BREAKING NEWS

खून की नदियां' जैसे बयान से किसे चुनौती दे रहा विपक्ष : अमित शाह◾Top 20 News 22-May : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत ने किया रिसैट-2बी का प्रक्षेपण, घने बादलों के बावजूद भी ले सकेगा पृथ्वी की तस्वीरें◾न्यायालय ने बैरकपुर सीट से भाजपा प्रत्याशी को 28 तक गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान किया◾विपक्ष हारा हुआ है, वीवीपैट मुद्दे पर हताशा उनकी हार का संकेत : पासवान◾हेलीकॉप्टर घोटाला : ईडी ने कथित रक्षा एजेंट के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र किया दायर◾वीवीपैट पर्चियों की गिनती की मांग किस आधार पर खारिज की गई : कांग्रेस◾नये सांसदों को आते ही मिलेगा स्थायी पहचान पत्र◾लोकसभा चुनाव 2019 : प्रज्ञा ठाकुर, आजम खान और मुनमुन सेन जैसे नेता अपने बयानों से सुर्खियों में छाये रहे◾VVPAT मिलान की प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं होगा : चुनाव आयोग◾लोकसभा चुनाव में 724 महिला उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला कल !◾एग्जिट पोल शेयर बाजार में तेजी लाने और विपक्षी दलों की एकता तोड़ने के लिए : मोइली◾ईवीएम को लेकर उदित राज का विवादास्पद बयान, बोले- क्या सुप्रीम कोर्ट भी धांधली में शामिल है◾परिवार का रंग नहीं जमने पर विपक्ष साध रहा EVM पर निशाना : नकवी◾राहुल ने कार्यकर्ताओं से कहा- फर्जी एग्जिट पोल से निराश न हों, रहें सतर्क◾लोकसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने की 150 सभाएं और रोड शो◾PM मोदी पर राहुल ने की थी विवादित टिप्‍पणी, FIR दर्ज हो या नहीं, अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा◾...तो कांग्रेस और राहुल गांधी के लिए सहज स्थिति हो सकती है सीटों का शतक !◾लोकसभा चुनाव की मतगणना कल, परिणामों में विलंब की संभावना◾भाजपा उम्मीदवार की गिरफ्तारी से बचने संबंधी याचिका पर सुनवाई करने पर सहमत SC◾

पटरी पर लौट रही है अर्थव्यवस्था : जेटली

गांधीनगर : केंद्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज कहा कि मंदी के लंबे दौर के बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था अब पटरी पर लौट रही है हालांकि कुछ विकसित देशों की 'अंदर की ओर देखने' की नीति के चलते इसके फिर से छिन्न-भिन्न होने की संभावना भी बढ रही है।

श्री जेटली ने आज यहां अफ्रीकी विकास बैंक समूह के निदेशक मंडल की वार्षिक बैठक के उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी मे कहा कि दुनिया अनिश्चितता के दौर से गुजर रही थी पर आर्थिक गतिविधियों में मंदी के लंबे दौर के बाद आखिरकार सुधार की शुरूआत हो गयी है। पिछले साल वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर 3.5 प्रतिशत थी जो इस साल सुधर कर 3.6 प्रतिशत रहने की उम्मीद है। लेकिन कुछ बडी अर्थव्यवस्थाओं के 'भीतर की ओर' देखने (वैश्विकरण के उलट) की नीति के चलते इसके फिर से छिन्न भिन्न होने की संभावना भी बढ रही है। उन्होंने इस संदर्भ में अपने हाल के अमेरिका दौरे के दौरान हुए मिश्रित अनुभव का भी जिक्र किया।

हालांकि उन्होंने कहा कि अफ्रीका और भारत दोनो बेहतर कर रहे हैं और यह सदी केवल एशिया के बजाय एशिया और अफ्रीका दोनो की होगी। दुनिया की एक तिहाई आबादी भारत और अफ्रीका में रहती है। कई तरह के आर्थिक सुधारों के चलते भारत की आर्थिक वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष के दौरान 7.7 प्रतिशत रहेगी।

अफ्रीका भी अब बेहतर कर रहा है और इसकी औसत वृद्धि दर भी इस साल 3.4 प्रतिशत रहेगी। वहां मध्यम वर्ग की आबादी भी बढ रही है जिसकी क्रय क्षमता बढने से वहां की अर्थव्यवस्था को और मजबूती मिलेगी। भारत और अफ्रीका को एक दूसरे पर बिना कोई शर्त थोपे सहयोग के रास्ते पर चलते रहना चाहिए। दोनो के बीच सहयोग और संबंध और मजबूत हो रहे हैं। हाल के समय में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने 16 अफ्रीकी देशों का दौरा किया है और ऐसा एक भी अफ्रीकी देश नहीं जहां कोई न कोई भारतीय मंत्री न गया हो। यह महज संयोग नहीं है।

श्री जेटली ने यह भी कहा कि अफ्रीका में कृषि क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। अफ्रीका में पूरे विश्व की 60 प्रतिशत कृषि योज्ञ भूमि है जबकि वहां अब तक केवल 10 प्रतिशत खाद्यान्न का ही उत्पादन होता है। दूसरी तरह दुनिया की आबादी के 17 प्रतिशत का बोझ संभालने वाले भारत के हिस्से ऐसी केवल 2 प्रतिशत भूमि ही है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि भारत और अफ्रीका के बीच परस्पर बढते संबंध भविष्य में और मजबूत होंगे।