BREAKING NEWS

चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾गृह मंत्री अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र से 6,600 करोड़ रुपये की सहायता मांगी ◾पाकिस्तान ने भारत के साथ डाक सेवा बंद की, भारत ने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन बताया ◾सरकार ने सियाचिन को पर्यटकों के लिए खोलने का फैसला किया : राजनाथ सिंह ◾TOP 20 NEWS 21 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- अगर पाक ने घुसपैठ कराना बंद नहीं की तो सशस्त्र बल उसे मुहंतोड़ जवाब देते रहेंगे◾भारत करतारपुर पर 23 को करेगा एग्रीमेंट, आस्था के नाम पर श्रद्धालुओं से वसूली पर अड़ा पाक ◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग समाप्त, जानें किस-किस ने डाला वोट◾उपचुनाव : यूपी समेत 17 राज्यों में वोटिंग समाप्त, जानें कहां कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त, जानें कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾आरे विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मेट्रो कंस्ट्रक्शन पर नहीं लगाई कोई रोक ◾BJP विधायक के वीडियो पर राहुल गांधी का तंज, कहा- पार्टी में सबसे ईमानदार व्यक्ति हैं बख्शीश सिंह◾संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलेगा◾शरद पवार ने डाला वोट, लोगों से की लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल करने की अपील◾संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले- बीते 90 वर्षों से हमें निशाना बनाया जा रहा है ◾हरियाणा में मुकाबला सिर्फ BJP और कांग्रेस के बीच : भूपिंदर सिंह हुड्डा◾केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾

व्यापार

एल्टिको में संकट के लिए निजी क्षेत्र के बैंकों का ‘स्वार्थ’ जिम्मेदार : रजनीश कुमार

लेह : भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के चेयरमैन रजनीश कुमार का कहना है कि एल्टिको कैपिटल में संकट के लिए निजी क्षेत्र के एक बैंक का ‘स्वार्थ’ जिम्मेदार है। अपने खुद के पैसे को सुरक्षित रखने के लिए उठाया गया यह एकतरफा कदम बड़े स्तर पर वित्तीय प्रणाली को संकट में डाल सकता है। रीयल्टी क्षेत्र को प्रमुख तौर पर ऋण देने वाली गैर-बैंकिग कंपनी एल्टिको पर बैंकों का 4,500 करोड़ रुपये से अधिक बकाया है।

लेकिन पिछले हफ्ते बाहर से वाणिज्यिक ऋण (ईसीबी) लेने के मामले में उसने करीब 20 करोड़ रुपये के ब्याज भुगतान में चूक की। एल्टिको के चूक करने से इसके व्यापक असर को लेकर चिंताएं होने लगीं। रपटों के अनुसार एक निजी बैंक ने कथित तौर पर अपने ऋण का जोखिम करने और खुद को सुरक्षित करने के लिए एल्टिको के प्रबंधन वाले एक सावधि जमा से पैसे उठा लिए। 

कुमार ने सप्ताहांत पर यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘‘यदि कोई बैंक ऐसा स्वार्थी कदम उठाता है तो इसका नकारात्मक असर बाकी पूरी प्रणाली पर पड़ता है।’’ उन्होंने कहा कि आप अपने 50-100 करोड़ रुपये के ऋण की देखभाल कर सकते हैं और अपने पैसे की बचत करके खुश हो सकते हैं, लेकिन प्रणाली को नुकसान पहुंचाना उचित नहीं है। हालांकि कुमार ने निजी क्षेत्र के बैंक का नाम नहीं लिया। 

एसबीआई चेयरमैन का यह बयान इसका समाधान ढूंढने के लिए होने वाली बैठक से पहले आया है। इंडिया रेटिंग्स के अनुसार एल्टिको पर संयुक्त अरब अमीरात के माशरेक बैंक का 660 करोड़ रुपये, एसबीआई का 400 करोड़ रुपये, यूटीआई म्यूचुअल फंड का 200 करोड़ रुपये और रिलायंस निप्पॉन का 150 करोड़ रुपये बकाया है। एल्टिको पिछले हफ्ते माशरेक बैंक का 19.97 करोड़ रुपये का ब्याज भुगतान करने में चूक गयी थी।