BREAKING NEWS

दुनिया में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा 57 लाख के करीब, अब तक 3 लाख 55 हजार से अधिक की मौत ◾मौसम खराब होने की वजह से Nasa और SpaceX का ऐतिहासिक एस्ट्रोनॉट लॉन्च टला◾कोविड-19 : देश में महामारी से अब तक 4500 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 58 हजार के पार ◾मुंबई के फॉर्च्यून होटल में लगी आग, 25 डॉक्टरों को बचाया गया ◾अमेरिका में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरने वालों की संख्या 1 लाख के पार ◾गुजरात में कोरोना के 376 नये मामले सामने आये, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15205 हुई ◾पड़ोसी देश नेपाल की राजनीतिक हालात पर बारीकी से नजर रख रहा है भारत◾कोरोना वायरस : आर्थिक संकट के बीच पंजाब सरकार ने केंद्र से मांगी 51,102 करोड रुपये की राजकोषीय सहायता◾चीन, भारत को अपने मतभेद बातचीत के जरिये सुलझाने चाहिए : चीनी राजदूत◾महाराष्ट्र : 24 घंटे में कोरोना से 105 लोगों की गई जान, मरीजों की संख्या 57 हजार के करीब◾उत्तर - मध्य भारत में भयंकर गर्मी का प्रकोप , लगातार दूसरे दिन दिल्ली में पारा 47 डिग्री के पार◾नक्शा विवाद में नेपाल ने अपने कदम पीछे खींचे, भारत के हिस्सों को नक्शे में दिखाने का प्रस्ताव वापस◾भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एल्टिको में संकट के लिए निजी क्षेत्र के बैंकों का ‘स्वार्थ’ जिम्मेदार : रजनीश कुमार

लेह : भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के चेयरमैन रजनीश कुमार का कहना है कि एल्टिको कैपिटल में संकट के लिए निजी क्षेत्र के एक बैंक का ‘स्वार्थ’ जिम्मेदार है। अपने खुद के पैसे को सुरक्षित रखने के लिए उठाया गया यह एकतरफा कदम बड़े स्तर पर वित्तीय प्रणाली को संकट में डाल सकता है। रीयल्टी क्षेत्र को प्रमुख तौर पर ऋण देने वाली गैर-बैंकिग कंपनी एल्टिको पर बैंकों का 4,500 करोड़ रुपये से अधिक बकाया है।

लेकिन पिछले हफ्ते बाहर से वाणिज्यिक ऋण (ईसीबी) लेने के मामले में उसने करीब 20 करोड़ रुपये के ब्याज भुगतान में चूक की। एल्टिको के चूक करने से इसके व्यापक असर को लेकर चिंताएं होने लगीं। रपटों के अनुसार एक निजी बैंक ने कथित तौर पर अपने ऋण का जोखिम करने और खुद को सुरक्षित करने के लिए एल्टिको के प्रबंधन वाले एक सावधि जमा से पैसे उठा लिए। 

कुमार ने सप्ताहांत पर यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘‘यदि कोई बैंक ऐसा स्वार्थी कदम उठाता है तो इसका नकारात्मक असर बाकी पूरी प्रणाली पर पड़ता है।’’ उन्होंने कहा कि आप अपने 50-100 करोड़ रुपये के ऋण की देखभाल कर सकते हैं और अपने पैसे की बचत करके खुश हो सकते हैं, लेकिन प्रणाली को नुकसान पहुंचाना उचित नहीं है। हालांकि कुमार ने निजी क्षेत्र के बैंक का नाम नहीं लिया। 

एसबीआई चेयरमैन का यह बयान इसका समाधान ढूंढने के लिए होने वाली बैठक से पहले आया है। इंडिया रेटिंग्स के अनुसार एल्टिको पर संयुक्त अरब अमीरात के माशरेक बैंक का 660 करोड़ रुपये, एसबीआई का 400 करोड़ रुपये, यूटीआई म्यूचुअल फंड का 200 करोड़ रुपये और रिलायंस निप्पॉन का 150 करोड़ रुपये बकाया है। एल्टिको पिछले हफ्ते माशरेक बैंक का 19.97 करोड़ रुपये का ब्याज भुगतान करने में चूक गयी थी।