BREAKING NEWS

राहुल ने अब्दुल्ला की हिरासत की निंदा की, तत्काल रिहाई की मांग की ◾शिवसेना के पार्षदों ने महापौर के कार्यालय में तोड़फोड़ की ◾नये वाहन कानून को लेकर ज्यादातर राज्य सहमत : गडकरी ◾यशवंत सिन्हा को श्रीनगर हवाईअड्डे से बाहर निकलने की नहीं मिली इजाजत, दिल्ली लौटे ◾2014 से पहले लोगों को लगता था कि क्या बहुदलीय लोकतंत्र विफल हो गया : गृह मंत्री◾देखें VIDEO : सुखोई 30 MKI से किया गया हवा से हवा में मार करने वाली ‘अस्त्र’ मिसाइल का प्रायोगिक परीक्षण◾नौसेना में 28 सितंबर को शामिल होगी स्कॉर्पीन श्रेणी की दूसरी पनडुब्बी ‘खंडेरी’ ◾भारत और चीनी सैनिकों के बीच झड़प नहीं हुई बल्कि यह तनातनी थी : जयशंकर ◾फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी लोकतंत्र पर दूसरा हमला : NC ◾JNU छात्रसंघ चुनाव में चारों पदों पर संयुक्त वाम के उम्मीदवारों की जीत ◾राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति सहित कई नेताओं ने PM मोदी को जन्मदिन की दी बधाई◾अयोध्या विवाद : SC ने वकीलों से बहस पूरी करने में लगने वाले समय के बारे में मांगी जानकारी◾J&K : पाकिस्तानी रेंजरों ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन , भारतीयों जवानों ने दिया मुहतोड़ जवाब◾TOP 20 NEWS 17 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत को एक पड़ोसी देश से ‘अलग तरह की चुनौती, उसे सामान्य व्यवहार करना चाहिए : जयशंकर ◾जन्मदिन पर PM मोदी ने मां हीराबेन से की मुलाकात, साथ में खाया खाना◾गृह मंत्री अमित शाह बोले- देश की सुरक्षा को लेकर कोई समझौता बर्दाश्त नहीं ◾आज देश सरदार पटेल के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार होते हुए देख रहा है : PM मोदी◾मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है◾शारदा चिट फंड घोटाला : कोलकाता HC ने राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई से किया इनकार◾

व्यापार

रियल स्टेट सेक्टर में आयेंगे अच्छे दिन

नई दिल्ली : भारत के रियल स्टेट सेक्टर में आने वाले दिनों में तेजी आ सकती है, क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा प्रमुख ब्याज दरों में कटौती करने और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की नई दरें लागू होने से नए वित्त वर्ष की पहली तिमाही में घरों की बिक्री बढ़ने के आसार हैं। सीबीआरई के चेयरमैन व सीईओ (भारत, दक्षिण-पूर्व एशिया मध्य-पूर्व व अफ्रीका) अंशुमन मैगजीन ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक ब्याज दरों में कटौती को लेकर सक्रिय रहा है, हालांकि ब्याज दरों में कटौती का हस्तांरण करने की जिम्मेदारी बैंकों पर है।

बैंकों द्वारा ब्जाज दरों में कटौती किए जाने पर ग्राहक खरीदारी के फैसले लेने को उत्साहित होंगे, जिससे आवासीय क्षेत्र में तेजी आएगी। आरबीआई ने पिछले सप्ताह गुरुवार को रेपो रेट में 25 आधार अंकों की कटौती की, जिसके बाद रेपो रेट अब छह फीसदी हो गया है। केंद्रीय बैंक ने वाणिज्यिक बैंकों से इस कटौती का हस्तांतरण ग्राहकों को करने को कहा है।

नेशनल रियल स्टेट डेवलपमेंट काउंसिल के प्रेसिडेंट निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए तरलता की जरूरत है। आरबीआई के कदम से उद्योग के रुझान में तेजी आने की संभावना है और इससे रियल स्टेट के अंशधारकों व घर खरीदने वालों को राहत मिलेगी।

रियल स्टेट को प्रोत्साहन मिलने का दूसरा प्रमुख कारक जीएसटी की नई दरें हैं, जो एक अप्रैल, 2019 से लागू हैं। जीएसटी परिषद ने फरवरी में निर्माणाधीन संपत्तियों पर जीएसटी की दर 18 फीसदी से घटाकर पांच फीसदी कर दी और सस्ते आवासीय परियोजनाओं पर यह दर आठ फीसदी से घटकर एक फीसदी हो गई। हालांकि नई दरों में इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ नहीं है।