नई दिल्ली :  चीन की ओर इशारा करते हुए आज बिजली मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि वह ऐसे देश की किसी भी कंपनी को भारत नहीं आने देंगे, जहां भारत की कंपनियों पर प्रतिबंध लगा हुआ है।

बिजली मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि भारत कोई पंचिंग बैग नहीं है जहाँ भारत में आकर आप निवेश कर कमाई कर सकते हैं और भारतीय कंपनियां उनके देश में जाकर नहीं कर सकती है । हम अदल-बदल करने में विश्वास करते हैं। यह हमारी ताकत का प्रदर्शन भी है।

बिजली मंत्री ने हालांकि किसी देश का नाम नहीं लिया पर उनका इशारा चीन की और ही था लेकिन उनका यह बयान मीडिया में इन खबरों के बाद आया है कि भारत जल्द ही चीन की बिजली कंपनियों को बिजली क्षेत्र की परियोजनाओं में आने से रोक लगाएगा।

चीन ने भी सुरक्षा कारणों का हवाला देकर अपने यहाँ विदेशी निवेश पर प्रतिबंध लगाया हुआ है । भारत में इस कारोबार क्षेत्र में 100 % प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति है।

बिजली मंत्री ने सरल ईंधन वितरण एप के शुभारंभ किया और मीडिया से कहा कि किसी विशेष देश पर प्रतिबंध लगाने का हमारा इरादा नहीं है।  हमें किसी भी देश के साथ समस्या नहीं है। लेकिन मेरा कहना कि भारत को किसी देश के साथ परस्पर आदान प्रदान में काम करना चाहिए। सरल ईंधन वितरण एप का विकास इंडिया लि. ने बिजली क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिए ‘इन हाउस’ किया है ।

गोयल ने कहा कि भारत से यदि पावर ग्रिड जैसी पारेषण कंपनी किसी अन्य देश में बोली नहीं लगा सकती, वह किसी अन्य देश में निवेश नहीं कर सकती है और किसी अन्य देश में पारेषण लाइन नहीं लगा सकती है और में उस देश की कंपनी को इंडिया में काम करने की अनुमति नहीं दूंगा।