BREAKING NEWS

वर्चुअल समिट में PM मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने के लिए जाहिर की प्रतिबद्धता ◾राहुल के साथ बातचीत में राजीव बजाज ने कहा- लॉकडाउन से देश की अर्थव्यवस्था तबाह हो गई◾केरल में हथिनी की हत्या पर केंद्र गंभीर, जावड़ेकर बोले-दोषी को दी जाएगी कड़ी सजा◾कांग्रेस को मिल सकता है झटका,पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले AAP का दामन थाम सकते हैं सिद्धू ◾World Corona : दुनियाभर में करीब 4 लाख लोगों ने गंवाई जान, संक्रमितों का आंकड़ा 65 लाख के करीब ◾देश में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 2 लाख 17 हजार के करीब, अब तक 6000 से अधिक लोगों की मौत◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन आज वर्चुअल शिखर सम्मेलन में लेंगे हिस्सा◾US में वैश्विक महामारी का कहर जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 18 लाख के पार ◾लद्दाख सीमा पर कम हुआ तनाव, गलवान और चुसूल में दोनों देश की सेनाएं पीछे हटीं◾नोएडा में भूकंप के झटके हुए महसूस , रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3.2 मापी गई◾दिल्ली में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, बीते 24 घंटों में 1513 नए मामले आये सामने ◾कोविड-19: अब तक 40 लाख से अधिक नमूनों की जांच की गई , 48.31 फीसदी मरीज स्वस्थ ◾महाराष्ट्र में 24 घंटे में कोरोना से 122 लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 74,860 हुई◾गृह मंत्रालय ने विदेशी कारोबारियों, स्वास्थ्यसेवा पेशेवरों और इंजीनियरों को भारत आने की अनुमति दी ◾केंद्रीय मंत्रिमंडल के फैसलों पर पीएम मोदी बोले - किसानों की आय में होगी वृद्धि, बंदिशें हुई खत्म◾गुजरात में फैक्टरी की भट्ठी में भीषण विस्फोट, पांच की मौत, 40 कर्मी झुलसे ◾मुंबई में चक्रवाती तूफान निसर्ग का कहर खत्म, कम हुई हवाओं की रफ्तार◾महाराष्ट्र के रायगढ़ में निसर्ग तूफान ने मचाई तबाही, कई जगह गिरे पेड़ और बिजली के खंभे ◾मोदी कैबिनेट ने किसानों के हित में लिया बड़ा फैसला, वन नेशन-वन मार्केट पर की चर्चा◾अलीबाग के निकट पहुंचा चक्रवात निसर्ग, तीन घंटे में मुंबई-ठाणे से होकर गुजरेगा निसर्ग◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मंदी की मार से बुरी तरह प्रभावित हुई रेलवे की माल ढुलाई

सिकंदराबाद : देश की अर्थव्यवस्था में पिछले कुछ समय से जारी मंदी के कारण रेलवे की माल ढुलाई बुरी तरह प्रभावित हुई है और अकेले दक्षिण मध्य रेलवे की माल ढुलाई में एक-डेढ़ महीने में 15 लाख टन की गिरावट दर्ज की गयी है। दक्षिण मध्य रेलवे के महाप्रबंधक गजानन मल्लया ने कहा कि लौह अयस्क का आयात प्रतिबंधित हो गया है। आर्थिक गतिविधियों तथा ढांचागत निर्माण में सुस्ती के कारण सीमेंट की ढुलाई के ऑर्डर में भी कमी आयी है। इससे पिछले एक-डेढ़ महीने में माल परिवहन में हमें काफी नुकसान हुआ है। 

उन्होंने बताया कि गत एक-डेढ़ माह के दौरान दक्षिण मध्य जोन की माल ढुलाई में 15 लाख टन की कमी आई है हालांकि कोयला ढुलाई में वृद्धि से कुछ हद तक भरपाई हुई है, अन्यथा नुकसान और अधिक हो सकता था। उन्होंने उम्मीद जतायी कि माल ढुलाई को प्रोत्साहित करने के लिए रेल मंत्रालय द्वारा 11 सितंबर को की गयी घोषणाओं से बुकिंग बढ़ाने में मदद मिलेगी। रेल मंत्रालय ने व्यस्त अवधि के दौरान माल ढुलाई पर लगने वाला 15 प्रतिशत अधिभार माफ करने की घोषणा की है। 

इससे 01 अक्टूबर से 30 जून तक 2020 तक कंपनियों को इस अधिभार से राहत मिलेगी। इसके साथ माल भेजने के बाद खाली कंटेनर वापस मंगाने और कम दूरी तक कंटेनर भेजने में भी शुल्क में राहत की घोषणा की गयी है। माल ढुलाई के मामले में दक्षिण मध्य रेलवे भारतीय रेल का पांचवां सबसे बड़ा जोन है। यहां सबसे अधिक कोयला और सीमेंट की ढुलाई होती है। जोन की कुल माल ढुलाई में कोयले का योगदान 55 प्रतिशत, सीमेंट का 23 प्रतिशत, उर्वरक का पांच प्रतिशत और लौह अयस्क का चार प्रतिशत है। 

जोन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीने में अप्रैल से जुलाई के दौरान भी माल ढुलाई में हल्की गिरावट देखी गयी थी। यह पिछले वित्त वर्ष के पहले चार महीने के 391.6 लाख टन से घटकर मौजूदा वित्त वर्ष के पहले चार महीने में 390.2 लाख टन रह गया। इस प्रकार इसमें 0.4 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी है जबकि इस अवधि के लिए निर्धारित लक्ष्य से यह 4.40 प्रतिशत कम है।

उन्होंने बताया कि रेल मंत्रालय की घोषणाओं के बावजूद पहले एक महीने में स्थिति में सुधार की संभावना नहीं है। अकेले व्यस्त अवधि का अधिभार माफ करने से दक्षिण मध्य जोन को 500 करोड़ का नुकसान होगा। मल्लया ने बताया कि माल गा​ड़ियाें की रफ्तार बढ़कर ढुलाई को प्रोत्साहित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जोन में लाइन क्षमता का दोहन 120 से 150 प्रतिशत के बीच है। यात्री ट्रेनों की आवाजाही बहुत बढ़ने से माल गाड़ियों की रफ्तार कम हुई है। समर्पित माल ढुलाई गलियारों के शुरू होने के बाद इसमें सुधार की उम्मीद है।