BREAKING NEWS

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 25 हुई, 830 मामलों की पुष्टि ◾कोहरे की वजह दिल्ली आने वालीं 12 ट्रेनें 1 घंटे 30 मिनट से लेकर 4 घंटे 15 मिनट तक लेट ◾बालिका दिवस पर बोले नायडू- ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ हमारा संवैधानिक संकल्प है◾भ्रष्टाचार के मामले में 180 देशों में 80वें स्थान पर भारत◾अमित शाह ने केजरीवाल पर लगाया दिल्ली में दंगा भड़काने का आरोप ◾मैंने अपना भगवा रंग नहीं बदला है : उद्धव ठाकरे◾राज की मनसे ने अपनाया भगवा झंडा, घुसपैठियों को बाहर करने के लिए मोदी सरकार को समर्थन◾भाजपा नेता ने मोदी को चेताया, देश बढ़ रहा है दूसरे विभाजन की तरफ◾पासवान से मिला ब्राजील का प्रतिनिधिमंडल, एथेनॉल प्रौद्योगिकी साझेदारी पर बातचीत◾हिंदू समाज में साधु-संतों को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती : अखिलेश◾पदाधिकारी पार्टी के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने से बचें : ठाकरे◾दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾

आर्थिक सुस्ती गहराने से Sensex 770 अंक टूटा, Nifty में 225 अंक की गिरावट

सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर के निराशाजनक आंकड़ों, बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर सुस्त पड़ने और वाहन कंपनियों की अगस्त माह की बिक्री में दस प्रतिशत से अधिक की गिरावट से निवेशकों ने मंगलवार को घबराहटपूर्ण बिकवाली की जिससे बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 770 अंक नीचे आ गया। निफ्टी भी 225 अंक टूटकर बंद हुआ। 

बिकवाली का दौर चलने से निवेशकों की बाजार हैसियत 2.55 लाख करोड़ रुपये घट गई। पिछले दिनों सकल घरेलू उत्पाद, बुनियादी उद्योगों और वाहन बिक्री के आंकड़े आए हैं। ये सभी आंकड़े इस ओर इशारा कर रहे हैं कि देश में आर्थिक सुस्ती गहरा रही है। इससे अलावा अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध से भी बाजार धारणा प्रभावित हुई है। 

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों पर आधारित सेंसेक्स कारोबार के दौरान 867 अंक तक नीचे आने के बाद अंत में 769.88 अंक यानी 2.06 प्रतिशत के नुकसान से 36,562.91 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 225.35 अंक या 2.04 प्रतिशत के नुकसान से 10,797.90 अंक रह गया। 

सेंसेक्स की कंपनियों में आईसीआईसीआई बैंक, टाटा स्टील, वेदांता, एचडीएफसी, इंडसइंड बैंक, टाटा मोटर्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज और ओएनजीसी के शेयर 4.45 प्रतिशत तक गिर गये। रुपये में गिरावट के बीच दो आईटी कंपनियों टेकएम और एचसीएल टेक के शेयर मामूली लाभ के साथ बंद हुए। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 1.65 प्रतिशत तक की गिरावट आई। 

एमके वेल्थ मैनेजमेंट के शोध प्रमुख जोसफ थॉमस ने कहा, ‘‘पहली तिमाही के जीडीपी की वृद्धि दर पांच प्रतिशत पर आने और बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर सुस्त पड़ने से मुख्य रूप से बाजार में गिरावट आई। इसके अलावा नकारात्मक वैश्विक संकेतकों, अमेरिका चीन व्यापार युद्ध और दुनिया की अन्य अर्थव्यवस्थाओं में सुस्ती के रुख से भी धारणा प्रभावित हुई।’’ 

थॉमस ने कहा कि रोजगार के निचले स्तर और वित्त की उपलब्धता नहीं होने से विशेषरूप से ग्रामीण इलाकों में कमजोर घरेलू खपत की स्थिति बनी है। इन मुद्दों पर तत्काल ध्यान देने की जरूरत है। 

अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में मंगलवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 97 पैसे के नुकसान से 72.39 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। 

सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों के एकीकरण की घोषणा की है। इससे सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के शेयर भी टूट गए। विशेषज्ञों का कहना है कि इस कदम से निवेशकों में यह संदेश गया है कि सरकार न केवल बैंकों में नई पूंजी डाल रही है बल्कि वह उनके कामकाज संचालन में भी सुधार चाहती है। लेकिन फिर भी बैंकों का यह विलय बैंकों की भौगोलिक उपस्थिति और सांस्कृतिक विविधता को देखते हुये परेशान करन वाला लगता है। 

सरकार ने हालांकि, अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए कई कदम उठाए हैं लेकिन कमजोर वृहद आर्थिक आंकड़ों तथा अगस्त महीने में वाहन कंपनियों की बिक्री में दस प्रतिशत से अधिक की गिरावट से बाजार की धारणा प्रभावित हुई है। 

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के जीडीपी वृद्धि के आंकड़े गत शुक्रवार शेयर बाजार में कारोबार बंद होने के बाद जारी हुये। पहली तिमाही में जीडीपी वृद्धि पांच प्रतिशत रही जो कि पिछले छह साल में सबसे कम रही है। 

विनिर्माण और कृषि क्षेत्र के कमजोर प्रदर्शन को इसकी प्रमुख वजह बताया गया। इसके साथ ही आठ बुनियादी क्षेत्र के उद्योगों की वृद्धि दर जुलाई में घटकर 2.1 प्रतिशत रह गई। इसका भी कारोबारी धारणा पर असर रहा।

 

अन्य एशियाई बाजारों..चीन, हांगकांग, दक्षिण कोरिया और जापान में मिलाजुला रुख रहा। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार भी नुकसान में कारोबार कर रहे थे। वैश्विक बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल 1.07 प्रतिशत के नुकसान से 58.03 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था।