BREAKING NEWS

कस्टोडियल डेथ केस : बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को उम्रकैद◾सरकार मजबूत, सुरक्षित और समावेशी भारत बनाने की दिशा में आगे बढ़ रही है : राष्ट्रपति कोविंद ◾दाऊद से पूछताछ कर चुके अधिकारी का खुलासा, 'डॉन' ने कुबूल कर लिया था अपराध ◾लखनऊ में बड़ा हादसा : 29 बारातियों से भरा वाहन नहर में गिरा, 7 बच्चे लापता◾तीन दिन बाद फिर घटे डीजल के दाम, पेट्रोल स्थिर !◾PM मोदी पांचवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कल पहुंचेंगे रांची ◾कांग्रेस तथा कुछ अन्य विपक्षी दल नहीं हुए बैठक में शामिल◾AAP ने विधानसभा अध्यक्ष से की BJP में शामिल हुए अपने 2 विधायकों को अयोग्य ठहराने की मांग ◾एक साथ चुनाव कराने पर विचार करने के लिए समिति गठित करेंगे प्रधानमंत्री : सरकार ◾AICC ने कर्नाटक कांग्रेस की वर्तमान कमेटी को भंग करने का किया फैसला - के सी वेणुगोपाल ◾मुखर्जी नगर हमला मामला : केजरीवाल ने उच्च न्यायालय की टिप्पणी का किया स्वागत ◾‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ का ज्यादातर पार्टियों ने किया समर्थन, वाम दलों और ओवैसी ने किया विरोध ◾मुखर्जी नगर मामले में उच्च न्यायालय ने कहा, दिल्ली पुलिस का हमला बर्बरता का उदाहरण ◾सनी देओल का चुनावी खर्च 70 लाख रूपये की सीमा से ‘ज्यादा’, नोटिस जारी◾‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ पर समिति बनाएंगे PM मोदी : राजनाथ सिंह◾Top 20 News - 19 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾बच्चों की मौत मामला , हर्षवर्धन ने बिहार में 5 चिकित्सा टीमें भेजी ◾बिहार में AES से मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़ कर 115 हुई ◾संसद भवन में 'एक देश एक चुनाव' पर सर्वदलीय बैठक शुरू◾‘एक राष्ट्र, एक चुनाव' पर सर्वदलीय बैठक में शामिल नहीं होगी कांग्रेस : सूत्र ◾

व्यापार

व्यापार में गलत बिलिंग की वजह से भारत को 90,000 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली : व्यापार में गलत बिलिंग या चालान की वजह से भारत को 13 अरब डॉलर या करीब 90,000 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान हुआ है। अमेरिकी शोध संस्थान ग्लोबल फाइनेंशियल इंटेग्रिटी (जीएफआई) की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। यह 2016 में देश के कुल राजस्व संग्रहण का 5.5 प्रतिशत बैठता है। जीएफआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2016 में संभावित राजस्व नुकसान के जोखिम वाले आयात का दो-तिहाई आयात सिर्फ एक देश चीन से हुआ था। 

उस वर्ष चीन भारतीय आयात का सबसे प्रमुख स्रोत था। ‘भारत : व्यापार में गलत चालान की वजह से होने वाला संभावित राजस्व नुकसान’ शीर्षक वाली रिपोर्ट में 2016 के द्विपक्षीय व्यापार आंकड़ों का विश्लेषण किया गया है। हाल के बरसों में इसी वर्ष उल्लेखनीय आंकड़े उपलब्ध हैं। इस रिपोर्ट को संयुक्त राष्ट्र (कॉमट्रेड) ने प्रकाशित किया है।

रिपोर्ट कहती है कि व्यापार में गलत बिल-चालान से देश के प्रत्येक दूसरा देश प्रभावित है। दूसरे देश से आने वाले आयात को बाहर पैसा भेजने के लिए बढ़ाचढ़ाकर दिखाया जा सकता है या फिर सीमा शुल्क या मूल्यवर्धित कर (वैट) बचाने के लिए इसे कम कर दिखाया जा सकता है। इसी तरह दूसरे देश को किए जाने वाले निर्यात को कम कर दिखाकर पैसा बाहर भेजा सकता है या उसे अधिक दिखाकर वैट कर का दावा किया जा सकता है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि इसके लिए चाहे जो भी तरीका इस्तेमाल किया जाए उसका अंतिम नतीजा यही होता है कि भारी मात्रा में कर राजस्व का संग्रहण नहीं हो पाता। रिपोर्ट में सुझाव दिया गया है कि भारत को सभी सरकारों को वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (एफएटीएफ) की मनी लांड्रिंग रोधक सिफारिशों को पूरी तरह लागू करने को प्रोत्साहित करना चाहिए। यह कानून पहले से है इसे कड़ाई से लागू किए जाने की जरूरत है।