BREAKING NEWS

कमलनाथ ने CM शिवराज पर साधा निशाना, कहा- वह सिर्फ झूठ बोलने व गुमराह करने की राजनीति करते हैं◾पुलवामा हमले पर पाक मंत्री की स्वीकारोक्ति के बाद राहुल गांधी मांगें माफी : जे पी नड्डा◾बल्लभगढ़ हत्याकांड से कांग्रेस का कोई संबंध नहीं, कुमारी शैलजा बोली- भाजपा कर रही दुष्प्रचार◾तुर्की में शक्तिशाली भूकंप में चार लोगों की मौत, कई इमारतें गिरीं◾अनिल बैजल ने दिल्ली में अंतर-राज्यीय बस सेवा फिर से शुरू करने की दी मंजूरी, सभी सीटों पर बैठ सकेंगे यात्री◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾मध्यप्रदेश उपचुनाव : कांग्रेस को बड़ा झटका, चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा किया रद्द◾विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई के​ लिए पाक पर कोई 'दबाव नहीं' था : पाकिस्तान ◾पीएम मोदी ने सरदार पटेल प्राणी उद्यान में ‘जंगल सफारी’ का उद्घाटन किया ◾टेक्नोलॉजी में अमेरिका को टक्कर देने के लिए चीन ने बनाया प्लान, चौतरफा विरोध के बीच उठाया बड़ा कदम ◾हंदवाड़ा में चेकिंग के दौरान लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े 2 आतंकी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद◾उत्तर प्रदेश : राजनीतिक दुश्मनी के चलते अमेठी में ग्राम प्रधान के पति को जिंदा जलाया◾फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रों के खिलाफ जाकिर नाइक ने उगला जहर, कहा-मिलेगी दर्दनाक सजा◾केवडिया : पीएम मोदी ने की न्यूट्री ट्रेन की सवारी, एकता मॉल और बच्चों के पोषक पार्क का किया उद्घाटन◾पीएम मोदी के दो दिवसीय गुजरात दौरे की हुई शुरुआत, पांच लाख पौधे वाले आरोग्य वन का किया लोकार्पण ◾बिहार : दूसरे चरण के चुनाव में आरजेडी,जेडीयू के सामने बड़ी चुनौती, सिवान में कांटे की टक्कर ◾राष्ट्रपति, पीएम सहित कांग्रेस नेताओं ने 'मिलाद-उन-नबी' के मौके पर देशवासियों को दी बधाई◾चीन द्वारा पूर्वी लद्दाख में दोबारा जमीन कब्जाने वाली रिपोर्ट को भारतीय सेना ने फर्जी करार दिया ◾प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर में 'टीआरएफ' द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा की◾IPL -13 : राजस्थान रॉयल्स की जीत होगी बेहद जरूरी हार के साथ हो सकती है प्लेऑफ की दौड़ से बाहर ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

लॉकडाउन में डिस्काउंट पर बेचे गए डेढ़ लाख BS-IV वाहन, सुप्रीम कोर्ट ने अब रजिस्ट्रेशन पर लगाई रोक

उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 के कारण लागू लॉकडाउन खत्म होने के बाद 10 दिन के लिये दिल्ली-एनसीआर के अलावा देश के शेष हिस्सों में बीएस- IV मानक वाले वाहनों की बिक्र की अनुमति देने सबंधी अपना 27 मार्च का आदेश बुधवार को वापस ले लिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि आटो मोबाइल विक्रेताओं ने उसके निर्देशों का उल्लंघन किया है और लॉकडाउन के दौरान मार्च के अंतिम सप्ताह और 31 मार्च के बाद भी बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री की गयी। 

न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा, न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी की पीठ ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से मामले की सुनवाई करते हुये, ‘‘छल करके इस न्यायालय का लाभ नहीं उठायें।’’ शीर्ष अदालत ने 27 मार्च को अपने आदेश में कहा था कि वह 25 मार्च से देश में लॉकडाउन लागू होने की वजह से छह दिन के लिये बचे हुये बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री की अनुमति दे रहा है। 

न्यायालय ने बुधवार को कहा कि इस साल 31 मार्च के बाद बेचे गये बीएस IV मानक वाले वाहनों का पंजीकरण नहीं होगा। पीठ ने कहा कि मार्च के अंतिम सप्ताह में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू होने के दौरान बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री बढ़ी थी और यहां तक कि इनकी ऑन लाइन भी बिक्री की गयी थी। 

इस मामले में न्यायमित्र की भूमिका निभा रहीं वरिष्ठ अधिवक्ता अपराजिता सिंह ने बताया कि न्यायालय ने अपना 27 मार्च का आदेश वापस ले लिया है। मामले की सुनवाई के दौरान पीठ ने टिप्पणी की कि आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन ने उसके पहले के आदेश का अनुपालन नहीं किया और न्यायालय के निर्देशों का उल्लंघन किया है। 

कैबिनेट बैठक में गरीब कल्याण अन्न योजना और EPF सुविधा की अवधि बढ़ाने की दी गई मंजूरी

पीठ ने कहा कि मार्च के अंतिम सप्ताह और 31 मार्च के बाद भी बेचे गये बीएस-IV मानक वाले वाहनों के पंजीकरण के लिये अब आदेश का अनुरोध किया जा रहा है जबकि वह आदेश 2018 में पारित किया गया था। एसोसिएशन के वकील ने न्यायालय के पहले के आदेश का हवाला देते हुये कहा कि शीर्ष अदालत ने कहा था कि अगर बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री 31 मार्च से पहले होती है तो उनका पंजीकरण किया जायेगा। 

इस पर पीठ ने पूछा कि डीलरों ने मार्च में लॉकडाउन के दौरान ये वाहन कैसे बेचे।पीठ ने कहा कि भारत सरकार के ई-वाहन पोर्टल पर 17,000 से अधिक वाहनों का विवरण अपलोड नहीं किया गया है पीठ ने कहा कि वह सरकार से कहेगी कि ई-वाहनों के आंकड़ों की जांच करे। पीठ ने कहा कि वह सिर्फ उन्हीं वाहनों के पंजीकरण की अनुमति देगी जिनका विवरण 31 मार्च तक ई-वाहन पोर्टल पर अपलोड किया जा चुका था। 

इसके साथ ही न्यायालय ने आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन से कहा कि वह बेचे गये वाहनों का विवरण सरकार को मुहैया कराये। न्यायलाय इस मामले में अब 23 जुलाई को आगे सुनवाई करेगा। शीर्ष अदालत ने अक्टूबर, 2018 में कहा था कि एक अप्रैल, 2020 से भारत में बीएस-IV मानक वाले वाहनों की बिक्री और पंजीकरण नहीं होगा। केन्द्र ने 2016 में घोषणा की थी कि भारत बीएस-V मानक की बजाय 2020 से बीएस-VI मानक अपनायेगा। 

इस साल मार्च मे न्यायालय को सूचित किया गया था कि स्टाक में इस समय बीएस-IV मानक वाले बचे हुये वाहनों में करीब सात लाख दुपहिया, 15,000 कारें और 12,000 वाणिज्यिक वाहन शामिल है। इसी तरह न्यायालय को यह भी बताया गया था कि 1,05,000 दुपहिया, 2,250 यात्री कारें और 2000 वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री हुयी थी लेकिन उनका पंजीकरण नहीं हुआ था। 

वैज्ञानिकों के दावे को स्वीकारते हुए WHO ने माना हवा से भी फैल सकता है कोरोना संक्रमण