BREAKING NEWS

मन की बात : PM मोदी बोले-देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार◾जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं, मैं उसको NDA नहीं मानता : संजय राउत◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के करीब, पिछले 24 घंटे में 1124 लोगों की मौत◾राहुल गांधी का PM मोदी पर तंज- काश, कोविड एक्सेस स्ट्रैटेजी ही मन की बात होती◾क्या ड्रग चैट्स का होगा खुलासा, एनसीबी ने दीपिका, सारा और श्रद्धा के फोन किए जब्त ◾पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया◾पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती कोरोना से संक्रमित, खुद को किया क्वारनटीन◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामलों का आंकड़ा 3 करोड़ 26 लाख और 9 लाख 90 हजार से अधिक की मौत◾एनआईए ने पश्चिम बंगाल से अल-कायदा के 10वें आतंकवादी समीम अंसारी को किया गिरफ्तार ◾आज का राशिफल (27 सितम्बर 2020)◾महागठबंधन में फूट : कांग्रेस बोली - मिले सम्मानजनक सीट नहीं तो 243 सीटों पर लड़ेंगे◾कृषि विधेयकों के मुद्दे पर अकाली दल ने NDA से तोड़ा 22 साल पुराना गठबंधन◾PM मोदी ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की◾देश के हितों की रक्षा करने में अपने सशस्त्र बलों की क्षमता पर विश्वास करने की जरूरत है : जयशंकर ◾KKR vs SRH (IPL 2020) : केकेआर ने सनराइजर्स हैदराबाद को 7 विकेट से हराया◾देश में कोरोना वायरस का कहर जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब पहुंची◾UN के मंच से पीएम मोदी की नसीहत, कोरोना महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? ◾संयुक्त राष्ट्र के मंच से पीएम मोदी का संबोधन: UN की निर्णायक इकाई से भारत को आखिर कब तक दूर रखा जाएगा◾अमित शाह ने लद्दाख के जन प्रतिनिधियों से की मुलाकात◾ड्रग केस : श्रद्धा कपूर, सारा अली खान से एनसीबी की पूछताछ खत्म, किसी को नया समन नहीं भेजा गया ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत कठिन दौर से गुजर रहा है, नीचे बनी रहेगी आर्थिक वृद्धि दर : अर्थशास्त्री

भारत कठिन दौर से गुजर रहा है और सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर अभी नीचे बनी रहेगी। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी (एनआईपीएफपी) के प्राफेसर अजय शाह ने यह कहा। 

उन्होंने कहा कि इसका कोई त्वरित समाधान नहीं है। हां, अगर समाज के लोग तथा राजनीतिक वर्ग एक-दूसरे के साथ मिल-बैठकर शांति के साथ चर्चा करें तभी इसका समाधान होगा। 

शाह ने कहा, ‘‘हम इस समय कठिन दौर से गुजर रहे हैं और इसका कोई त्वरित समाधान नहीं है। देश की जीडीपी वृद्धि दर नीचे बनी रहेगी।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘...भारत में अभी राजनीतिक गहमा-गहमी है। नागरिकों के अधिकार और शक्तियों का अर्थव्यवस्था पर बड़ा प्रभाव होता है।’’ 

पूर्व में सेंटर फॉर मानिटरिंग इंडियन एकोनॉमी (सीएमआईई) से जुड़े रहे शाह ने कहा, ‘‘अगर हम समाज के लोग और राजनीतिक वर्ग एक-दूसरे के साथ मिल-बैठकर चर्चा करें तो इसका समाधान मिलेगा।’’ 

उन्होंने 1991 से 2011 की अवधि को भारतीय इतिहास का स्वर्णिम काल बताया और कहा कि उस दौरान जो आर्थिक वृद्धि हुई, उससे 35 करोड़ लोग गरीबी रेखा से बाहर हुए। 

शाह ने अपनी पुस्तक ‘इन सर्च ऑफ द रिपब्लिक’ पर चर्चा के दौरान कहा, ‘‘उसके बाद निजी निवेश में कमी के साथ समस्या शुरू हुई।’’ इस किताब को उन्होंने विजय केलकर के साथ मिलकर लिखा है। 

उन्होंने कहा कि सकल निजी पूंजी निर्माण में 10 प्रतिशत की कमी आयी है। इसे पूरा करना देश की राजकोषीय क्षमता से बाहर है। 

शाह ने देश में दिवाला एवं ऋण शोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) लागू करने के तरीके की भी आलोचना की। 

उन्होंने कहा, ‘‘सरकार को आईबीसी लागू करने में कुछ समय लेना चाहिए। पहले जरूरी बुनियादी ढांचा सृजित करने की आवश्यकता थी।’’ इस संहिता के लागू होने के कारण बड़ी संख्या में मामले फंसे हैं।