BREAKING NEWS

SC की टिप्पणी पर बोले राकेश टिकैत-हम झगड़ा नहीं, गण का उत्सव मनाएंगे◾ट्रैक्टर रैली पर बोला SC- दिल्ली में किसे एंट्री देनी है, यह तय करना पुलिस का काम, बुधवार को अगली सुनवाई◾गुजरात को PM मोदी का एक और तोहफा, अहमदाबाद-सूरत मेट्रो प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास◾कृषि कानून को लेकर 55वें दिन प्रदर्शन जारी, आंदोलन तेज करते हुए अन्नदाता आज मनाएंगे 'महिला किसान दिवस' ◾सूट-बूट वाले दोस्तों का कर्ज माफ करने वाली मोदी सरकार अन्नदाताओं की पूंजी साफ करने में लगी है : राहुल गांधी ◾देश में पिछले 24 घंटे में 13788 नए कोरोना मामलों की पुष्टि, 145 लोगों ने गंवाई जान ◾दुनियाभर में कोरोना का कहर बरकरार, मरीजों का आंकड़ा 9.5 करोड़ तक पहुंचा ◾पीएम मोदी आज अहमदाबाद मेट्रो के दूसरे चरण और सूरत मेट्रो रेल परियोजना का करेंगे भूमि पूजन ◾कृषि कानूनों और किसान प्रदर्शनों संबंधी याचिकाओं पर SC आज करेगा सुनवाई ◾आज का राशिफल (18 जनवरी 2021)◾पाकिस्तानी सेना ने पुंछ में LoC पर की गोलाबारी, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब !◾कोविड-19 : देश में दो दिन में 2.24 लाख लोगों को लगाया गया टीका, प्रतिकूल प्रभाव के 447 मामले आए सामने ◾शाह ने लोगों से अपील की - कोरोना टीकाकरण के खिलाफ अफवाहों पर ध्यान ना दें◾तांडव विवाद : सूचना एंव प्रसारण मंत्रालय ने अमेजन प्राइम वीडियो से मांगा स्पष्टीकरण ◾सिंघु बॉर्डर : 'किसान गणतंत्र दिवस परेड' में दिखेगी कई राज्यों की कृषि-दशा◾कोरोना के खिलाफ जंग में भारत का कड़ा प्रहार, 224301 लाभार्थियों को कोविड-19 का टीका लगाया गया : स्वास्थ्य मंत्रालय◾ममता के गढ़ में शिवसेना भी कूदी, संजय राउत ने कहा- हम जल्द ही कोलकाता पहुंच रहे हैं ◾अखिलेश ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा- राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं को आईसीयू में भर्ती कर दिया ◾मोदी सरकार ने पाकिस्तान के भीतर दो बार ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ की, आतंकवादियों का किया खात्मा : शाह◾औरंगाबाद शहर का नाम बदलने को लेकर शिवसेना और कांग्रेस में हुई तीखी बहस◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

निवेश सलाहकारों, वितरकों की भूमिका अलग करने का प्रस्ताव

नई दिल्ली : बाजार नियामक सेबी ने निवेश सलाहकार कंपनियों के लिए नए नियमों का मसौदा जारी कर लोगों से 30 जनवरी तक राय मांगी है। इसमें निवेश परामर्शदाताओं के परामर्श कामकाज और निवेश उत्पादों के वितरण को अलग करने का प्रस्ताव है। इसके पीछे सेबी का मकसद नियामकीय ढांचे को मजबूत करना है। 

परिचर्चा पत्र के अनुसार भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने निवेश सलाहकारों को सुझाव दिया है कि उन्हें किसी भी निवेश सलाह के तहत लोगों को निश्चित रिर्टन मिलने का वादा नहीं करना चाहिए। सेबी ने निवेश परामर्श के लिए शुल्क लेने की प्रक्रिया तय करने और निवेश सलाहकारों के लिए नेटवर्थ में बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव भी रखा है। 

बाजार नियामक ने स्पष्ट किया है कि परामर्शदाताओं को अपने ग्राहकों को यह साफ तौर पर बताना चाहिए कि वह उनसे किसी भी तरह की ‘पावर ऑफ अटॉर्नी’ (ग्राहक के स्थान पर खुद निर्णय लेने की आजादी) नहीं लेंगे जो उन्हें स्वत: निवेश निर्णय लागू करने का अधिकार दे। 

सेबी को निवेश सलाहकारों के मनमाने तरीके से शुल्क लेने, निश्चित रिटर्न का वादा करने इत्यादि की बहुत सी शिकायतें मिली थीं जिसके चलते उसने नए नियमों के मसौदे पर लोगों से 30 जनवरी तक सुझाव मांगे हैं।