नई दिल्ली : भारत की 80 कंपनियों ने जर्मनी में वर्ष 2016 में 11.4 अरब यूरो का कारोबार करते हुये 27400 लोगों को रोजगार उपलब्ध कराये। सर्वेक्षण के आधार एक रिपोर्ट में यह खुलासा करते हुये कहा है कि यह सर्वेक्षण प्रमुख कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के साथ साक्षात्कार पर आधारित है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2010 से 2016 के दौरान जर्मनी में भारतीय कंपनियों ने 140 बड़ी परियोजनायें शुरू की है। इसमें प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के साथ ही अधिग्रहण और विलय भी शामिल है। जर्मनी यूरोप में भारतीय कंपनियों के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के मामले में दूसरे स्थान पर है और इन कंपनियों ने 96 परियोजनाओं में निवेश किया है। जिन क्षेत्र में भारतीय कंपनियों ने निवेश किया है उनमें ऑटोमोटिव, धातु प्रसंस्करण उद्योग, प्रोफेशनल, टेकनिकल और वैज्ञानिक सेवायें, रसायन एवं फार्मा उद्योग, इलेक्ट्रोटेक्निक्स और मशीनरी विनिर्माण आदि शामिल है। रिपोर्ट के अनुसार भारतीय कंपनियां जर्मनी में अभी अपने कारोबार का 70 फीसदी हिस्सा धातु उद्योग और ऑटोमोटिव उद्योग से हासिल कर रही है। इस क्षेत्र में काम कर रही कंपनियों में टाटा स्टील, हिंडाल्को इंडस्ट्रीज और सोना ऑटोकॉम्प शामिल है।

जर्मनी में भारतीय कंपनियों के राजस्व में आईटी उद्योग की हिस्सेदारी मात्र नौ फीसदी है। सर्वेक्षण में भाग लेने वाले 80 फीसदी सीईओ ने कहा कि इनोवेशन और टेक्नालाजी जर्मनी में निवेश करने का महत्वपूर्ण कारक है। इसके लिए भारतीय कंपनियों विलय और अधिग्रहण पर जोर दे रही है। भारतीय कंपनियों ने जो अधिग्रहण किये हैं उनमें 20 फीसदी कंपनियां ऑटोमोटिव क्षेत्र से जुड़ी हुयी है जबकि एक तिहाई कंपनियां मेकिनकल इंजीनियरिंग क्षेत्र की हैं।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।