BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

सेबी ने आईटी सेवाओं के लिए 15 कंपनियों का नाम छांटा

नई दिल्ली: भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने दो अलग-अलग आईटी सेवाओं के लिए टाटा कम्युनिकेशंस, विप्रो और टेक महिंद्रा सहित 15 कंपनियों का नाम छांटा है। इनमें आईटी ढांचे में सुरक्षा खामियों की पहचान और वर्गीकरण तथा सुरक्षा जोखिमों से संरक्षण जैसी सेवाएं शामिल हैं। सेबी ने सितंबर में अलग-अलग नोटिस जारी कर इच्छुक पक्षों से रुचि पत्र (ईओआई) मांगा था।

ये सेवाएं समूचे सूचना प्रौद्योगिकी ढांचे में सुरक्षा खामियों की पहचान और वर्गीकरण की पहचान करना और इन जोखिमों से निपटने के उपाय सुझाना हैं। दूसरी सेवा नेटवर्क और सुरक्षा परिचालन केंद्र से संबंधित है। इससे नियामक को रैन्समवेयर और इसी तरह के अन्य जोखिमों की पहचान करने और उनसे बचाव करने में मदद मिलेगी।

सूचना प्रौद्योगिकी ढांचे में सुरक्षा खामियों की पहचान के लिए सेबी ने सात बोली लगाने वाली कंपनियों विप्रो, अर्नस्ट एंड यंग एलएलपी, प्राइसवाटर हाउस, सुमेरु साफ्टवेयर साल्यूशंस, डिजिटल एज स्ट्रैटिटीज, एएए टेक्नोलॉजीज, आडीटाइम इन्फॉर्मेशन सिस्टम्स (इंडिया) लि. का नाम छांटा है। नेटवर्क और सुरक्षा परिचालन केंद्र की स्थापना के लिए नियामक ने टाटा कम्युनिकेशंस, विप्रो, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, सिफी टेक्नोलॉजीज, प्राइसवाटर हाउस, डाइमेंशन डेटा इंडिया प्राइवेट लि.का नाम छांटा गया है।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यह क्लिक करें।