BREAKING NEWS

गणतंत्र दिवस हिंसा के लिए केजरीवाल ने केंद्र को ठहराया जिम्मेदार, कहा- तीनों कृषि कानून किसानों के डेथ वारंट◾महाराष्ट्र सरकार के वन मंत्री संजय राठौड़ ने दिया इस्तीफा, टिकटॉक स्टार की आत्महत्या के बाद उठ रहे थे सवाल◾भाजपा के शासन में अमीरी-गरीबी की खाई बढ़ी, कांग्रेस सत्ता में आएगी तो न्याय योजना को किया जाएगा लागू : राहुल◾किसान आंदोलन को धार देने की जुगत में लगी BKU, मार्च महीने में होगी दर्जन भर महापंचायत◾ मन की बात के कार्यक्रम में मोदी ने तमिल भाषा न सीख पाने को बताया अपनी कमी◾BJP अध्यक्ष नड्डा 2 दिवसीय दौरे पर पहुंचे वाराणसी, CM योगी समेत कई पार्टी नेताओं ने किया स्वागत◾मन की बात : PM मोदी बोले- जल सिर्फ जीवन ही नहीं, आस्था और विकास की धारा भी◾नए साल में भारत का मिशन सफल, अमेजोनिया-1 समेत 18 अन्य उपग्रहों ने श्रीहरिकोटा से भरी उड़ान ◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 11.3 करोड़ से अधिक ◾Today's Corona Update : देश में कोरोना संक्रमण के सामने आए 16,752 नए मामले, 113 मरीजों की मौत◾ चुनावी कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए अमित शाह आज तमिलनाडु और पुडुचेरी का करेंगे दौरा ◾चिदंबरम ने PM से किया सवाल, बोले- किसानों से बातचीत के लिये दिल्ली सीमा पर क्यों नहीं जाते मोदी◾किसान आंदोलन के प्रति समर्थन जुटाने के लिए राकेश टिकैत इन 5 राज्यों का करेंगे दौरा ◾वाराणसी के 2 दिवसीय दौरे पर जेपी नड्डा, मंदिरों में दर्शन-पूजन और सांसद-विधायकों संग करेंगे बैठक◾आज का राशिफल (28 फरवरी 2021)◾गुजरात में स्थानीय निकाय चुनाव रविवार को, 3.04 करोड़ मतदाता मताधिकार का करेंगे इस्तेमाल◾कांग्रेस कमजोर हो रही है, मजबूत करने के लिए एक साथ आये : असंतुष्ट नेताओं ने कहा ◾राज्यसभा से रिटायर हुआ हूं, राजनीति से नहीं, जम्मू-कश्मीर राज्य के लिए लड़ाई जारी रखूंगा : आजाद ◾पश्चिम बंगाल ओपिनियन पोल : टीएमसी को 156, भाजपा को 100 सीटें मिलने का अनुमान◾भाजपा बंगाल में जीती तो अगली बार एक चरण में सुनिश्चित करेंगे विधानसभा चुनाव: दिलीप घोष◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सब्जियों के दामों पर दिखा किसान आंदोलन का असर, बाजारों में रेट बढ़ने के आसार

किसान आंदोलन के चलते देश की राजधानी दिल्ली में पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर से फलों और सब्जियों की आवक घट गई है। फलों और सब्जियों की आवक घटने से दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के अन्य हिस्सों में भी फलों की कीमतों में तेजी बनी रह सकती है। 

प्रदर्शनकारियों ने पहले दिल्ली में प्रवेश करने वाले सिर्फ तीन सड़क मार्ग को जाम किया था, लेकिन बुधवार को नोएडा लिंक रोड स्थित चिल्ला बॉर्डर समेत कुछ अन्य मार्गों पर भी जाम शुरू कर दिया गया। सब्जी कारोबारियों ने बताया कि दिवाली के बाद आलू, प्याज समेत तमाम हरी शाक-सब्जियों की नई फसलों की आवक उत्तर भारत की मंडियों में बढ़ने लगी थी, लेकिन किसान आंदोलन के चलते एशिया में फलों और सब्जियों की सबसे बड़ी मंडी दिल्ली की आजादपुर मंडी में बीते एक सप्ताह से कई फलों व सब्जियों की आवक 50 फीसदी तक घट गई है। 

कारोबारियों ने बताया कि रात के समय ट्रक ड्राइवरों को जो भी मार्ग खुला मिलता है, उससे सब्जियों और फलों से लदे ट्रक लेकर दिल्ली के भीतर आ रहे हैं इसलिए एक सप्ताह से उत्तर भारत का मुख्य मार्ग जीडी रोड बंद होने के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में फलों और सब्जियों की आवक हो रही है, लेकिन इसमें कमी जरूर आई है। 

आजादपुर मंडी चैंबर ऑफ फ्रूट एंड वेजीटेबल्स एसोसिएशन के प्रेसीडेंट एम.आर. कृपलानी ने बताया कि कई फलों व सब्जियों की आवक 50 फीसदी तक घट गई है। उन्होंने बताया कि सब्जियों की कीमतों में अब तक काफी गिरावट आ गई होती, मगर किसान आंदोलन के चलते गिरावट होने के बजाय कई सब्जियों और फलों के दाम बढ़ गए हैं। 

आजादपुर मंडी के कारोबारी व पोटैटो एंड अनियन मर्चेंट एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी राजेंद्र शर्मा ने बताया कि दिल्ली में आलू की आवक इस समय हिमाचल और पंजाब से है जबकि प्याज की आवक राजस्थान से हो रही है, लेकिन किसान आंदोलन के चलते आवक प्रभावित है, इसलिए कीमतों में जितनी गिरावट अब तक आनी चाहिए उतनी नहीं है, लेकिन आलू और प्याज के थोक भाव में दिवाली के बाद गिरावट आई है। आजादपुर मंडी में बुधवार को प्याज का थोक भाव 10 रुपये से 35 रुपये, आलू का 16 रुपये से 36 रुपये और टमाटर का छह रुपये से 34 रुपये प्रति किलो था।

 आजादपुर मंडी एपीएमसी की बुधवार की रिपोर्ट के अनुसार, मंडी में आलू की आवक 1,052 टन थी जबकि एक सप्ताह पहले मंडी में आलू की आवक 1700 टन तक चली गई थी। इसी प्रकार प्याज की आवक मंडी में बुधवार को 984 टन जबकि टमाटर की आवक सिर्फ 87 टन थी। प्याज की आवक बीते सप्ताह 1300 टन से ज्यादा और टमाटर की आवक 400 टन से ज्यादा थी। 

हालांकि दिल्ली-एनसीआर में आलू और टमाटर का खुदरा भाव क्रमश: 50 रुपये प्रति किलो से उपर जबकि प्याज का 60 रुपये प्रति किलो था। कारोबारियों को आशंका है कि अगर दिल्ली में प्रवेश करने वाले अन्य मार्ग भी किसान आंदोलन के चलते अवरुद्ध हुआ तो सब्जियों और फलों के दाम में आने वाले दिनों में इजाफा हो सकता है। 

किसान आंदोलन : आगे की रणनीति पर चल रही संगठनों की बैठक, गृह मंत्री के घर पर हाई लेवल मीटिंग