमकल की 8 गाड़ियां मौजूद◾बांग्लादेश : रोहिंग्या रिफ्यूजी कैंप में फायरिंग से सात लोगों की मौत◾मलिक के आरोपों पर बोले वानखेड़े- आप बड़े मंत्री हैं और मैं अदना सा सरकारी सेवक, करवा लें जांच ◾भारत के रिकॉर्ड टीकाकरण का अमेरिका ने भी माना लोहा, कहा- महामारी को हराने में दुनिया की होगी मदद ◾दुनिया ने भारत पर किया शक लेकिन देश ने सबसे पहले 100 करोड़ वैक्सीन लगाकर दिया जवाब : PM मोदी ◾सिंघु बॉर्डर पर फ्री में चिकन नहीं देने पर तोड़ी युवक की टांग, पुलिस ने निहंग नवीन को किया गिरफ्तार◾कल से तीन दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरे पर होंगे अमित शाह, टारगेट किलिंग पर करेंगे हाईलेवल मीटिंग ◾बांग्लादेश : कॉक्स बाजार से गिरफ्तार हुआ हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा भड़काने वाला आरोपी◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में 15786 नए मामलों की पुष्टि, 231 लोगों ने गंवाई जान ◾हॉलीवुड स्टार एलेक बाल्डविन ने गलती से सेट पर चला दी गोली, महिला कैमरामैन की मौत, एक घायल◾महामारी पर पीएम मोदी का लेख: ‘‘चिंता से आश्वासन’’ की ओर यात्रा है कोरोना टीकाकरण अभियान◾मायावती का तंज- समझना होगा कि जनता से छल व वादाखिलाफी के कारण कांग्रेस के आए बुरे दिन◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 25 करोड़ के करीब◾सुबह 10 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे PM मोदी, क्या रिकॉर्ड वैक्सीनेशन पर करेंगे चर्चा ◾इतिहास रचा, भारत में अब कोविड से लड़ने का मजबूत सुरक्षा कवच है : PM मोदी◾स्मृति ईरानी एवं हेमा मालिनी पर टिप्पणी कों लेकर EC से कांग्रेस की शिकायत◾उप्र विधानसभा चुनाव जीतने के लिए नफरत फैला रही है भाजपा, हो सकता है भारत का विघटन : फारूक अब्दुल्ला◾एनसीबी के सामने पेश हुईं अभिनेत्री अनन्या पांडे, कल सुबह 11 बजे फिर होगा सवालों से सामना ◾सिद्धू का अमरिंदर सिंह पर पलटवार - कैप्टन ने ही तैयार किये है केन्द्र के तीन काले कृषि कानून◾हिमाचल के छितकुल में 13 ट्रैकरों की हुई मौत, अन्य छह लापता◾

वित्त वर्ष 2019-20 में ग्रॉस डायरेक्ट टैक्स 4.92 फीसदी गिरकर 12.33 लाख करोड़ रुपये रहा

देश का सकल प्रत्यक्ष कर संग्रह (ग्रॉस डायरेक्ट टैक्स) वित्त वर्ष 2019-20 में 4.92 प्रतिशत गिरकर 12.33 लाख करोड़ रुपये रह गया। इसकी प्रमुख वजह कॉरपोरेट कर की दरों में कटौती, मानक कटौती और व्यक्तिगत आयकर की छूट की सीमा बढ़ाया जाना है। आयकर विभाग ने रविवार को कहा कि यदि व्यक्तिगत आयकर और कॉरपोरेट आयकर को पुरानी दरों से वसूला जाता, तो 2019-20 के दौरान सकल प्रत्यक्ष कर संग्रह आठ प्रतिशत बढ़कर 14.01 लाख करोड़ रुपये हो सकता था। वित्त वर्ष 2018-19 में सकल प्रत्यक्ष कर संग्रह 12,97,674 करोड़ रुपये था। सरकार ने 2019-20 के लिए प्रत्यक्ष कर संग्रह लक्ष्य घटाकर 11.70 लाख करोड़ रुपये कर दिया था। जबकि जुलाई 2019 में पेश आम बजट में यह लक्ष्य 13.3 लाख करोड़ रुपये रखा गया था।

