BREAKING NEWS

आज का राशिफल (28 नवंबर 2022)◾राष्ट्रपति मुर्मू 29 नवंबर को हरियाणा रोडवेज में E -Ticket प्रणाली की शुरुआत करेंगी,छह डिपो में होगी लागू◾AAP पर निशाना साधते हुए बोले PM - नर्मदा विरोधी ताकतों के समर्थकों को गुजरात में पैर जमाने देने का पाप न करें◾CM गहलोत को कुछ शब्दों का नहीं करना चाहिए था इस्तेमाल, हम संगठन को मजबूत करने वाला लेंगे फैसला : जयराम ◾Kerala : बंदरगाह विरोधी प्रदर्शनकारियों ने थाने पर किया हमला, 9 पुलिसकर्मी घायल, मीडिया से भी की बदसलूकी ◾Mangaluru Blast : कर्नाटक पुलिस ने तमिलनाडु में कई स्थानों पर की छापेमारी, लोगों को किया तलब ◾गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में हुआ शामिल IPL 2022 फाइनल, BCCI सचिव जय शाह ने दी जानकारी◾FIFA World Cup 2022 : जापान को कोस्टा रिका ने हराया, 1-0 से दी मात◾PM मोदी ने कहा- कांग्रेस और अन्य दल आतंकवाद को कामयाबी के ‘शॉर्टकट’ के रूप में देखते ◾ Punjab: पंजाब में दिल दहला देने वाला मामला, ट्रेन की चपेट में आने से तीन की मौत, जानें पूरी स्थिति◾Delhi: हाई कोर्ट ने कहा- मसाज पार्लर की आड़ में होने वाली वेश्यावृत्ति रोकने के लिए कदम उठाए दिल्ली पुलिस◾Bihar News: उमेश कुशवाहा को फिर मिला मौका, बने रहेंगे जदयू की बिहार इकाई के अध्यक्ष◾Maharashtra: महाराष्ट्र में दर्दनाक हादसा, रेलवे स्टेशन फुटओवर ब्रिज का गिरा एक हिस्सा, इतने लोग हुए घायल◾Mainpuri bypoll: डिंपल की अपील, मतदान से पहले अपने घर में ना सोएं सपा के नेता और कार्यकर्ता◾कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा- पार्टी के नेता नर्सरी के छात्र नहीं, जो एक दूसरे से बात नहीं कर सकते◾2019 Jamia violence: कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से मांगा स्पष्टीकरण◾दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, दो हथियार सप्लायरों को किया गिरफ्तार, बिश्नोई गैंग से है संबंध◾Pakistan: इमरान खान ने कहा- वजीराबाद में तीन शूटरों मुझे जाने से मारने की कोशिश की थी◾भाजपा का दावा, केजरीवाल के करीबी लोग सत्येंद्र जैन के वीडियो करा रहे हैं लीक◾बीजेपी सरकारें बिना तुष्टीकरण के सशक्तीकरण करती हैं: मुख्तार अब्बास नकवी◾

लॉकडाउन में डिस्काउंट पर बेचे गए डेढ़ लाख BS-IV वाहन, सुप्रीम कोर्ट ने अब रजिस्ट्रेशन पर लगाई रोक

उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 के कारण लागू लॉकडाउन खत्म होने के बाद 10 दिन के लिये दिल्ली-एनसीआर के अलावा देश के शेष हिस्सों में बीएस- IV मानक वाले वाहनों की बिक्र की अनुमति देने सबंधी अपना 27 मार्च का आदेश बुधवार को वापस ले लिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि आटो मोबाइल विक्रेताओं ने उसके निर्देशों का उल्लंघन किया है और लॉकडाउन के दौरान मार्च के अंतिम सप्ताह और 31 मार्च के बाद भी बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री की गयी। 

न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा, न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी की पीठ ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से मामले की सुनवाई करते हुये, ‘‘छल करके इस न्यायालय का लाभ नहीं उठायें।’’ शीर्ष अदालत ने 27 मार्च को अपने आदेश में कहा था कि वह 25 मार्च से देश में लॉकडाउन लागू होने की वजह से छह दिन के लिये बचे हुये बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री की अनुमति दे रहा है। 

न्यायालय ने बुधवार को कहा कि इस साल 31 मार्च के बाद बेचे गये बीएस IV मानक वाले वाहनों का पंजीकरण नहीं होगा। पीठ ने कहा कि मार्च के अंतिम सप्ताह में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू होने के दौरान बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री बढ़ी थी और यहां तक कि इनकी ऑन लाइन भी बिक्री की गयी थी। 

इस मामले में न्यायमित्र की भूमिका निभा रहीं वरिष्ठ अधिवक्ता अपराजिता सिंह ने बताया कि न्यायालय ने अपना 27 मार्च का आदेश वापस ले लिया है। मामले की सुनवाई के दौरान पीठ ने टिप्पणी की कि आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन ने उसके पहले के आदेश का अनुपालन नहीं किया और न्यायालय के निर्देशों का उल्लंघन किया है। 

कैबिनेट बैठक में गरीब कल्याण अन्न योजना और EPF सुविधा की अवधि बढ़ाने की दी गई मंजूरी

पीठ ने कहा कि मार्च के अंतिम सप्ताह और 31 मार्च के बाद भी बेचे गये बीएस-IV मानक वाले वाहनों के पंजीकरण के लिये अब आदेश का अनुरोध किया जा रहा है जबकि वह आदेश 2018 में पारित किया गया था। एसोसिएशन के वकील ने न्यायालय के पहले के आदेश का हवाला देते हुये कहा कि शीर्ष अदालत ने कहा था कि अगर बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री 31 मार्च से पहले होती है तो उनका पंजीकरण किया जायेगा। 

इस पर पीठ ने पूछा कि डीलरों ने मार्च में लॉकडाउन के दौरान ये वाहन कैसे बेचे।पीठ ने कहा कि भारत सरकार के ई-वाहन पोर्टल पर 17,000 से अधिक वाहनों का विवरण अपलोड नहीं किया गया है पीठ ने कहा कि वह सरकार से कहेगी कि ई-वाहनों के आंकड़ों की जांच करे। पीठ ने कहा कि वह सिर्फ उन्हीं वाहनों के पंजीकरण की अनुमति देगी जिनका विवरण 31 मार्च तक ई-वाहन पोर्टल पर अपलोड किया जा चुका था। 

इसके साथ ही न्यायालय ने आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन से कहा कि वह बेचे गये वाहनों का विवरण सरकार को मुहैया कराये। न्यायलाय इस मामले में अब 23 जुलाई को आगे सुनवाई करेगा। शीर्ष अदालत ने अक्टूबर, 2018 में कहा था कि एक अप्रैल, 2020 से भारत में बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री और पंजीकरण नहीं होगा। केन्द्र ने 2016 में घोषणा की थी कि भारत बीएस-V मानक की बजाय 2020 से बीएस-VI मानक अपनायेगा। 

इस साल मार्च मे न्यायालय को सूचित किया गया था कि स्टाक में इस समय बीएस-IV मानक वाले बचे हुये वाहनों में करीब सात लाख दुपहिया, 15,000 कारें और 12,000 वाणिज्यिक वाहन शामिल है। इसी तरह न्यायालय को यह भी बताया गया था कि 1,05,000 दुपहिया, 2,250 यात्री कारें और 2000 वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री हुयी थी लेकिन उनका पंजीकरण नहीं हुआ था। 

वैज्ञानिकों के दावे को स्वीकारते हुए WHO ने माना हवा से भी फैल सकता है कोरोना संक्रमण