यद्यपि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने 2019-20 के लिए शुद्ध प्रत्यक्ष कर संग्रह के आंकड़े जारी नहीं किए हैं। लेकिन 12.33 लाख करोड़ रुपये के सकल कर संग्रह में से 1.84 लाख करोड़ रुपये के जारी रिफंड घटाने पर शुद्ध प्रत्यक्ष का संग्रह 10.49 लाख करोड़ रुपये बैठता है। वित्त वर्ष 2018-19 में शुद्ध प्रत्यक्ष कर संग्रह 11.36 लाख करोड़ रुपये था। सीबीडीटी ने एक बयान में कहा, ‘‘यह एक वास्तविकता है कि 2019-20 में शुद्ध प्रत्यक्ष कर संग्रह 2018-19 के मुकाबले कम रहा। लेकिन इसका अनुमान पहले से था। इसकी प्रमुख वजह 2019-20 के दौरान ऐतिहासिक कर सुधार है, जिसके चलते ज्यादा रिफंड जारी किए गए।

वित्त वर्ष 2019-20 में वास्तविक कॉरपोरेट कर संग्रह 6.78 लाख करोड़ रुपये और व्यक्तिगत आयकर संग्रह 5.55 लाख करोड़ रुपये रहा। इस प्रकार 2019-20 के लिए वास्तविक कर संग्रह 12,33,720 करोड़ रुपय रहा। वित्त वर्ष के दौरान कॉरपोरेट कर की दर में कटौती से 1.45 लाख करोड़ रुपये कर संग्रह में कमी आयी। वहीं व्यक्तिगत आयकर की सीमा पांच लाख रुपये तक बढ़ाने और मानक कटौती की सीमा 50,000 रुपये तक बढ़ाने से भी 23,200 करोड़ रुपये का कर संग्रह कम हुआ। यदि यह नहीं हुआ होता तो 2019-20 में कॉरपोरेट कर संग्रह 8.23 लाख करोड़ रुपये और व्यक्तिगत कर संग्रह 5.78 लाख करोड़ रुपये होता। इस तरह सकल प्रत्यक्ष कर संग्रह 14.01 लाख करोड़ रुपये होता, जो 2018-19 के मुकाबले 8.03 प्रतिशत अधिक रहता।

वित्त वर्ष 2019-20 में प्रचलित मूल्य पर देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 7.20 प्रतिशत रही। वित्त वर्ष 2019-20 में सीबीडीटी ने 1.84 लाख करोड़ रुपये के कर रिफंड जारी किए। यह 2018-19 के 1.61 लाख करोड़ रुपये के मुकाबले 14 प्रतिशत अधिक है। ईवाई इंडिया के नेशनल टैक्स लीडर सुधीर कपाड़िया ने कहा चुनौती निकट भविष्य में देखने को मिलेगी। आर्थिक गतिविधियां अनुमान से ज्यादा सिकुड़ेंगी, जिससे सरकार की कर आय कम होगी। यह कोई अचंभे की बात नहीं होगी कि कर संग्रह में कमी वित्त वर्ष 2020-21 में भी जारी रहे।

सरकर ने पिछले साल सितंबर में किसी तरह की कर छूट इस्तेमाल नहीं करने वाली सभी घरेलू कंपनियों के लिए कर की दर घटाकर 22 प्रतिशत कर दी थी। इस तरह की कंपनियों को न्यूनतम वैकल्पिक कर (मैट) के भुगतान से भी राहत दी गयी थी। वहीं किसी विशेष कर छूट का लाभ नहीं लेने वाली नयी घरेलू विनिर्माण कंपनियों के लिए कर की दर घटाकर 15 प्रतिशत कर दी गयी थी। इन्हें भी मैट से छूट दी गयी थी। जबकि मैट के तहत कर छूटों का लाभ उठाकर कर भुगतान करने वाली कंपनियों के लिए मैट की दर भी 18.5 प्रतिशत से घटाकर 15 प्रतिशत कर दी गयी। इसी तरह व्यक्तिगत आयकर से छूट की सीमा बढ़ाकर पांच लाख रुपये की गयी है।